राहुल गांधी में प्रधानमंत्री बनने के सभी गुण,उनके नेतृत्व और काबिलियत पर कोई सवाल नहीं उठा सकता

0
189
file photo

राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी में प्रधानमंत्री बनने के सभी गुण हैं और उनके नेतृत्व और काबिलियत पर कोई सवाल नहीं उठा सकता. यादव ने इसके साथ ही आरोप लगाया कि राहुल गांधी की छवि खराब करने के लिए भाजपा प्रोपेगेंडा मशीनरी सैंकड़ों हजार रुपए खर्च कर रही है. हालांकि, उन्होंने इस बात पर ज्यादा जोर दिया कि ‘प्रधानमंत्री कौन बनेगा?’ इस मुद्दे को 2019 के चुनाव के बाद महागठबंधन के सदस्य मिलकर सुलझा लेंगे.
राहुल गांधी के नेतृत्व पर कोई भी सवाल न उठाने की बात कहते हए तेजस्वी यादव ने पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘उनके (राहुल गांधी) खिलाफ इतने लंबे नकारात्मक कैंपेन के बाद भी दृढ़ता, दयालुता और बड़े दिल की भावना से उन्होंने लोगों का दिल जीत लिया.’ यादव ने कहा कि राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की जीत के बाद आत्मविश्वास बढ़ा है और उन 69 फीसदी मतदाताओं में ऊर्जा आई है, जिन्होंने साल 2014 में पीएम मोदी को वोट नहीं दिया था.

यह भी पढ़े  बेकाबू ट्रक ने ऑटो को मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 बच्चियां घायल,प्रत्येक मृतक के परिजनों को मिलेगा चार लाख रुपये मुआवजा

जब तेजस्वी यादव से पूछा गया कि क्या राहुल गांधी में प्रधानमंत्री बनने के सारे गुण हैं? तो उन्होंने कहा, ‘हां, उनमें सभी गुण हैं, वह भारत की सबसे पुरानी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और पिछले 15 वर्षों से संसद में हैं. यह मत भूलिए कि उनकी पार्टी के इस देश में पांच मुख्यमंत्री हैं और वह उनका नेतृत्व करते हैं. तो राहुल गाधी के नेतृत्व और उनकी काबिलियत पर कोई सवाल नहीं उठने चाहिए.’ बता दें, तेजस्वी यादव से पहले डीएमके अध्यक्ष स्टालिन ने पिछले महीने प्रस्ताव दिया था कि राहुल गांधी को महागठबंधन का प्रधानमंत्री उम्मीदवार होना चाहिए.

बता दें, लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में सीटों के बंटवारे पर बातचीत अब तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है. लेकिन कांग्रेस को उम्मीद है कि तीन फरवरी को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली होने के बाद सीटों के तालमेल पर जल्द निर्णय हो जाएगा. पार्टी ने गांधी मैदान में कांग्रेस अध्यक्ष की ‘जन आकांक्षा रैली’ के लिए राजद के तेजस्वी यादव और महागठबंधन के दूसरे प्रमुख नेताओं को आमंत्रित किया है. महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर जारी बातचीत से अवगत एक कांग्रेस नेता ने कहा, ‘अब तक की बातचीत में सीटों को लेकर सहमति नहीं बन सकी है. उम्मीद है कि कांग्रेस अध्यक्ष की रैली के बाद सीट बंटवारे से जुड़े मुद्दों को हल कर लिया जाएगा और जल्द निर्णय हो जाएगा.’

यह भी पढ़े  राफेल डील पर फैसले में 'तथ्यात्मक सुधार' की मांग को लेकर SC पहुंची केंद्र सरकार

उधर, कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा, ‘राहुल जी की रैली के बाद हम बैठेंगे और सीटों के बंटवारे के बारे में उचित समय पर घोषणा कर दी जाएगी. उन्होंने यह भी कहा, ”राजद के साथ गठबंधन को लेकर कोई दिक्कत नहीं है. हमारा गठबंधन विश्वास पर आधारित है. 1998 से हम साथ हैं.” सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ सप्ताह में हुई बातचीत के दौरान कांग्रेस ने अपने लिए 15 सीटों पर जोर दिया, लेकिन कई नए सहयोगियों के साथ आने के कारण राजद उसकी इस मांग पर तैयार नहीं है. दरअसल, इस बार कई और पार्टियां महागठबंधन में शामिल हैं. इनमें उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की पार्टी ”हम” , मुकेश साहनी की विकासशील इंसान पार्टी और शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल शामिल है. वाम दलों के भी महागठबंधन में शामिल होने के आसार हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here