नवादा में हाईअलर्ट, सभी बूथों पर फोर्स तैनात

0
426

बिहार में नवादा लोकसभा सीट इस बार चर्चा में है। वो इसलिए कि केंद्रीय मंत्री और इस सीट से मौजूदा सांसद गिरिराज सिंह को यहां से टिकट नहीं मिलना है। इस सीट पर मुख्य एनडीए और विपक्षी महागठबंधन के बीच है।

नवादा में दो बाहुबलियों के बीच कड़ी टक्कर है। चंदन कुमार जहां बाहुबली सूरजभान सिंह के भाई हैं, वहीं विभा देवी राजद से निलंबित विधायक राजबल्लभ यादव की पत्नी हैं। बता दें कि राजबल्लभ एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म के मामले में सजा काट रहे हैं। इस सीट पर किसकी बादशाहत होगी-इसे तय करने के लिए आज सुबह सात बजे से मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं।

बता दें कि नवादा सीट इस बार राजग के घटक दल लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के हिस्से चली गई है और इसी वजह से मौजूदा सांसद गिरिराज सिंह को भाजपा ने यहां से उम्मीदवार नहीं बनाया है। सिंह ने इसे लेकर काफी नाराजगी भी जताई थी। नवादा लोकसभा सीट के परिणाम यहां के जातीय समीकरण से तय होते रहे हैं। पिछले 10 वर्षो से इस सीट पर भाजपा का कब्जा रहा है।

यह भी पढ़े  मणिपुर में स्टडी टूर पर गए बिहार के चार विधायक रंगरलियां मनाते पकड़े गए

2014 में गिरिराज सिंह को मिली थी जीत

पिछले लोकसभा चुनाव में भूमिहार बहुल इस सीट से भाजपा के गिरिराज सिंह विजयी हुए थे और उन्होंने राजद के राजबल्लभ यादव को हराया था। गिरिराज सिंह को जहां 3,90,248 मत मिले थे, वहीं राजबल्लभ यादव को 2,50,091 मतों से संतोष करना पड़ा था। जद (यू) के कौशल यादव 1,68,217 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे।

इस बार इस सीट से 13 प्रत्याशी हैं मैदान में
इस बार नवादा संसदीय से कुल 13 प्रत्याशी मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला दोनों गठबंधनों के बीच है।नवादा लोकसभा सीट के तहत आने वाली हिसुआ, वारसलीगंज विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है, जबकि रजौली और नवादा पर राजद और गोविंदपुर व बरबीघा विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है।

लोकसभा व विधानसभा उप चुनावों के लिए जिले भर में हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है। जिले के सभी बूथों पर सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। सभी पुलिस पदाधिकारियों व जवानों को सुरक्षा को लेकर विशेष निर्देश दिये गये हैं। बूथों की सुरक्षा का विशेष प्रबंध किया गया है।

बूथों पर हंगामा करने व वोटरों को धमकाने आदि को लेकर कड़े निर्देश दिये गये हैं। असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। बूथों के अलावा वोटरों के आने व जाने वाले मार्गों की सुरक्षा को लेकर भी व्यापक प्रबंध किये गये हैं। ऐसे चिह्नित स्थलों पर सशस्त्र सुरक्षाबल तैनात किये गये हैं।

यह भी पढ़े  विपक्ष की नजर से संकल्प रैली रही फ्लॉप

इसके अलावा पेट्रोलिंग पार्टी भी लगातार गश्त लगायेगी। नक्सल प्रभावित इलाकों में सुरक्षाबलों द्वारा लगातार अभियान चलाया जा रहा है। बूथों की सुरक्षा को लेकर उन इलाकों में अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। इससे पूर्व भयमुक्त चुनाव को लेकर जिले में चार हजार से अधिक लोगों को बांड डाउन कराया जा चुका है, जबकि 78 आपराधिक छवि के लोगों के विरुद्ध सीसीए की कार्रवाई कर उन्हें थानाबदर कर दिया गया है।

जिलेभर में सुरक्षा की तैयारियां पूरी : एसपी
एसपी हरि प्रसाथ एस ने बताया कि सुरक्षा की तैयारियां पूरी कर ली गयी है। दो नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्र के 70 स्थानों को विशेष रूप से चिह्नित किया गया है। इन जगहों पर सीपीएमएफ व बीएमपी के अलावा क्यूआरटी व आरओपी को भी लगाया गया है। चुनाव पूरी तरह से शांतिपूर्ण व निष्पक्ष होगा। जिले में चुनावों के दौरान सुरक्षा को लेकर दस हजार के करीब सुरक्षाबल तैनात किये गये हैं। अब तक सुरक्षाबलों की 35 कम्पनियां जिले में आ चुकी हैं। जिलेवासियों से आग्रह है कि किसी भी घटना, आशंका अथवा समस्या की सूचना तुरंत दें, ताकि तत्परता से कार्रवाई की जा सके।

यह भी पढ़े  पटना हाईकोर्ट के नये चीफ जस्टिस संजय करोल ने ली शपथ

संवेदनशील और नक्सल बूथों पर फोकस
जिले के संवेदनशील व नक्सल प्रभावित बूथों पर कड़ी चौकसी बरती गयी है। इनमें से अधिकांश बूथों पर अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। 59 फीसदी बूथों को संवेदनशील व नक्सल प्रभावितों की श्रेणी में रखा गया है। जिले के 164 बूथ नक्सल प्रभावित व 818 बूथ संवदेनशील हैं। गोविन्दपुर व रजौली विधानसभा के बूथों को मुख्य रूप से फोकस किया गया है। गोविन्दपुर विधानसभा क्षेत्र के 311 बूथों में 233 बूथ संवेदनशील हैं, जिनमें 94 बूथ नक्सल प्रभावित हैं। जबकि रजौली के 307 में 190 बूथ संवेदनशील हैं, जिनमें 60 बूथ नक्सल प्रभावित हैं। इसके अलावा हिसुआ के 366 में 159 बूथ संवेदनशील हैं, जिनमें मात्र 10 बूथ नक्सल प्रभावित हैं। वारिसलीगंज के 343 में 239 बूथ व नवादा विस के 338 में 161 बूथ संवेदनशील हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here