उम्मीदवार तय करने को लालू अधिकृत ,भभुआ विस सीट पर फंस रहा पेंच

0
257
Patna-Feb.13,2018-Former Bihar Chief Minister and RJD leader Rabri Devi is holding meeting with party leaders at her residence in Patna.

प्रदेश में भाजपा-जदयू की सरकार बनने के बाद पहली बार लोकसभा की एक और विधानसभा की दो सीटों पर उप चुनाव होने वाले हैं। जदयू ने पहले ही कह रखा है कि उपचुनाव नहीं लड़ेगा। लेकिन महागठबंधन राजद और कांग्रेस ने उप चुनाव को मजबूती के साथ लड़ने का निर्णय लिया है। अररिया और जहानाबाद उप चुनाव को लेकर राजद और कांग्रेस में किसी प्रकार असमंजस की स्थिति नहीं है, लेकिन भभुआ सीट को लेकर राजद- कांग्रेस ने दावा ठोका है। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने उपचुनाव में तीनों सीट पर पार्टी की जीत का दावा किया है। राबड़ी ने कहा कि जनता उनके साथ है, लोग देख रहे हैं कि बीजेपी और जदयू क्या कर रहे हैं। भभुआ सीट को लेकर कांग्रेस से चल रही खींचतान पर राबड़ी ने कहा कि ‘‘इस मुद्दे पर कांग्रेस के नेताओं को मीडिया में बात करने की जगह उनसे बोलना चाहिए। कांग्रेस का कोई लीडर हमारे पास नहीं आया और न किसी ने फोन किया।’ कांग्रेस के उपाध्यक्ष व विधान पार्षद रामचंद्र भारती ने मांग की है कि बिहार में लोकसभा की एक सीट एवं विधानसभा की दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव में सीटों के बंटवारे में कांग्रेस को अहम भूमिका निभानी चाहिए क्योंकि कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी है। कांग्रेस को यह निर्णय लेना चाहिए कि वह राजद के लिए कौन सी सीट छोड़े। या नहीं तो कांग्रेस को तीनों सीट पर अपने उम्मीदवार खड़े करने चाहिए। राजद से सीट की मांग करना कांग्रेस के लिए उचित प्रतीत नहीं होता है। इसी तरह विधानसभा में कांग्रेस के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि ‘‘राजद अररिया और जहानाबाद से अपना उम्मीदवार उतारे इसमें उसे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन भभुआ सीट पारंपरिक रूप से कांग्रेस की रही है। यहां से आठ बार कांग्रेस के विधायक जीत कर आए हैं। उन्होंने कहा कि महागठबंधन चलाना सिर्फ एक पार्टी की जिम्मेदारी नहीं है। पार्टी के कार्यकर्ता हर हाल में भभुआ से चुनाव लड़ना चाहते हैं। अगर इस सीट से राजद अपना उम्मीदवार उतारता है तब भी कांग्रेस चुनाव मैदान में उतर सकती है और अपनी ताकत दिखा सकती है। प्रवक्ता राजेश राठौड़ का कहना है कि सीट को लेकर राजद और कांग्रेस के शीर्ष नेता लगातार संपर्क में हैं। दोनों दलों के बीच बैठक कर निर्णय ले लिया जायेगा।

यह भी पढ़े  चौथे चरण का चुनाव प्रचार हुआ खत्म, 29 अप्रैल को होगा मतदान

राजद संसदीय बोर्ड की बैठक पूर्व मंत्री अवध बिहारी चौधरी की अध्यक्षता में 10 सकरुलर रोड में हुई। बैठक में अररिया लोकसभा तथा जहानाबाद व भभुआ विधानसभा उपचुनाव में राजद उम्मीदवारों के चयन पर विचार-विमर्श हुआ। विचार-विमर्श के बाद सर्व सम्मति से प्रस्ताव लेकर उम्मीदवार के चयन के लिए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को अधिकृत करने के लिए केन्द्रीय संसदीय बोर्ड को भेजा गया। बैठक से पहले मीडिया से राबड़ी ने उपचुनाव में सभी सीटों पर पार्टी की जीत का दावा किया। राबड़ी ने कहा कि जनता हमारे साथ है, लोग देख रहे हैं कि बीजेपी और जदयू क्या कर रहे हैं। भभुआ सीट से कांग्रेस की दावेदारी पर चल रही खींचतान पर राबड़ी ने कहा कि इस मुद्दे पर कांग्रेस के नेताओं को मीडिया में बात करने की जगह उनसे बोलना चाहिए। कांग्रेस का कोई लीडर उनके पास नहीं आया और न किसी ने फोन किया। अररिया लोकसभा से पूर्व विधायक सरफराज आलम का लड़ना तय है। वे निवर्तमान राजद सांसद स्वर्गीय मो. तस्लीमुद्दीन के बेटे हैं। जहानाबाद से निवर्तमान राजद विधायक मुंद्रिका सिंह यादव के पुत्र सुदय यादव का लड़ना तय माना जा रहा है। भभुआ से वैसे राजद की तरफ से पूर्व विधायक रामचन्द्र यादव की मजबूत दावेदारी है, पर इस सीट पर महागठबंधन के सहयोगी कांग्रेस ने चुनाव लड़ने की बात कर पेच फंसा दिया है। इस संबंध में तेजस्वी यादव कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संपर्क में हैं। तेजस्वी मंगलवार की देर रात पटना लौटेंगे तो इस पर अंतिम निर्णय हो सकेगा। बैठक में राज्य संसदीय बोर्ड से प्राप्त प्रस्ताव पर विचार-विमर्श हुआ। विचार विमर्श के उपरांत केन्द्रीय संसदीय बोर्ड के सदस्य जगदानंद सिंह ने यह प्रस्ताव रखा कि बिहार के अररिया लोकसभा, जहानाबाद तथा भभुआ विधानसभा के उपचुनाव 2018 में दल के उम्मीदवारों के चयन के लिए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को अधिकृत किया जाये। बैठक में सभी सदस्यों द्वारा इस प्रस्ताव का समर्थन किया गया। तत्पश्चात प्रस्ताव पारित कर राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को अधिकृत कर दिया गया।

यह भी पढ़े  कलाकारों ने पटना बाढ़ राहत कोष में दिये 11 लाख रुपये

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here