राजद सदस्यों ने उप मुख्यमंत्री को घेरा

0
208
file photo- Patna-July.25,2019-Former Bihar Chief Minister Rabri Devi is demonstrating with RJD legislators at the gate of Bihar Legislative Council in Patna during Monsoon Session

विधान परिषद् में आज एक बार फिर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी राजद सदस्यों के निशाने पर रहे। राजद के विधान पार्षदों ने मॉल बना कर उन पर सृजन घोटाले के काले धन को सफेद करने का आरोप लगाया। इस हंगामे में प्रश्नकाल लगभग सात मिनट बाधित रहा।दरअसल, विधान परिषद् के कार्यकारी सभापति हारून रशीद ने जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू करने को कहा राजद के सुबोध कुमार ने कार्यस्थगन की सूचना दी। उन्होंने कहा कि राज्य में सृजन, शौचालय, चावल और इंटर टॉपर घोटाले के साथ ही राज्य खाद्य निगम के अनाज के परिवहन में घोटाला हुआ है। राजद सदस्य ने कहा कि उप मुख्यमंत्री कालेधन को सफेद करने में माहिर हैं। र्चच की जमीन पर आलीशान मॉल का निर्माण करवा रहे हैं। जब यह मामला उजागर हुआ तब वह कह रहे हैं कि वह उनका मॉल नहीं है। उधर, सत्ता पक्ष से भाजपा के रजनीश कुमार समेत अन्य सदस्य जोर-जोर से बोलने लगे, जिसके कारण सदन कुछ देर के लिए हंगामे में डूब गया। इससे पूर्व कार्यकारी सभापति ने परिषद की कार्यसंचालन नियमावली का हवाला देकर श्री कुमार के कार्यस्थगन सूचना को अमान्य कर दिया था।

यह भी पढ़े  शराबबंदी से समझौते का सवाल ही नहीं : मुख्यमंत्री

प्रायश्चित दिवस मनाये राजद : उपमुख्यमंत्री

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि आरक्षण पर दलितों-पिछड़ों को गुमराह कर 2015 में लालू प्रसाद की पार्टी नीतीश कुमार की साफ छवि के सहारे जब सत्ता में लौटी, तब फिर भ्रष्टाचार और अपराध को बढ़ावा देकर सम्पत्ति बनाने में जुट गई थी। एक तरफ बाहुबली पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को जमानत मिली और नाबालिग से बलात्कार करने वाले तत्कालीन विधायक राजबल्लभ यादव का बचाव किया गया, दूसरी तरफ पार्टी प्रमुख का परिवार जमीन, माल और मिट्टी घोटाले में लिप्त होता रहा। उन्होंने कहा कि राजद को महागठबंधन सरकार गिरने की दूसरी बरसी पर प्रायश्चित दिवस मनाना चाहिए। श्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि बिहार में जिस दल पर मुख्य विरोधी दल की जिम्मेवारी है, उसके नेता तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव में पार्टी का सूपड़ा साफ होने के बाद 33 दिन तक जनता और विधायिका की पहुंच से बाहर रहे। 25 दिन तक विधानसभा की कार्यवाही में शामिल नहीं हुए।

यह भी पढ़े  चुनाव तक खामोश रहेंगे निखिल, पप्पू का टूटा धैर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here