विधायक राजवल्लभ के मामले में अंतिम बहस पूरी फैसला 15 दिसम्बर को

0
205

राष्ट्रीय जनता दल से निलंबित विधायक राजवल्लभ यादव समेत छह लोगों के खिलाफ चल रहे बलात्कार के मामले में बिहार की राजधानी पटना स्थित सांसदों एवं विधायकों के लिए नवगठित विशेष अदालत ने आज अंतिम बहस की सुनवाई पूरी करते हुए इस मामले में अपना फैसला सुनाने के लिए 15 दिसंबर की तिथि निश्चित कर दी। विशेष न्यायाधीश परशुराम सिंह यादव की अदालत में लगभग ढ़ाई माह तक दोनों पक्षों की ओर से अंतिम बहस की गयी। सरकार की ओर से पटना उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता सोमेश्वर दयाल ने विशेष लोक अभियोजक के रूप में सरकार का पक्ष रखा जबकि बचाव पक्ष की ओर से व्यवहार न्यायालय, पटना के अधिवक्ता सुनील कुमार, पटना उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता अजय ठाकुर और उच्चतम न्यायालय के वरीय अधिवक्ता मीर अहमद मीर ने अंतिम बहस में भाग लिया। दोनों पक्षों ने आज अपनी-अपनी लिखित बहस विशेष अदालत में दाखिल की जिसके बाद न्यायालय ने अंतिम बहस की सुनवाई बंद करते हुए मामले में अपना फैसला 15 दिसम्बर तक के लिए सुरक्षित कर लिया। मामला नालंदा जिले के बिहारशरीफ महिला थाने में साल 2016 में दर्ज किया गया था। इस मामले में विधायक श्री यादव और चार महिलाओं समेत छह लोगों को भारतीय दंड विधान, लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण और इम मोरल ट्रैफिक एक्ट की विभिन्न धाराओं में आरोपित किया था। विचारण के दौरान अभियोजन पक्ष ने कुल 22 गवाहों के बयान न्यायालय में कलमबद्ध कराया है। इसमें पीड़तिा, उसके परिजन, छह चिकित्सक, दो न्यायिक दंडाधिकारी और मामले के जांचकर्ता शामिल हैं। बचाव पक्ष की ओर से भी पंद्रह गवाहों को न्यायालय में पेश किया गया। इसके अलावा मामले में 31 दस्तावेजों को भी सबूत के तौर पर शामिल किया गया है।

यह भी पढ़े  विजय माल्या के दावे पर तेजस्वी यादव का ट्वीट, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री जेटली से मांगा जवाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here