स्वास्थ मंत्री के इस्तीफे के लिए हंगामा

0
449

स्वास्थ मंत्री मंगल पांडे के इस्तीफे की मांग को लेकर विपक्षी सदस्यों ने सदन में जमकर हंगामा किया। हंगामा के कारण सदन की कार्यवाही आज ज्यादा देर नहीं चल सकी। स्वास्थ विभाग के बजट पर विधानसभा में जैसे ही र्चचा शुरू हुई विपक्षी सदस्यों ने वेल में आकर हंगामा करना शुरू कर दिया। चमकी बुखार में बच्चों की मौत के लिए स्वास्थ मंत्री को जिम्मेवार ठहराते हुए विपक्षी सदस्यों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। हंगामा के कारण विधानसभा अध्यक्ष ने 2 बजकर 27 मिनट पर सदन की कार्यवाही 4 बजकर 50 मिनट तक के लिए स्थगित कर दी। शाम में जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्षी सदस्यों ने पुन: हंगामा शुरू किया। हंगामा के बीच स्वास्य विभाग के लिए 96 अरब 22 करोड़ 75 हजार 89 हजार रुपये की बजट की स्वीकृति दी गयी। स्वास्थ मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि राज्य के आठ मेडिकल कॉलेज में सीटी स्कैन की सुविधा उपलब्ध करायी है । वर्ष 2016 में जहां राज्य के 67 प्रखंड में कालाजार था वहीं 2018 में यह संख्या घटकर 30 हो गयी है । इस प्रकार कालाजार प्रभावित प्रखंडों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है । पटना एवं दरभंगा में 100 शैय्या वाले नये सदर अस्पताल की स्थापना की जा रही है । सदर अस्पताल जहानाबाद, कटिहार एवं नवादा में नये भवन निर्मा़ण किये जाने की योजना प्रस्तावित है । राज्य के 12 सदर अस्पतालों के अतिरिक्त क्षमता का विकसित करने हेतु कार्य प्रक्रियाधीन हैं । लोक नायक जयप्रकाश नाराय़ण अस्पताल, राजवंशी नगर के 400 बेड के हड्डी रोग के विशिष्ट अस्पताल के रूप में परि़वर्तित करने की योजना है । साथ ही भारत सरकार की योजनान्र्तत 9 स्तरीय ट्रामा सेंटर की स्थापना हेतु प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गयी है । मोकामा प्रख़ड स्थित रेफरल अस्पताल के परिसर में लेवेल तीन स्तरीय ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने का नि़र्णय राज्य सरकार द्वारा लिया गया है । आईजीएमएस,पटना में कुल 15 सुपर स्पेसलिटी के स्थापित करने का प्रस्ताव दिया जाता रहा है, जो राज्य के मेडिकल कॉलेज में 440 की वृद्िहुई है । दो नये मेडिकल कॉलेज को 250 सीटों की अनुमति प्राप्त हुई है । सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजनान्र्तत कन्या को टीकाकऱण के उपरांत 2 हजार रुपये की राशि दी जा रही है। राज्य में 9 मोडल टीकाकऱण केन्द्र विकसित कि या है तथा 10 प्रस्तावति हैं । प्रजनन दर में गिरावट लाने की दिशा में परिवार कल्या़ण कार्यक्रम अंर्तगत 9 अक्तूबर 2017 को गर्भ निरोधक इंजेक्शन एवं सेंटर वोमेन छाया सप्ताहिक को बॉस्केट आफ च्वाइस में शामिल किया गया व इसे स्वास्य उप केन्द्र तक कार्यान्वित करने की कार्रवाई की जा रही है। उपयरुक्त प्रयासों से कुल प्रजनन दर में कमी आयी है। इसी तरीके से संविदा पर नियोजित आयुष चिकित्सकों का मानदेय बढ़ाकर ,एलोपैथी चिकित्सकों के समान 44 हजार रुपया प्रतिमाह किया गया है । लोकहित साझेदारी के तहत जयप्रभा ब्लड बैंक में निर्मा़णाध्ीन 500 शैया वाले मेदान्ता अस्पताल में ओपीडी की सुविधा इस वर्ष के अंत तक प्रारंभ हो जायेगी तथा आगामी वर्ष ओपीडी सुविध पू़र्णत: संचालित हो जायेगी। स्वास्थ के विभिन्न जो मानक होते हैं। उन मानकों में भी काफी सुधर हुआ है, चाहे वह मातृ मृत्यु दर हो, शिशु मृत्यु दर हो या 5 साल से कम बच्चों का मृत्यु दर हो या इम्यूनाइजेशन हो।

यह भी पढ़े  सांस्कृतिक सत्ताओं से साक्षात्कार कराता है भिखारी ठाकुर का ‘‘गबरघिचोर’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here