सूखे को लेकर विधान सभा में विपक्ष ने किया हंगामा

0
158
ATNA - BIHAR VIDAN PARISHAD ME APNA MANGO KO LAKAR PRADSHAN KARTA CONGRASH AND R . J . D MAMBAR SATH RABRI DAVI

बिहार विधानसभा में बृहस्पतिवार को कांग्रेस, राजद और भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी-लेनिनवादी) के सदस्यों ने राज्य में सूखे की स्थिति पर सदन में र्चचा कराने की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया, जिसके कारण सभा की कार्यवाही निर्धारित समय से पूर्व ही स्थगित करनी पड़ी। विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही भाकपा माले के सत्यदेव राम और कांग्रेस के अवधेश कुमार सिंह ने राज्य में सूखे की स्थिति पर सदन में र्चचा के लिए दिये गये कार्यस्थगन प्रस्ताव को मंजूर करने की मांग की । इसपर सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने उनसे प्रश्नोत्तरकाल चलने देने और शून्य काल के दौरान इस मामले को उठाने का आग्रह किया। इसी दौरान संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि विपक्ष हर दिन कार्यस्थगन प्रस्ताव लाकर सदन का समय बर्बाद कर रहा है। महत्वपूर्ण विषय को सदन में लाने का नियम बना हुआ है और विपक्ष को उसी के तहत काम करना चाहिए। मंत्री के इतना कहते ही कांग्रेस और भाकपा माले के सदस्यों के साथ ही राजद के सदस्य भी शोरगुल करने लगे। इसपर कुमार ने कहा कि विपक्ष का एक मात्र मकसद हंगामा कर सदन की कार्यवाही को बाधित करना है। बाद में सभाध्यक्ष के आग्रह पर विपक्ष के सदस्य शांत हो गये और फिर प्रश्नोत्तरकाल शुरू हुआ। प्रश्नोत्तरकाल समाप्त होने के बाद सभाध्यक्ष चौधरी ने कांग्रेस के राजेश कुमार, सदानंद सिंह, अवधेश कुमार सिंह, राजद के ललित यादव, भाई विरेन्द्र और भाकपा माले के सुदामा प्रसाद तथा सत्यदेव राम की ओर से दिये गये कार्यस्थगन प्रस्ताव को नियमानुकूल नहीं पाते हुए अमान्य कर दिया। इसपर कांग्रेस के अवधेश कुमार सिंह ने कहा कि सूखा और जलस्तर में कमी पक्ष या विपक्ष का मामला नहीं है, यह पूरे बिहार का मामला है। यह ठीक है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस मामले में गंभीर हैं और 13 जुलाई को इसी मुद्दे पर सभी विधायकों के साथ विशेष विमर्श के लिए बैठक भी बुलाई है लेकिन इस मामले में सदन में भी र्चचा होनी चाहिए। सभाध्यक्ष चौधरी ने इसके बाद शून्यकाल की सूचना पढ़ने के लिए सदस्यों का नाम पुकारा। इसके बाद कांग्रेस के अवधेश कुमार सिंह और उनके पीछे राजद, कांग्रेस तथा भाकपा माले के सदस्य सदन के बीच में आ गये और शोरगुल करने लगे। विपक्षी सदस्य ‘‘सूखे से मरे किसान, नीतीश मोदी बने महान और किसान का है बुरा हाल, सरकार है माला माल’ के नारे लगा रहे थे। चौधरी ने सदन को अव्यवस्थित देख सभा की कार्यवाही दो बजे दिन तक के लिए स्थगित कर दी। हंगामे के कारण आज भोजनावकाश से पूर्व निर्धारित शून्यकाल और ध्यानाकर्षण नहीं हो सका।

यह भी पढ़े  समाज के चहुंमुखी विकास के लिए जारी रहेगा प्रयास : डॉ. प्रेम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here