2020 तक रिंग रोड होगा साकार

0
1426

दानापुर-खगौल- बिहटा, दीघा- आर ब्लॉक रेल लाइन के स्थान पर नयी सड़क तथा पटना रेल स्टेशन से गंगा घाट तक रेललाइन की जगह सड़क बन जाने के बाद रिंग रोड परियोजना धरातल पर उतर आएगी। फिलहाल राजधानी में पूरब, पश्चिम, उत्तर व दक्षिण से सरपट यातायात व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए पटना रिंग रोड की योजना पर तेजी से काम शुरू हो गया है। वर्ष 2020 तक रिंग रोड की परियोजना पूरी हो जाने की उम्मीद है।वर्ष 2020 तक पांच घंटे में सूबे के किसी कोने से राजधानी में पहुंचने का मिशन पूरा करने के लिए राज्य सरकार पटना रिंग रोड योजना वरीयता दे रही है। राजधानी को रिंग रोड से जोड़ने में गंगा पथ व दीघा-एम्स एलिवेटेड सड़क सेतु पर प्राथमिकता के साथ काम हो रहा है। दीघा-एम्स एलिवेटेड सड़क का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। हड़ताली मोड़ पर फ्लाईओवर का निर्माण कार्य भी रिंग रोड की योजना को मजबूती देगा। फिलहाल बेलीरोड के एक हिस्से में दरार आने से निर्माण गति पर असर पड़ा है। उम्मीद जतायी जा रही है कि वर्ष 2020 तक दीघा से दीदारगंज तक गंगापथ का निर्माण भी पूरा हो जाएगा और पटना सिटी से यातायात सरपट दीघा की ओर आने लगेगा। उल्लेखनीय है किअक्टूबर 2016 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रिंग रोड के बारे में पूरी योजना का जायजा लिया था। इस संदर्भ में पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री के समक्ष प्रस्तुतीकरण भी पेश किया था। पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव के मुताबिक रिंग रोड सरकार की प्राथमिकता है। रिंग रोड के तहत कन्हौली गांव के पास बिहटा सरमेरा रोड दनियावां-फतुहा से जुड़ेगा। फिर फतुहा से पटना-बख्तियारपुर फोरलेन होते हुए राजधानी पहुंचा जा सकता है। बीच में यह रिंग रोड कच्चीदरगाह-विदुपुर छह लेन पुल से जुड़ जाएगा। इसके बाद विदुपुर से हाजीपुर तक पहुंच हो जाएगी। फिर हाजीपुर एनएच 19 से डोरीगंज-आरा पुल होते हुए पटना पहुंचा जा सकता है। यानी कि छपरा का डोरीगंज भी रिंगरोड में शामिल हो जाएगा। दानापुर से सारण के दिघवारा तक गंगा नदी पर एक और पुल बनाने की परियोजना पर काम हो रहा है। इस पुल से गोरखपुर से सारण होते हुए पटना पहुंचने का मार्ग काफी सुगम हो जाएगा। हड़ताली मोड़ पर भी फ्लाईओवर के निर्माण कार्य पूरा हो जाने पर राजधानी की ट्रैफिक सरपट दानापुर सगुना मोड़ की ओर चली जाएगी। ललित भवन से हाईकोर्ट तक लोहिया चक्र फ्लाईओवर का निर्माण चल रहा है। पटना सिटी से निर्बाध पटना शहर में पहुंचने के लिए दीदारगंज से दीघा तक गंगा किनारे गंगा पथ का निर्माण कार्य चल रहा है। पटना रिंग रोड की योजना कुछ इस तरह साकार होगी। दीघा-एम्स फ्लाईओवर नौबतपुर से आ रहे एनएच 98 से जुड़ेगा। एनएच 98 होते हुए बक्सर और आरा के लोग सीधे पटना पहुंच सकते हैं। कोइलवर पर पुल बन रहा है। पटना-आरा-बक्सर फोरलेन सड़क का निर्माण हो रहा है। जून 2020 तक कोइलवर पुल व आरा-बक्सर फोरलेन सड़क का निर्माण पूरा हो जाएगा। जाहिर है अब बक्सर ही नहीं, वाराणसी समेत उत्तर प्रदेश से सड़क मार्ग से शीघ्र पटना पहुंचा जा सकता है। बक्सर को गाजीपुर- लखनऊ एक्सप्रेस वे से जोड़ने की योजना को हरी झंडी मिल चुकी है। यानी की उत्तर प्रदेश के लोग भी रिंग रोड के जरिये सीधे राजधानी पहुंच सकते हैं। दीघा पहलेजा रेल लाइन पर पहले से ही सरपट ट्रेन दौड़ रही है। दीघा-सोनपुर रेल पथ भी चालू है। उतरी बिहार से आने वाला यातायात गांधी सेतु को छोड़ विकल्प के रूप में सोनपुर- दीघा एप्रोच सड़क का इस्तेमाल कर रहा है। बलिया व गोरखपुर के यात्री भी इस पथ से राजधानी पटना पहुंच रहे हैं। एनएच 19 को भी दीघा सड़क मार्ग से जोड़ा जा रहा है। इसी तरह एम्स के पास एनएच 98 को एनएच 30 से पूरी तरह जोड़ने की तैयारी चल रही है, ताकि पटना सिटी का बाहरी क्षेत्र कनेक्ट हो जाए। एनएच 19 के दीघा सड़क मार्ग से जुड़ने पर सारण, सीवान व उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की दूरी पटना से बहुत कम हो जाएगी।

यह भी पढ़े  जल–जीवन–हरियाली अभियान के अंतर्गत विभिन्न अवयवों के कार्यों की प्रगति के लिए लगातार काम करते रहें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here