विशिष्टजन आयें तो जाम न हो ट्रैफिक :हाईकोर्ट

0
262

पटना। अमित शाह के आगमन के दौरान ट्रैफिक जाम को लेकर पटना उच्च न्यायालय में पेश हुए मुख्य सचिव व डीजीपी ने आास्त किया कि किसी विशिष्ट जन के आने से अब ट्रैफिक जाम नहीं होने दिया जायेगा। वैसे सरकार की तरफ से ट्रैफिक रोकने का निर्देश नहीं दिया गया था। अब इस घटना की समीक्षा कर विशिष्ट लोगों के आगमन के दौरान ट्रैफिक जाम न होना सुनिश्चित करेंगे और इसे लेकर ठोस दिशा-निर्देश जारी करेंगे। न्यायमूर्ति अहसानुद्दीन अमानुल्ला ने दोनों से कहा कि वे विशिष्ट जनों के आने के दौरान पूरे राज्य में ट्रैफिक जाम न होना सुनिश्चित करें। विशिष्ट जनों की वजह से आम लोगों को दिक्कत न हो। आपकी मंशा भले ही अच्छी हो पर वह जमीनी स्तर पर नहीं दिखे तो उसका कोई मतलब नहीं। उन्होंने दोनों वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा ट्रैफिक एसपी को अगली सुनवाई में न आने की छूट दे दी। साथ ही ट्रैफिक एसपी से कहा कि पानी टंकी से एएन कॉलेज व बोरिंग रोड चौराहे पर भयंकर जाम रहता है। टेम्पोवाले बेतरतीब ढंग से टेम्पो लगाकर जाम की स्थिति पैदा करते हैं। उस पर गौर करें। आपके पुलिस वाले कोई काम नहीं करते हैं। सही ढंग से अपनी डय़ूटी नहीं निभाने वाले कितने पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई की है। ट्रैफिक एसपी ने कहा कि सात पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया है। सुनवाई शुरू होते ही डीजीपी ने ट्रैफिक जाम को लेकर न्यायालाय से माफी मांगी और कहा कि आगे से ऐसा नहीं होगा। मुख्य सचिव ने भी निचले स्तर तक ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु करने की बात कही। ट्रैफिक एसपी ने भी आास्त किया कि ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु रखी जायेगी और जाम नहीं होने दिया जायेगा। ट्रैफिक जाम के कारण लोगों को आने-जाने में हुई समस्या को देखते हुये न्यायालय ने 12 जुलाई को स्वत: संज्ञान लेते हुए मुख्य सचिव व डीजीपी को तलब कर लिया था। अदालत में एक मामले की सुनवाई के दौरान एक विभाग के प्रधान सचिव के देर से पहुंचने व उनके ट्रैफिक जाम की बात बताने पर न्यायालय ने संज्ञान लिया था।

यह भी पढ़े  कश्मीर पर SC ने नहीं दिया आदेश, CJI बोले- राष्ट्रीय सुरक्षा को देख फैसला ले सरकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here