भारी बहुमत के साथ आयेंगे सत्ता में : नीतीश

0
243
file photo

मुख्यमंत्री और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने रविवार को कहा कि मेरी पार्टी ‘‘जाति आधारित’ नहीं बल्कि काम आधारित है। पटना में मुख्यमंत्री आवास पर जदयू की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को अपनी ताकत का अहसास होना चाहिए। उन्होंने पूरे विास के साथ कहा कि हमलोगों की ताकत लोकसभा में तो बढ़ेगी ही और वर्ष 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में भी भारी बहुमत से हम वापस आएंगे। नीतीश ने पंचायत स्तर तक संगठन को मजबूत करने के लिए पदाधिकारियों को कई महत्वपूर्ण निर्देश दिये। उन्होंने बूथ लेवल एजेंट की नियुक्ति कर उन्हें प्रशिक्षित करने और प्रकोष्ठों के बीच समन्वय स्थापित करने तथा जिला स्तर पर राजनैतिक सम्मेलन करने पर जोर दिया। जदयू राज्य कार्यकारिणी की यहां मुख्यमंत्री आवास पर लगभग चार घंटे तक चली बैठक के बाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद वशिष्ठ नारायण सिंह और राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) आरसीपी सिंह ने संयुक्त संवाददता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देशों का अविलंब पालन होगा। उन्होंने छात्रों, युवाओं और महिलाओं की विशेष सहभागिता पर जोर दिया तथा पार्टी के सभी मंत्रियों से आग्रह किया कि वे अपने प्रभार वाले जिलों के अलावा पास के अन्य जिलों पर भी ध्यान दें। वहीं जदयू के राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह ने कहा कि वोट की चिन्ता किए बिना केवल अपने नेता और अपनी सरकार के कायरें को जनता के बीच रख देना है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा के चुनाव में भाजपा के साथ सीटों के बटंवारे पर बातचीत अंतिम दौर में है और इसकी घोषणा आधिकारिक तौर पर शीघ्र कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि राजग में सीट बटंवारे को लेकर कहीं कोई पेच नहीं है। राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि राजग के घटक दलों के बीच सीट बटंवारे पर बातचीत कोई मुद्दा नहीं है। इस पर घटक दलों के बीच लम्बे समय से बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा कि सीटों पर समझौता हो जाने के बाद इसकी जानकारी दे दी जायेगी। श्री सिंह ने कहा कि संगठन का विस्तार लगातार चलता रहेगा और सदस्यता अभियान जारी रखे जाने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में पार्टी की ओर से सम्मेलन और रैलियां भी आयोजित की जायेंगी और अगले वर्ष जनवरी-फरवरी तक इन कार्यक्रमों को पूरा कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी चुनाव के लिए हमेशा तैयार रहती है और इसके मद्देनजर विभिन्न स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम भी लगातार चलता रहता है। राष्ट्रीय महासचिव ने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि पार्टी की राज्य कार्यकारिणी की बैठक में सवर्णों को आरक्षण दिये जाने के मामले पर कोई र्चचा नहीं हुई। वर्तमान में संविधान में सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े लोगों को ही आरक्षण दिये जाने का प्रावधान है।

यह भी पढ़े  जलजमाव पर सियासत!जलजमाव पर गठित जांच कमेटी को डिप्टी सीएम ने नकारा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here