पुणे हादसे में मारे गए सभी 17 बिहार के मजदुर , मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने की 2-2 लाख रुपये देने की घोषणा

0
185

महाराष्‍ट्र के पुणे में एक बड़ी घटना सामने आई है। पुणे के कोंढवा इलाके में एक सोसाइटी की दिवार झुग्गियों पर गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई। इसमें चार बच्‍चे भी शामिल है। घटना की सूचना मिलते ही एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंच गई है। राहत और बचाव का काम जारी है। इस बीच महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पुणे की घटना पर दुख जताया है। साथ ही उन्‍होंने इस मामले की गहराई से जांच करने की जिम्‍मेदारी पुणे के कलेक्‍टर को दी है।

महाराष्‍ट्र के पुणे के कोंढवा इलाके में एक सोसाइटी की दीवार झुग्गियों पर गिरने से मारे गये 17 मजदूर बिहार के कटिहार और मुजफ्फरपुर जिले के हैं. शुक्रवार की मध्य रात्रि करीब डेढ़ बजे यह हादसा हुआ. मारे गये मजदूरों में 15 कटिहार और दो छपरा के बताये जाते हैं. मजदूरों की मौत की सूचना परिजनों को मिलने के बाद गांव में कोहराम मच गया है. वहीं, बघार के 11 मजदूरों की मौत से सन्नाटा पसर गया है. परिजनों की आंखों से आंसू थम नहीं रहे हैं.
जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र के पुणे स्थित कोंढवा जिले में कटिहार के 15 मजदूरों की बारिश एवं भू-स्खलन से दीवार गिरने से दब कर मौत हो गयी है. जबकि, एक महिला पूजा देवी की स्थिति गंभीर बनी हुई है. भू-स्खलन से कुल 17 लोगों की मौत की बात सामने आ रही है. इनमें 15 मजदूर कटिहार और दो छपरा के मजदूर हैं.

यह भी पढ़े  बीजेपी से डरता है इसीलिए हर जगह कर देता है सरेंडर :लालू प्रसाद यादव

सूत्रों के हवाले से पता चला है कि सभी मजदूर एक निजी कंस्ट्रक्शन कंपनी में कार्यरत थे. उस निजी कंपनी की सार्वजनिक कार पार्किंग की दीवार ढहने से सभी मजदूरों की मौत दब कर हो गयी. कई मजदूरों के अब भी वहां दबे होने की आशंका है. राहत बचाव कार्य जारी है.

हादसे में जिन मजदूरों की मौतें हुई हैं, उनमें कटिहार जिले के बलरामपुर थाना क्षेत्र के बघार गांव के 11, दतियां गांव के एक तथा बलिया बेलोन थाना क्षेत्र के कालीगंज गांव के एक मजदूर शामिल हैं. मृतकों के परिजनों ने मुजफ्फरपुर के चार मजदूरों के मारे जाने की बात बतायी है. मृतकों की संख्या और भी बढ़ने की आशंका है. फिलहाल मलबा हटाने का काम जोर-शोर से चल रहा है.
कटिहार के स्थानीय सांसद दुलालचंद गोस्वामी ने मामले की जानकारी देते हुए कहा कि इस दुःखद घटना से हमलोग मर्माहत हैं. हम सभी पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं. उन्होंने कहा कि इस संबंध में दिल्ली और पटना सरकार के उच्च अधिकारियों तथा श्रम विभाग के अधिकारियों से भी लगातार बातचीत हो रही है. सभी मृत मजदूरों के शव को बिहार और कटिहार लाने के लिए बातचीत की जा रही है.
सारण के दो युवकों की हुई मौत

यह भी पढ़े  शक्ति प्रदर्शन को लेकर रैलियों का दौर भी शुरू

महाराष्ट्र के पुणे जिले के कोढ़वा बस्ती में भारी बारिश के कारण दीवार गिरने से सारण जिले के दो युवकों की मौत मौके पर ही हो गयी. जानकारी के अनुसार, काम से लौटने के बाद एक ही कमरे में सो रहे करीब दो दर्जन से अधिक लोग सो रहे थे, तभी आधी रात से शुरू हुई मूसलाधार बारिश और हवा की तेज थपेड़ों के कारण मजदूरों को रहने के लिए बने कमरे की ऊंची दीवार गिर पड़ी. इसमें 17 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. हादसे में सारण जिले के दरियापुर गांव निवासी स्व राजकिशोर सिंह के 35 वर्षीय पुत्र सुनील सिंह तथा बनकेरवां गांव निवासी राम नरेश सहनी का 37 वर्षिय पुत्र लक्ष्मीकांत सहनी शामिल हैं. दोनों युवक परिवार की तंगी हालात को सुधारने के सुधारने के लिये पाँच माह पूर्व मजदूरी करने के लिए पुणे के कोढ़वा स्थान पर गया था.दोनों परिवारों में कमानेवाला इकलौता इंसान होने के कारण परिवार पर दुखों का पहाड़ टुट गया है. इस दुखद घटना से दोनों परिवार सहित गांव में शोक की लहर दौड़ गयी है.

यह भी पढ़े  सुप्रीम कोर्ट के इन 5 जजों ने अयोध्या मामले पर सुनाया ऐतिहासिक फैसला

CM नीतीश ने की दो-दो लाख मुआवजे की घोषणा

पुणे हादसे में मजदूरों की मौत पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने मृतक के परिजनों को दो-दो लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की. साथ ही उन्होंने घायल मजदूरों को 50,000 रुपये के मुआवजे की घोषणा की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here