नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुल संपत्ति 2,28,50,498 रुपए है, प्रधानमंत्री कार्यालय की वेबसाइट पर वित्त वर्ष 2017-18 के लिए घोषित की गई मंत्री परिषद की संपत्ति में यह जानकारी दी गई है। प्रधानमंत्री ने अपनी संपत्ति के बारे मे जो जानकारी दी है उसमें कैश, बैंक में डिपॉजिट, ज्वैलरी, प्लॉट और इंश्योरेंस पॉलिसी शामिल हैं। कैश इन हैंड में आई 67 प्रतिशत की गिरावट दी गई जानकारी के मुताबिक 31 मार्च 2018 को प्रधानमंत्री के पास 48944 रुपए कैश दर्ज किया गया है। पिछले साल 31 मार्च (वित्त वर्ष 2016-17) को प्रधानमंत्री के पास कैश इन हैंड 1,49,700 रुपए था। यानि इस बार कैश इन हैंड में 67 प्रतिशत की कमी आई है। SBI की ब्रांच में डिपॉजिट कैश इन हैंड के बाद अगर बैंक डिपॉजिट की बात करें तो गुजरात के गांधीनगर में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ब्रांच में बैंक बैलेंस के तौर पर 11,29,690 रुपए और फिक्स डिपॉजिट तथा मल्टी ऑप्शन स्कीम के तहत 1,07,96,288 रुपए जमा हैं। इंश्योरेंस, ज्वैलरी और निवेश की जानकारी निवेश और इंश्योरेंस की बात करें तो प्रधानमंत्री के पास नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट्स के तौर पर 5,18,235 रुपए और लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के तौर पर 159281 रुपए की संपत्ति है। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने 20,000 रुपए का लार्सन एंड टूब्रो इंफ्रा बाँड (टैक्स सेविंग) भी लिया हुआ है। वहीं ज्वैलरी की बात करें तो प्रधानमंत्री के पास 4 सोने की रिंग्स हैं जिनका वजन लगभग 45 ग्राम और कीमत 1,38,060 रुपए आंकी गई है। अचल संपत्ति की जानकारी अचल संपत्ति की बात करें तो प्रधानमंत्री के पास गुजरात के गांधी नगर में करीब 1 करोड़ रुपए कीमत का घर है, इस घर की खरीद 2002 में की गई थी, खरीद के समय कीमत 1,30,488 रुपए थी और बाद में इस पर डेवलपमेंट के लिए 2,47,208 रुपए खर्च किए गए थे।

0
297

पाकिस्तान की एक अदालत ने भ्रष्टाचार के एक मामले में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, उनकी पुत्री और दामाद की जेल की सजा बुधवार को निलंबित कर दी। जियो न्यूज की खबर के अनुसार इस्लामाबाद उच्च न्यायालय में दो न्यायाधीशों की एक पीठ ने शरीफ, उनकी पुत्री मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मुहम्मद सफदर की याचिकाओं की सुनवाई की। इन याचिकाओं में उन्होंने अपनी दोषसिद्धि को चुनौती दी है। यह मामला लंदन में महंगे फ्लैटों की खरीद से संबंधित है।

जस्टिस अतहर मिनल्ला ने फैसला पढ़ा और उन्हें छह जुलाई को जवाबदेही अदालत द्वारा सुनायी गयी सजा निलंबित कर दी। शरीफ, मरियम और सफदर को क्रमश: 11 साल, आठ साल और एक साल की सजा सुनायी गयी है। पीठ ने तीनों को रिहा करने का आदेश दिया। अदालत ने शरीफ, मरियम और सफदर को पांच-पांच लाख रूपए का जमानत बांड जमा कराने का निर्देश दिया है।

आपको बता दें कि 6 जुलाई को अकाउंटिबिलिटी कोर्ट ने नवाज शरीफ, मरियम और सफदर को क्रमशः 10, 7 और 1 साल की सजा सुनाई थी। नवाज शरीफ और उनके परिवार ने इस फैसले को इस्लामाबाद हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। अकाउंटिबिलिटी कोर्ट के फैसले के वक्त नवाज शरीफ लंदन में थे और वहां उनकी पत्नी कुलसुम नवाज का इलाज चल रहा था। नवाज शरीफ और उनकी बेटी कोर्ट के आदेश के बाद स्वदेश लौटे थे।

यह भी पढ़े  प्रशांत ने थामा जदयू का दामन

स्वदेश लौटने पर लाहौर में दोनों को गिरफ्तार कर अदियाला जेल भेज दिया गया था। नवाज शरीफ की मुश्किलें यहीं नहीं रुकीं और 11 सितंबर को उनकी पत्नी कुलसुम का लंदन में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। कुलसुम के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए नवाज और मरियम को परोल पर रिहा किया गया था और बाद में दोबारा अदिलाया जेल भेज दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here