तेजस्वी क्या रोक पायेगे पप्पू को ? आज सांसद पप्पू यादव करेंगे खुलासा , होंगे कांग्रेस में शामिल!

0
209

जन अधिकार पार्टी के नेता और सांसद पप्पू यादव आज अपनी चुनावी रणनीति को लेकर खुलासा कर सकते हैं. इससे पहले पप्पू ने शनिवार को पूर्णिया में अपने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की और चुनाव को लेकर चर्चा की. पप्पू यादव ने कहा कि उन्हें कल तक की मोहलत चाहिये. उन्होंने कहा, ”मैं रविवार को 12 बजे तक खुलासा करूंगा कि कहां से चुनाव लड़ना है या नहीं. कांग्रेस से उनकी बात चल रही है और बातचीत बहुत जल्द ही क्लियर हो जायेगा. इसके बाद मैं फैसला करूंगा कि मुझे क्या करना है.

पप्पू यादव ने राजद का नाम लिये बगैर कहा कि कुछ लोग चाहते हैं कि कांग्रेस रंजीता रंजन और पप्पू यादव को साइड कर दे. कांग्रेस ने गठबंधन कर जहर का घूंट पिया है. सांसद ने राहुल गांधी के कार्यक्रम के बाबत कहा कि कांग्रेस के बगैर कोई कल्पना ही नहीं की जा सकती.
मालूम हो कि पप्पू यादव की महागठबंधन से उम्मीदवारी को लेकर कई दिनों से कयास लग रहे हैं. हालांकि ये साफ नहीं हो सका है कि वो बिहार की एक सीट पूर्णिया या फिर पूर्णिया के साथ-साथ मधेपुरा से भी अपनी उम्मीदवारी का पर्चा भरेंगे. पप्पू कांग्रेस को लेकर जहां साफ्ट हैं तो वहीं राजद को लेकर उनके तेवर काफी सख्त हैं.

यह भी पढ़े  धान-गेहूं खरीद की जिम्मेवारी राज्य सरकार की : रामविलास

महागठबंधन में सीट बंटवार को लेकर मची रार थम गई है। कांग्रेस के सारे दावों को दरकिनार करते हुए सीट बंटवारे में लालू यादव की पार्टी राजद ने लीड लिया है। सीट बंटवारे के बाद साबित हो गया कि सीट शेयरिंग में लालू यादव की चली। कयास लगाये जा रहे थे कि जाप संरक्षक पप्पू यादव को महागठबंधन में जगह मिल जाएगी। पप्पू यादव ने इसके लिए कांग्रेस से नजदीकियां भी बढ़ाई लेकिन तेजस्वी के हठ के आगे पप्पू की नहीं चली। तेजस्वी और पप्पू यादव की अदावत किसी से छिपी नहीं हैं। पप्पू यादव लालू को अपना नेता मानते हैं लेकिन तेजस्वी से उनकी बनती नहीं। पप्पू यादव के अथक परिश्रम के बाद भी मधेपुरा सीट कांग्रेस के खाते में नहीं गई। पप्पू यादव चाहते थे कि उन्हें महागठबंधन में जगह मिले और मधेपुरा सीट से वे चुनाव लड़ें। लेकिन राजद मधेपुरा को अपना परंपरागत सीट मानती है और तेजस्वी किसी भी हाल में पप्पू यादव की एंट्री महागठबंधन में नहीं चाहते थे। शरद यादव लालू के करीबी हैं मधेपुरा से उनका पुराना रिश्ता भी है। इसलिए इस सीट को राजद ने अपने खाते में रखा और शरद यादव की पार्टी का विलय करवाकर शरद को वहां से उम्मीदवार बना दिया।

 सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी को महागठबंधन में शामिल नहीं करने तथा राजद या कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी नहीं बनाये जाने पर सांसद ने अपने आवास पर शनिवार को कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। बैठक में सांसद ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर कई आरोप लगाये। वहीं, सांसद प्रतिनिधि रामकुमार यादव ने कहा कि जाप के संरक्षक पप्पू यादव महागठबंधन के खिलाफ मधेपुरा से अपनी पार्टी की ओर से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे।

 

यह भी पढ़े  रैली के जरिये सत्ता में हिस्सेदारी के लिए आवाज बुलंद करेगा कानू-हलवाई समाज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here