शेल्‍टर होम केस: पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर किसी भी समय हो सकते हैं गिरफ्तार

0
238
file photo

मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेपकांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के साथ संबंधों की बात सामने आने के बाद समाज कल्याण मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुकी मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा किसी भी समय गिरफ्तार हो सकते हैं. आर्म्स एक्ट में पटना हाई कोर्ट से 14 सितंबर को अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद अब उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने आर्म्स एक्ट में मामला दर्ज होने के बावजूद चंद्रशेखर वर्मा के रसूख पर सवाल उठाए थे और उसे गिरफ्तार करने की ज़रूरत बताई थी, लेकिन फैसला पुलिस पर छोड़ दिया था. बेगूसराय के एसपी आदित्य कुमार ने इस बात की पुष्टि की है कि चंद्रशेखर वर्मा के खिलाफ वारंट हासिल हुआ है. उन्होंने कहा कि अब किसी भी समय चंद्रशेखर वर्मा की गिरफ्तारी हो सकती है.

बिहार के बेगूसराय जिले की अलग-अलग अदालतों ने 26 अगस्त को ही पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति चंद्रशेखर वर्मा की अग्रिम जमानत की अर्जी को खारिज कर दिया था.

यह भी पढ़े  एजाज लकड़वाला गिरफ्तारी मामले में मुंबई पुलिस को था सब पता‚ पटना पुलिस थी अनजान

मुजफ्फरपुर स्थित एक बालिका गृह में 34 लड़कियों के साथ यौन शोषण मामले की जांच कर रही सीबीआई ने 17 अगस्त को बेगूसराय जिले के चेरिया बरियारपुर थाना अंतर्गत अर्जुन टोला गांव स्थित मंजू वर्मा के पति के आवास से विभिन्न हथियारों के 50 कारतूस बरामद किए थे. बेगूसराय में मंजू वर्मा के ससुराल पर सीबीआई के छापे में बरामद कारतूस जांच में अवैध पाए गए.

इस बरामदगी के बाद वर्मा दंपती के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत एफआईआर पहले ही दर्ज कराई जा चुकी है.

क्यों होगी गिरफ्तारी ?

बेगूसराय के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने न्यूज 18 को बताया था कि चेरिया बरियारपुर स्थित मंजू वर्मा के ससुराल से कुल 50 कारतूस मिले थे. इन्हें जांच के लिए भेजा गया, जिसकी रिपोर्ट आ चुकी है.

इन 50 कारतूसों में 19 सशस्त्र बलों के एसएलआर राइफल में उपयोग होने वाले कारतूस हैं, जिनकी बिक्री पूरे देश में अवैध है. ग़ैर सरकारी कार्यों के लिए इनका भंडारण भी अवैध है. मंजू वर्मा या उसके पति चंद्रशेखर वर्मा कारतूस के बारे में संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए थे.

यह भी पढ़े  मानसून सत्र के पांचवें दिन विधानसभा पहुंचे तेजस्वी

मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न की जांच कर रही सीबीआई ने 17 अगस्त को मंजू वर्मा के ससुराल, पटना स्थित सरकारी आवास समेत 12 जगहों पर छापेमारी की थी. पटना में मंजू वर्मा और उनके कुछ सहयोगियों से सीबीआई ने लंबी पूछताछ की थी.

इसके अलावा फोन सीडीआर में मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के फोन पर मंजू वर्मा के पति के 17 बार बातचीत करने की बात सामने आ चुकी है. इस खुलासे के बाद मंजू वर्मा ने आठ अगस्त को मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here