आंधी-तूफान से 7 घंटे जाम रहा गांधी सेतु, गाड़ियों की लगी लंबी कतार

0
187

मौसम ने रविवार को देश के उत्तर से लेकर दक्षिणी और पूर्व से लेकर पश्चिमी हिस्सों में भारी तबाही मचाई. 24 घंटे के दौरान आंधी-तूफान और बारिश की वजह से हुए हादसों में दिल्ली, हिमाचल, उतराखंड, हरियाणा, पंजाब और यूपी में 41 लोग मारे गए. 50 से ज्यादा लोग घायल भी हैं.

उत्तर भारत में खराब मौसम का असर बिहार के कई हिस्सों में भी पड़ा है. पटना-हाजीपुर को जोड़ने वाली गांधी सेतु पुल पर आंधी के कारण डिवाइडर पर बने टिन गिर जाने से आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया. जाम के कारण सैकड़ों गाड़ियां जाम में फंस गईं. उधर, सोनपुर जेपी पुल पर ट्रक और कार के बीच टक्कर के कारण जाम लग गया, जिससे सैकड़ों गाड़ियां फंस गई और यात्री हलकान हो रहे हैं.

इधर, पटना में देर रात 1 बजे मौसम के मिजाज में अचानक परिवर्तन हो गया. तेज आंधी चलने लगी. साथ ही बूंदाबांदी हुई. लगभग 60 किमी प्रति घंटे की रप्तार से चली आंधी से राजधानी एवं आसपास के कई इलाकों की बिजली गुल हो गई. शहर में लगे कई होर्डिंग उखड़ गए. मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली और उत्तर बिहार में हुए मौसम के परिवर्तन के वजह से ऐसा हुआ है. इसका असर पटना से दिल्ली जाने वाले विमानों पर भी पड़ा.

यह भी पढ़े  बिहटा का क्षेत्र नोएडा व गुड़गांव की तरह हो रहा विकसित:मोदी

राज्य के दूसरे हिस्सों से नुकसान की खबरें आ रही है.आंधी तूफान से आम और लीची के फसल को भारी नुकसान पहुंचा है.

देश के कई राज्यों में आए आंधी-तूफान के बाद बिहार के कई हिस्सों में भी रविवार की देर आंधी-तूफान और बारिश से पूरा जनजीवन प्रभावित हुआ है। अचानक आए आंधी-तूफान से फसलों के नुकसान की खबरें मिल रही हैं। इससे आम,लीची और केले की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है।

पटना के दीघा थानाक्षेत्र में तेज आंधी-बारिश के कारण दीवार गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई वहीं तीन लोग घायल हो गए हैं। छपरा जिले में भी देर रात आए आंधी-तूफान के कारण जान-माल के नुकसान की खबर है। जिले के सदर इलाके में पेड़ गिरने से उसके नीचे दबकर एक व्यक्ति की मौत हो गई है और तीन लोग घायल हो गए हैं।

मुजफ्फरपुर जिले के पारु थाना इलाके में देर रात आई आंधी और तूफान से एक घर की दीवार गिर गई जिसके नीचे दबकर एक बुजुर्ग की मौत हो गई, वहीं पेड़ गिरने से एक युवक की भी मौत उसके नीचे दबने से हो गई है।

यह भी पढ़े  मोदी सरकार के चार साल पूरे, पीएम ने ट्विटर पर जताया जनता का आभार

किशनगंज में सोमवार की सुबह 5 बजे से तेज हवा के साथ लगातार बारिश हो रही है। बारिश से मक्के की फसल को नुकसान पहुंचा है। ग्रामीण इलाकों में बिजली आपूर्ति बाधित है। जान-माल की क्षति का अभी तक कोई सूचना नहीं है।

कटिहार में भी सोमवार की सुबह से ही आसमान में घने बादल छाए हैं और रह-रह कर तेज हवा चल रही है। बीती रात यहां बारिश भी हुई है।

वैशाली जिले में आंधी-तूफान के कारण कई एकड़ में लगे केले की फसल बर्बाद हो गई है। किसानों के बीच मायूसी छायी है। वहीं गांधी सेतु में बैरिकेटिंग गिरने की वजह से यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है। सेतु पर वाहनों की लंबी कतार लगी हुई है। जाम को हटाने का प्रयास किया जा रहा है।

अचानक आई आंधी से हालात ऐसे हो गए कि घरों में लोगों ने दरवाजे-खिड़की बंद कर लिए। तूफान की रफ्तार इतनी तेज थी कि कई जगहों पर दरवाजे-खिड़की तक उड़ गए। कई पेड़ जड़ सहित उखड़ गए और बिजली के खंभे भी टूट कर गिर पड़े। बिजली की आपूर्ति भी बाधित रही, जिस कारण रात से ही ट्रिपिंग की परेशानी बढ़ गई है।

मौसम ने रविवार को देश के उत्तर से लेकर दक्षिणी और पूर्व से लेकर पश्चिमी हिस्सों में भारी तबाही मचाई। 24 घंटे के दौरान आंधी-तूफान और बारिश की वजह से हुए हादसों में दिल्ली, हिमाचल, उतराखंड, हरियाणा, पंजाब और यूपी में 41 लोग मारे गए. 50 से ज्यादा लोग घायल भी हैं।

यह भी पढ़े  नाटक कर लोगों को किया जागरूक

उत्तर भारत में खराब मौसम का असर बिहार के कई हिस्सों में भी पड़ा है। सोनपुर जेपी पुल पर ट्रक और कार के बीच टक्कर के कारण जाम लग गया, जिससे सैकड़ों गाड़ियां फंस गई और यात्री हलकान रहे।

पटना में देर रात एक बजे मौसम के मिजाज में अचानक परिवर्तन हो गया। तेज आंधी चलने लगी। साथ ही बूंदाबांदी हुई। लगभग 60 किमी प्रति घंटे की रप्तार से चली आंधी से राजधानी एवं आसपास के कई इलाकों की बिजली गुल हो गई।

शहर में लगे कई होर्डिंग उखड़ गए। मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली और उत्तर बिहार में हुए मौसम के परिवर्तन के वजह से ऐसा हुआ है। इसका असर पटना से दिल्ली जाने वाले विमानों पर भी पड़ा। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में आंधी-तूफान के साथ ओलावृष्टि की चेतावनी दी है। कई जिलों में 14 और 15 मई को आंधी के साथ ही ओलावृष्टि की चेतावनी दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here