सूबे में आर्सेनिक से निपटना चुनौती : मोदी

0
170
PATNA HOTEL MAURIYA MEIN LG KE NEW BRAND WATER PURIFI KA LAUNCHING KE BAD N G O KE PADHADHIKARIYON KO PURIFI VITRAN KERTE DY CM SUSHIL KUMAR MODI

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मंगलवार को कहा कि आधी बीमारी की जड़ दूषित जल है। बिहार के कई हिस्सों में जल में आर्सेनिक पाया जाता है जो स्वास्य के लिए खतरनाक है। उन्होंने कहा कि आर्सेनिक से निपटना एक बड़ी चुनौती है। श्री मोदी यहां एलजी कंपनी द्वारा आयोजित हेल्थ हाइजिन कार्यक्रम में मौजूद विशिष्ट जनों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर बिहार राज्य प्रदूषण नियंतण्रबोर्ड के चेयरमैन एके घोष व दीघा विधानसभा के विधायक डॉ. संजीव चौरसिया भी मौजूद थे। श्री मोदी ने कहा कि जल में आर्सेनिक, फ्लोराइड व आयरन की अधिकता बीमारी की जड़ है। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार ऐसी समस्या को दूर करने के लिए बहुत राशि खर्च कर रही है। उन्होंने इस मौके पर जल को शुद्ध करने वाले एलजी के अत्याधुनिक आरओ के लिए साधुवाद देते हुए कहा कि एलजी भरोसे की कंपनी है। साथ ही उन्होंने कहा कि ऐसी तकनीक विकसित होना चाहिए जो आर्सेनिक की मात्रा को दूर कर सके। बिहार के गांवों में कैसे शुद्ध जल पहुंचे इस पर कंपनी को पहल करनी चाहिए। इस संदर्भ में उन्होंने कर्नाटक के एक गांव का उदाहरण दिया। इस मौके पर दीघा के विधायक डॉ. संजीव चौरसिया ने कहा कि उनका क्षेत्र ऐसा है जहां स्लम व पॉश क्षेत्र दोनों हैं। शुद्ध जल की दरकार सभी को है।बिहार राज्य प्रदूषण नियंतण्रबोर्ड के चेयरमैन अशोक कुमार घोष ने कहा कि बिहार के दक्षिणी 11 जिलों में फ्लोराइड की मात्रा अधिक है। उन्होंने कहा कि जल में फ्लोराइड का मानक एक पीपीएम है पर यहां जल में 16 पीपीएम फ्लोराइड पाया जाता है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जल कितना दूषित है। श्री घोष ने मंच से सवाल किया कि क्या एलजी का नया यंत्र आर्सेनिक या फ्लोराइड छानने में सक्षम है। इस पर एजली के प्रतिनिधि ने सकारात्मक जवाब दिया। इस अवसर पर 11 एनजीओ को अपने क्षेत्र में शुद्ध जल वितरण के लिए आरओ दिया गया। महत्वपूण है कि कोरिया से आए एलजी उत्पाद के निदेशक ने कहा कि भारत का अर्थतंत्र मजबूत है। भारत में उद्येाग के लिए अपार क्षमता है।

यह भी पढ़े  प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने विधानसभा परिसर में अपने विधायकों के साथ धरना प्रदर्शन किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here