विधान सभा में हंगामा, राजद के विधायक ने दी इस्तीफे की धमकी

0
281
Patna-July.9,2019-RJD legislators are demonstrating outside of Bihar Assembly in Patna during Monsoon Session.

विधानसभा के मनसून सत्र के दौरान बुधवार को विपक्षी सदस्यों ने सदन के बाहर जमकर हंगामा किया। राजद सदस्यों ने स्वास्य मंत्री मंगल पांडेय के इस्तीफे की मांग को लेकर हंगामा किया। वहीं राजद के भाई वीरेंद्र ने दो अक्टूबर तक बिहार के ओडीएफ होने पर कहा कि जमीनी स्तर पर काम नहीं हो रहा है, केवल कागजी पर काम हो रहा है। वहीं, विधायक प्रो. अब्दुल गफूर ने भी स्वास्य मंत्री से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग की। साथ ही कहा कि जब तक इस्तीफा नहीं देंगे, हम अपनी मांग जारी रखेंगे। सरकारी विकास कायरे को गति देने के लिए सभी पंचायतों में बैंक शाखा खोलने की मांग पर लाये गये ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार बैंकिंग आउटलेट से ग्राहक सेवा केंद्रों को सम्मिलित किया गया है। राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति द्वारा सूबे में पांच हजार से अधिक जनसंख्या वाले गांवों, जहां बैंकिंग आउटलेट नहीं हैं, को चिन्हित करने की प्रक्रिया शुरू की गयी है। साथ ही 602 गांवों की सूची तैयार करने के बाद 477 गांवों में बैंकिंग आउटलेट खोले जा चुके हैं। शेष 125 गांवों में भी बैंकिंग आउटलेट जल्द खोलने का निर्देश दिया गया है। वहीं, इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की 6700 सेवा केंद्रों के माध्यम से गांवों तक बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही है। विधानसभा की कार्यवाही के दौरान जल संसाधन मंत्री के जवाब को चुनौती देते हुए राजद के विधायक अब्दुस सुभान ने इस्तीफे की धमकी दी। इस पर विधान सभाध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने सरकार को मामले की जांच कराने का निर्देश दिया। पंचायती राज मंत्री ने कहा कि सूबे की सभी पंचायतों में पंचायत भवन बनेगा। उन्होंने कहा कि सूबे की चिह्नित 3435 पंचायतों में से 1078 में काम शुरू हो चुका है। साथ ही कहा कि पंचायतों में सरकारी जमीन नहीं होने पर भूमिदाता से जमीन ली जायेगी। ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री ने 156 अरब 56 करोड़ 3 लाख 55 हजार रुपये बजट का अनुदान मांग पेश किया। बजट पर र्चचा शुरू होने पर राजद ने सदन में कटौती प्रस्ताव पेश किया। बजट पर र्चचा के दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष में तू-तू, मैं-मैं शुरू हो गयी। राजद के भाई वीरेंद्र ने शौचालय योजना में छह हजार रुपये वसूलने का आरोप लगाया। इस पर सत्ता पक्ष के लोग भड़क गये और दोनों पक्षों में तू-तू, मैं-मैं शुरू हो गयी। वहीं, ग्रामीण विकास मंत्री ने आरोपों को आधारहीन बताया।

यह भी पढ़े  प्रधानमंत्री की विकास यात्रा से घबरा गए हैं विपक्षी दलों के नेता :मंगल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here