भारत बंद :पटना में बंद समर्थकों का उत्पात, सड़क जाम कर गाड़ियों के शीशे तोड़े

0
246

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद का व्यापक असर बिहार में भी दिखाई दे रहा है. पटना में बंद समर्थकों ने उत्पात मचाया है. जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ता सांसद पप्पू यादव के नेतृत्व में पटना की सड़कों पर उतरे.

इस दौरान जाप के कार्यकर्ताओं ने उत्पात मचाते हुए गाड़ियों को निशाना बनाया. पटना के राजेंद्र नगर इलाके में पप्पू यादव के समर्थकों ने गाड़ियों पर पत्थर और लाठियां बरसाई जिससे कई गाड़ियों के शीशे टूट गये. हुड़दंगियों ने एनएमसीएच के डॉक्टरों की गाड़ी को भी निशाना बनाते हुए तोड़फोड़ की. बंद को लेकर सभी अहम हाईवे और पुलों पर यातायात ठप्प है. ट्रेन ट्रैफिक पर भी इसका बुरा असर पड़ा है. बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई), मार्क्सवादी कम्युनिस्‍ट पार्टी (सीपीएम) और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) भी बंद का समर्थन कर रही हैं.

पटना – मोकामा एनएच -31, मुजफ्फरपुर- बरौनी एनएच 28, हाजीपुर-मुजफ्फरपुर एनएच -77, छपरा-पटना, जहानाबाद-पटना और दरभंगा-समस्तीपुर स्टेट हाई-वे पर प्रदर्शनकारियों ने ट्रैफिक रोक दिया है. पटना को उत्तर बिहार से जोड़ने वाले महात्मा गांधी सेतु पर भी वाहनों की लंबी कतार देखी जा सकती है. हाजीपुर की ओर से आरजेडी समर्थकों ने सड़क पर टायर जलाकर ट्रैफिक रोक दिया है.

वैशाली : जिला मुख्यालय सहित कई इलाकों में विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं ने आगजनी कर जताया विरोध. महात्मा गांधी सेतु को जाम कर कार्यकर्भताओं ने किया भजन-कीर्तन. जाम में फंसे सैकड़ों वाहन.

मधुबनी : जिला मुख्यालय में भी विपक्षी दलों के कार्यकर्ता सड़क पर उतरे. बाजार बंद करा कर विरोध जताया.

पटना : राजेंद्र नगर स्टेशन के पास कॉमर्स कॉलेज के सामने विपक्षी दल के कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर मार्ग को अवरुद्ध कर दिया. वहीं, मीठापुर स्थित बाइपास पर सड़क पर टायर जलाकर किया गया विरोध प्रदर्शन. सड़क मार्ग को कार्यकर्ताओं ने किया बाधित.

यह भी पढ़े  21 जुलाई से 3 अगस्त के बीच होगी अमरनाथ यात्रा, श्रद्दालुओं के लिए कोविड-19 टेस्ट जरूरी

नवादा : जिला मुख्यालय में सड़क पर उतरे भाकपा-माले के कार्यकर्ता. केंद्र सरकार विरोधी लगाये नारे.

गया : जिला मुख्यालय के गया जंक्शन पर ट्रेन को रोक कर प्रदर्शन करते विपक्षी दलों के कार्यकर्ता. सड़क पर उतर कर बाजार बंद कराया. टायर जला कर सड़क मार्ग को किया गया अवरुद्ध. प्रदर्शन में बच्चे भी बंद समर्थकों के साथ सड़कों पर उतरे.

खगड़िया : जिला मुख्यालय के खगड़िया स्टेशन पर ट्रेन को रोकते युवा शक्ति के कार्यकर्ता.

गया : जिले के परैया में बंदी का खासा असर. बंद रहीं सभी दुकानें. वहीं, फतेहपुर थाना क्षेत्र के ढिबर, गोपीमोड़, खेदरपुरा, तपसा, फतेहपुर झंडा चौक समेत अन्य जगहों पर भी बंद का व्यापक असर. वहीं, बढती मंहगाई को लेकर विपक्ष द्वारा आहुत बंद का असर वजीरगंज में भी देखने को मिला.

सहरसा : कोपरिया स्टेशन के पास कोसी एक्सप्रेस को सुबह छह बजे से भाकपा-माले के कार्यकर्ताओं ने रोक कर रखा है.

बांका : बांका जंक्शन पर बांका-राजेंद्र नगर इंटरसिटी ट्रेन को रोकते बंद समर्थक.

दरभंगा : भारत बंद को लेकर भाकपा (माले) के कार्यकर्ताओं ने दरभंगा के लहेरियासराय में जयनगर -पटना कमला गंगा इंटरसिटी फास्ट पैसेंजर (55527) को रोका गया।

पटना : राजधानी स्थित राजेंद्र नगर टर्मिनल पर हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा की महिला कार्यकर्ताओं ने रेलवे ट्रैक को जाम कर ट्रेन परिचालन को बाधित किया. वहीं, राजद कार्यकर्ताओं ने गांधी सेतु पर वाहनों का परिचालन ठप कर सड़क मार्ग को बाधित किया.

भोजपुर : जिले के आरा जंक्शन पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ भाकपा-माले के कार्यकर्ता रेलवे ट्रैक को बाधित कर ट्रेन का परिचालन बाधित किया.
जहानाबाद : बंद समर्थकों ने पटना-रांची जनशताब्दी एक्सप्रेस को रोक कर ट्रेन परिचालन बाधित किया. यहां राजद और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया.
शेखपुरा : भाकपा कार्यकर्ताओं ने किउल-गया पैसेंजर ट्रेन को रोककर रेल परिचालन को बाधित किया.
हाजीपुर : बंद समर्थकों ने पटना-वैशाली मुख्य मार्ग पर आगजनी कर सड़क यातायात को बाधित किया.
बाढ़ : मलाही के पास राजद कार्यकर्ताओं ने एनएच-31 को जाम सड़क मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है.

यह भी पढ़े  सावन के 3 सोमवार और पीएम नरेंद्र मोदी के 3 बड़े फैसले, चौथे को क्‍या होगा

पटना : कांग्रेस के भारत बंद का असर सोमवार की सुबह से ही हर जगह दिखने लगा है. कांग्रेस के बुलाये भारत बंद को करीब 20 विपक्षी दलों का समर्थन मिला है. कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ विपक्षी दलों के नेता और कार्यकर्ता सड़क पर उतर आये हैं. बंद समर्थकों ने सोमवार की सुबह रेलवे और सड़क मार्ग को अवरुद्ध कर परिचालन बाधित करना शुरू कर दिया है. मालूम हो कि बिहार के विपक्षी दलों ने पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की बढ़ी कीमतों के विरुद्ध कांग्रेस के सोमवार को बुलाये गये ‘भारत बंद’ को सफल बनाने के संकल्प को लेकर पटना स्थित कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय सदाकत आश्रम में राजद, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), रांकपा सहित विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं ने बैठक की. बंद को लेकर प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने विभिन्न व्यापार और उद्योग संगठनों से पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की बढ़ी कीमतों के विरुद्ध अपनी पार्टी के सोमवार को बुलाये गये ‘भारत बंद’ को सफल बनाने की अपील की है.
इस मौके पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह, एमएम झा एवं प्रेमचंद मिश्र, राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, हम के प्रदेश अध्यक्ष वृषिण पटेल, समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री देवेंद्र प्रसाद यादव, समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर गुट) के राष्ट्रीय संयोजक विशेश्वर नाथ सिंह, राकांपा के प्रदेश उपाध्यक्ष सुनील कुमार सिंह और लोकतांत्रिक जनता दल के प्रदेश महासचिव शिवशंकर कुशवाहा उपस्थित थे. कौकब ने कहा कि सोमवार को सुबह नौ बजे से अपराह्न तीन बजे तक बंद के दौरान दवा की दुकानें, चिकित्सा सेवाओं के एंबुलेन्स और स्कूल बसें उसके दायरे से बाहर रहेंगी. उन्होंने कहा कि यूपीए शासन के दौरान 16 मई, 2014 को बैरल, जबकि कच्चे तेल की कीमत 107 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल थी, तब पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 71.41 रुपये और 55.4 9 रुपये प्रति लीटर थी. आज जबकि कच्चे तेल की कीमत घटकर 73 अमेरिकी डॉलर हो गया है, तो पेट्रोल और डीजल की कीमत क्रमश: 86 रुपये और 78 रुपये प्रति लीटर है. कौकब ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान पिछले 52 महीनों में रसोई गैस की कीमत में 340 रुपये की बढ़ोतरी की गयी, जबकि रेलवे किराया छह रुपये प्रति किलोमीटर से बढ़ कर अब 9 रुपये प्रति किलोमीटर हो गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र में सत्तासीन भाजपा और उनके सहयोगी दलों को पेट्रोलियम पदार्थों की दाम में वृद्धि और उसके कारण बढ़ी मंहगाई से आम आदमी की बढ़ी परेशानी की जरा भी चिंता नहीं है. हम सेक्युलर के प्रदेश अध्यक्ष वृषिण पटेल ने कहा कि बंद मोदी के लिए एक संदेश होगा कि हम ‘आंधी’ के रूप में उभरेंगे, जो सरकार धूल चटा देंगे.

यह भी पढ़े  कांग्रेस महागठबंधन से बाहर नहीं : मदन मोहन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here