जॉर्ज साहब के कारण मिला बिहार की सेवा का मौका : नीतीश

0
96
Patna-Feb.8,2019-Bihar Chief Minister Nitish Kumar with Bihar JDU president Vashishth Narayan Singh and ministers during condolence meeting of George Fernandes at Rabindra Bhawan in Patna.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज रविंद्र भवन में आयोजित जॉर्ज फर्नाडिस की श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुए। मौके पर उन्होंने कहा कि पिछले दस वर्षो से जिस तरह उनकी तबीयत खराब बनी हुई थी, याददाश्त चली गई थी, उसके बाद 88 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई, एक तरह से यह उनके लिए मुक्ति ही है। हम सबों ने जॉर्ज साहब के रूप में अपने अभिभावक को खो दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जॉर्ज साहब युवावस्था से संघर्ष करते रहे। फुटपाथ से होते हुए टाइम्स ऑफ इंडिया में नौकरी की। लेबर मूवमेंट में शामिल हुए और उसका नेतृत्व किया। 1967 के लोकसभा चुनाव में पाटिल साहब को उन्होंने हराया और देश में सबसे बड़ी रेल हड़ताल का नेतृत्व किया। वे जेपी आंदोलन में शामिल हुए। इमरजेंसी के दौरान जेल भी गए। उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कई देशों के प्रधानमंत्रियों ने यहां के प्रधानमंत्री को जॉर्ज साहब को जेल में हिफाजत से रखने के लिए फोन किया था। जेल में रहते हुए उन्होंने मुजफ्फरपुर से तीन लाख से अधिक वोटों से चुनाव जीता। उनकी हथकड़ी लगी हुई तस्वीर उस समय काफी चर्चित रही थी। हमलोगों ने निर्णय लिया है कि मुजफ्फरपुर में उपयुक्त जगह का चयन कर जॉर्ज साहब की उसी हथकड़ी लगी हुई तस्वीर को स्थापित किया जाएगा ताकि आने वाली पीढ़ी को यह जानकारी हो सके कि जॉर्ज साहब कौन थे और क्या थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जॉर्ज साहब भ्रष्टाचार के खिलाफ थे। वर्ष 1990 में बनी सरकार जिस तरह काम कर रही थी, जॉर्ज साहब ने उन्हें समझाने का प्रयास किया लेकिन कोई बदलाव होता न देख अंतत: उनके नेतृत्व में 14 सांसदों ने जनता दल (ज) के नाम से अलग पार्टी का गठन कर लिया। 19 अक्टूबर, 1994 को जॉर्ज साहब के नेतृत्व में समता पार्टी का गठन किया गया। वर्ष 1998 में अटल जी के नेतृत्व में 13 माह की सरकार बनी, जिसमें जॉर्ज साहब रक्षा मंत्री के तौर पर शामिल हुये। उनके नेतृत्व में ही करगिल में जीत हासिल हुई। वर्ष 1977 में वे मोरारजी देसाई की सरकार में उद्योग मंत्री भी रहे और कोका कोला को देश से बाहर किया। मोरारजी देसाई जी स्वस्थ रहने के लिए स्वमूत्र पान किया किया करते थे। जॉर्ज साहब भी स्वास्य लाभ के लिए स्वमूत्र पान करते थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ दिनों तक मैंने भी किया है, जिससे मुझे सेहत में लाभ हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2005 में बिहार में जॉर्ज साहब के नेतृत्व में हमलोगों ने चुनाव में सफलता हासिल की। हमलोगों को यहां सरकार बनाने का मौका मिला। अगर जॉर्ज साहब के नेतृत्व में अलग पार्टी नहीं बनी होती तो हमलोगों को बिहार की सेवा करने का मौका नहीं मिलता। श्रद्धांजलि सभा को जदयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, सांसद रामनाथ ठाकुर, सांसद कहकशां परवीन, पूर्व सांसद मीना सिंह, अनिल हेगड़े एवं अजय कुमार रकेट ने भी संबोधित किया। मौके सभा में जदयू बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सह विधान पार्षद राम वचन राय ने श्रद्धांजलि पत्र को पढ़ा। इस अवसर पर सांसद रामचंद्र प्रसाद सिंह, भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री मदन सहनी, पूर्व मंत्री श्याम रजक, विधायक, विधान पार्षण सहित अन्य लोग उपस्थित थे। अंत में सभी ने दो मिनट का मौन धारण कर फर्नाडिस की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना की।

यह भी पढ़े  सड़क के बाद अब सदन में विरोध: मुजफ्फरपुर के मुद्दे को विधानसभा में उठाएगा राजद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here