Pulwama Attack में घायल रोहतास का जवान भी शहीद

0
338
जम्मू-कश्मीर  के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में जख्मी रोहतास का जवान भी शहीद हो गया.  जिले के कोचस प्रखंड के चितैनी के रहनेवाले बीएसएफ में एएसआई के पद पर  तैनात नित्यानंद यादव पुलवामा में तैनात थे. हमले के दौरान आतंकियों की  गोलीबारी में उन्हें भी गोली लगी थी और उनका इलाज कश्मीर के सैनिक अस्पताल  में चल रहा था.
उन्होंने शनिवार की सुबह नौ बजे आखिरी सांस ली. दिल्ली  मुख्यालय में गार्ड ऑफ ऑनर देने के बाद जवान के पार्थिव शरीर को पटना के  लिए रवाना किया गया,जहां से शहीद के पार्थिव शरीर को लाने के लिए चितैनी से  उनके परिवार के सदस्य व रिश्तेदार पटना रवाना हो चुके हैं. डीएम पंकज  दीक्षित ने बताया कि शहीद को उनके गांव में सोमवार को सलामी देने के बाद  अंतिम संस्कार किया जायेगा. फिलहाल शहीद की पत्नी निर्मला कुमारी अपने एक  बेटे के साथ भभुआ में अपने निजी मकान में रहती है. शहीद तीन भाई और चार  बहनों में दूसरे नंबर पर थे. बड़े भाई अभिमन्यु सिंह कृषक हैं ओर छोटे भाई  रमाकांत सिंह गांधी पूर्व पैक्स अध्यक्ष हैं. शहीद के तीन बेटे-बेटी हैं,  जिनमें सबसे बड़ा बेटा राजू कुमार उम्र 21 वर्ष, जो भभुआ में अपनी मां के  साथ रह कर पढ़ाई करता है. दूसरे नंबर पर बेटी शिल्पी कुमारी उम्र 18 वर्ष  पटना में रह कर पढ़ाई करती है. छोटा बेटा रंजीत कुमार उम्र 14 वर्ष सासाराम  में रह कर पढ़ाई करता है.
 
शहीद के घर मचा कोहराम
नित्यानंद के शहीद  होने की खबर जैसे ही घरवालों को मिली, तो कोहराम मच गया. परिवारवालों का  रो-रो कर बुरा हाल है. अपने गांव के बच्चे की शहादत की खबर सुनते ही गांव  में सन्नाटा छा गया.
दूरदराज रहने वाले उनके रिश्तेदार भी उनके घर पहुंचने  लगे. उनके पार्थिव शरीर को लाने पटना उनके भाई रामाकांत गांधी, बड़े भाई  अभिमन्यु सिंह, भतीजा प्रभात रंजन, पत्नी, बेटा व उनके करीबी रिश्तेदार  मित्र व उनके रिश्ते में भगीना लगने वाले भाजपा जिला महामंत्री व युवा यादव  महासभा के जिला अध्यक्ष राजीव रंजन उर्फ मंटू यादव, प्रखंड उद्यान  पदाधिकारी संझौली नवनीत किशोर के अलावा अन्य लोग गये हैं.
पत्नी बोलीं, मेरी तो दुनिया ही उजड़ गयी 
शहीद  नित्यानंद की पत्नी निर्मला कुमारी भभुआ शहर की सिलौटा कॉलोनी में रहती  हैं. उनके अनुसार शुक्रवार की रात करीब 10 बजे मोबाइल पर किसी ने सूचना दी कि  आपके पति की तबीयत खराब हो गयी है. शनिवार की सुबह कंपनी कमांडर का फोन  आया कि आपके पति वीरगति को प्राप्त हो चुके हैं. मेरी तो दुनिया ही उजड़  गयी. मैं क्या कह सकती हूं. सरकार को कुछ ऐसा करना चाहिए कि किसी का घर  नहीं उजड़े.
यह भी पढ़े  'मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना' किया शुरुआत, साइकिल योजना की राशि बढ़ी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here