महिला को निर्वस्त्र घुमाने के मामले में 20 दोषी

0
389

बहुचर्चित बिहिया उपद्रव व महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने के मामले में कोर्ट ने बीस आरोपितों को दोषी माना है। इनमें पांच आरोपित दंगा, महिला को निर्वस्त्र करने व एससी/एसटी एक्ट में दोषी पाए गए हैं। पंद्रह आरोपितों को उपद्रव व एससी/एसटी एक्ट का दोषी माना गया है। सिविल कोर्ट के अपर प्रथम जिला व सत्र न्यायाधीश आरसी द्विवेदी ने बुधवार को यह फैसला सुनाया। शुक्रवार को इस मामले में सजा सुनाई जाएगी। इस मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से विशेष लोक अभियोजक सत्येंद्र कुमार सिंह दारा ने बहस की थी। उन्होंने बताया कि बुधवार को आरोपित कोर्ट में हाजिर हुए। इसके बाद कोर्ट ने सभी बीस आरोपितों को दोषी करार दिया। इनमें किशोरी यादव, विष्णु कुमार, मुमताज अंसारी उर्फ ताज, विनोद कुमार केसरी उर्फ मडई केसरी व सकिंदर कुमार को दंगा, महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने व एससी/एससी एक्ट में दोषी ठहराया गया। अन्य पंद्रह आरोपितों को दंगा व एससी/एसटी एक्ट पाया गया है। सभी आरोपितों को कड़ी सुरक्षा में जेल भेज दिया गया।

यह भी पढ़े  प्रदेश में हरित आवरण बढ़ाने के उद्देश्य से राज्यपाल ने राजभवन में किया पौधरोपण

बुधवार की दोपहर करीब एक बज रहे थे। आरा सिविल कोर्ट परिसर में गहमागहमी थी। काफी संख्या में लोग पहुंचे थे। मीडियाकर्मियों का जमावडा लगा था। पुलिस भी काफी संख्या में मुस्तैद थी। वरीय पदाधिकारी मॉनिटरिंग कर रहे थे। तभी कैदी वैन से बिहियां निर्वस्त्र कांड के बीस आरोपित कोर्ट पहुंचे। इसके बाद सभी की निगाहें कोर्ट की ओर टिक गयी। ठीक दो बजकर 16 मिनट पर सभी आरोपितों को अपर जिला प्रथम व सत्र न्यायाधीश आरसी द्विवेदी के कोर्ट में पेश किया गया। तब तक कोर्ट का पूरा गलियार लोगों से खचाखच भर चुका था। 2 बजकर 18 मिनट पर जज ने दोषी ठहराने का काम शुरु किया। दो बजकर 24 मिनट पर सभी को दोषी ठहरा दिया गया। कोर्ट द्वारा दोषी ठहराये जाने के साथ ही सभी आरोपितों के चेहरे फक्क पड़ गये। उनके चेहरों से परेशानी साफ झलक रही थी। मायूस चेहरे के साथ सभी कोर्ट चैंबर से बाहर निकले और बिना किसी से बात किये आगे निकल गये। परिजन व रिश्तेदारों में भी मायूसी छा गयी। परिजनों की बेचौनी भी देखी जा रही थी। वे अपने अधिवक्ता से लगातार मंतण्रा भी करते रहे। इसके बाद सभी आरोपितों को कड़ी सुरक्षा में जेल भेज दिया गया।

यह भी पढ़े  भागलपुर : शाहजंगी मेला मैदान के पास बरात में चली गोली, युवक की मौत

बहुचर्चित बिहियां निर्वस्त्र कांड में कुल 21 आरोपितों की भूमिका सामने आयी। इनमें 15 आरोपितों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। बाद में पुलिसिया जांच में छह आरोपितों का नाम आया। गिरफ्तारी व सरेंडर के बाद पुलिस ने सभी आरोपितों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर दिया था। जानकारी के अनुसार वारदात के बाद पीड़िता के बयान पर 15 आरोपितों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। इनमें किशोरी यादव, विनोद केशरी उर्फ मड़ई, रंजीत कुमार, राजबली कुमार उर्फ बड़क, सत्यनारायण प्रसाद, लखन कुमार, राजेश शर्मा, इमरती, मुन्नी साह, मो. मूटन अंसारी उर्फ ताज, शुभम शर्मा, अमित कुमार जायसवाल, सोनू कुमार, विक्की सिंह उर्फ दीपक कुमार यादव, गौतम कुमार उर्फ गणोश, सूरज कुमार उर्फ पप्पू शामिल हैं। बाद में पुलिसिया जांच व सीसीटीवी फुटेज के आधार पर विष्णु कुमार, विकास रजक, राकेश राय उर्फ पियुष राय उर्फ विन्नी, राजा साह, सकिंदर कुमार व बबुआ जी उर्फ गूंगा को आरोपित किया गया।

यह भी पढ़े  भाकपा, माकपा और भाकपा माले का कल 10 सितम्बर को भारत बंद

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here