कैंब्रिज एनालिटिका को भारत ने भेजा नोटिस, 7 दिन के अंदर क्लाइंट्स के नाम बताने को कहा

0
244

भारत ने फेसबुक डेटा लीक मामले में सख्त रुख अपनाते हुए यूके स्थित कैंब्रिज एनालिटिका को नोटिस जारी किया है. इसमें सरकार ने पूछा कि क्या उसने चुनावों को प्रभावित या फेसबुक पर मौजूद भारतीयों की जानकारी बेजा इस्तेमाल किया है?

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय तरफ से जारी नोटिस में सरकार ने कैंब्रिज एनालिटिका से छह सवाल पूछे हैं और कंपनी को जवाब देने के लिए 31 मार्च 2018 तक का वक्त दिया है. इसमें पूछा गया है कि कंपनी ने किस तरह से डेटा एकत्र किया. इस डेटा का किस तरह इस्तेमाल किया गया और क्या इसके लिए यूजर्स की रजामंदी ली गई.

भारत सरकार ने कैंब्रिज एनालिटिका से उसकी सेवा लेने वाली कंपनियों के नाम भी पूछे हैं. नोटिस में यह भी पूछा गया कि क्या कंपनी भारतीयों के डाटा का इस्तेमाल कर रही है और क्या इस तरह के डेटा के आधार पर कोई प्रोफाइलिंग की गयी थी?

यह भी पढ़े  कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास पर हमले में 'रॉ' का हाथ होने के पाकिस्तान के आरोपों को भारत ने किया खारिज

कैंब्रिज एनालिटिका पर आरोप है कि उसने गलत तरीके से 5 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स के प्रोफाइल्स से जानकारियां एकत्र कर चुनावों को प्रभावित किया. इस मामले के उजागर होने के बाद अमेरिका और ब्रिटेन की एजेंसियां फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका की जांच कर रही है.

ये कदम इसलिए भी महत्त्वपूर्ण है क्योंकि बीजेपी ने कांग्रेस और कैंब्रिज एनालिटिका के संबंधों पर सवाल उठाए थे. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा कि फेसबुक पर किसी भी तरह के सूचना की चोरी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. सरकार इस मुद्दे को काफी गंभीरता से ले रही है और वो सभी नागरिकों के निजता के अधिकार को लेकर प्रतिबद्ध है.

कैंब्रिज एनालिटिका को भेजे गए नोटिस में पूछा गया है कि क्या कंपनी चुनावों प्रभावित करने को लिए भारतीयों का डेटा एकत्र करने में शामिल थी और वो कौन लोग थे जिन्होंने कंपनी को ये काम सौंपा था. मंत्रालय ने ये भी पूछा कि उसे लोगों का डेटा कैसे मिला और कंपनी ने उस डेटा का उपयोग कैसे किया.

यह भी पढ़े  जापान में शिंजो आबे से मिले PM मोदी, स्वास्थ्य एवं सुरक्षा समेत कई अहम मुद्दोें पर होगी चर्चा

इस मामले में इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (CERT-In) ने लोगों के लिए एक सूचना भी जारी की थी कि कैसे सोशल मीडिया पर अपनी निजी सूचनाओं को चोरी होने से बचाएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here