त्यागी राजनेता थे प्रथम राष्ट्रपति डॉ.राजेन्द्र प्रसाद

0
251
PATNA RAJ BHAVN RAJENDRA PRASAD KI JAINTI SAMAROH

भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद के 134वें जयंती समारोह के अवसर पर राजभवन के सामने स्थित राजेन्द्र बाबू की प्रतिमा पर राज्यपाल लाल जी टंडन ने माल्यार्पण कर अपना नमन निवेदित किया। उक्त अवसर पर आयोजित इस राजकीय समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा भी देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया।भारत के प्रथम राष्ट्रपति स्व. राजेन्द्र बाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने वालों में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, राज्य के पूर्व मंत्री एवं विधायक श्याम रजक सहित कई जनप्रतिनिधिगण, सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के पदाधिकारी-प्रतिनिधिगण, गणमान्यजन आदि भी शामिल थे।राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री एवं विधानसभा के अध्यक्ष ने कार्यक्रम स्थल पर लगे शिविर में चरखा से सूत कातती महिलाओं के बीच अंगवस्त्रम् का भी वितरण किया। बाद में, राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, विधान सभा के अध्यक्ष एवं पथ निर्माण मंत्री आदि महवपूर्ण व्यक्तियों ने राजेन्द्र घाट स्थित राजेन्द्र बाबू की समाधि पर भी जाकर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

यह भी पढ़े  छठपूजा

राज्यपाल लाल जी टंडन ने यहां ‘‘विजिटर्स बुक’ में अपनी भावांजलि अर्पित करते हुए लिखा कि-‘‘‘‘पराधीनता से मुक्तिदाता, संविधान सभा के अध्यक्ष देशरत्न के चरणों में वंदन-नमन!’’ कार्यक्रम में राजेन्द्र घाट स्थित स्व राजेन्द्र बाबू की समाधि पर कई जन-प्रतिनिधियों, सामाजिक-राजनीतिक संगठनों के पदाधिकारियों/प्रतिनिधियों, वरीय प्रशासनिक अधिकारियों आदि ने भी अपने श्रद्धा-सुमन अर्पित किये। दोनों कार्यक्रमों में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के कलाकारों द्वारा आरती-पूजन, भजन एवं देश भक्तिपूर्ण गीतों के गायन आदि कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गये।

वहीं एक अन्य कार्यक्रम में राज्यपाल लालजी टंडन ने स्थानीय टीकेघोष अकादमी उच्च विद्यालय में ‘‘राजेन्द्र जयंती’ के अवसर पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि राजेन्द्र बाबू एक ऐसे त्यागी राजनेता थे, जिन्होंने अपने वकालत-पेशे को छोड़कर गांधी जी के आह्वान पर स्वतंत्रता-संग्राम में शामिल हो जाना मुनासिब समझा। राज्यपाल ने कहा कि संविधानसभा के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने एक ऐसा लोकतांत्रिक एवं कल्याणकारी संविधान तैयार कराया, जिससे आज भी कुशलतापूर्वक देश का शासन-प्रशासन संचालित हो रहा है। कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त करते हुए राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राज्य सरकार ने टीके घोष अकादमी के विकास के लिए पूरा ध्यान दिया है एवं यहां आधारभूत संरचना-विकास के लिए आगे भी जो जरूरी होगा, किया जायेगा। कार्यक्रम को केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव ने भी संबोधित किया एवं राजेन्द्र बाबू को नमन किया। कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन विद्यालय की प्राचार्या श्रीमती सरोज प्रकश ने किया।

यह भी पढ़े  तेजस्वी यादव के डर के वजह से भाजपा ने तारीख बदली है, लेकिन राजद अब सात तारीख को ही थाली पीटेगी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here