देश का जनमत सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ : लालू

0
217

पटना : देश की जनता अब सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ मन बना चुकी है। गुजरात की जनता ने नरेंद्र मोदी के सब्जबाग और नफरत व घृणा की राजनीति को नकार दिया है। ये बातें राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद ने पटना पुस्तक मेले में शनिवार को पूर्व सांसद अली अनवर पर केंद्रित ‘‘अली अनवर’ शीर्षक पुस्तक पर विचार-गोष्ठी तथा परिर्चचा में अपने संबोधन के दौरान कहीं। ‘‘अली अनवर’ शीर्षक इस किताब का संपादन पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता राजीव सुमन ने किया है। यह किताब ‘‘भारत के राजनेता’ नामक पुस्तक श्रृंखला का हिस्सा है, जिसके श्रृंखला-संपादक फार्वड प्रेस पत्रिका के प्रबंध संपादक प्रमोद रंजन हैं। अपने संबोधन में राजद प्रमुख ने पूर्व सांसद अली अनवर को जनता के लिए लड़ने वाला सिपाही बताया। वहीं अपने संबोधन में पूर्व सांसद अली अनवर ने लालू प्रसाद को धर्मनिरपेक्षता का महान योद्धा कहा। उन्होंने हमेशा हाशिए पर रहने वालों के लिए आवाज उठायी। पुस्तक के प्रकाशक द मार्जिनलाइज्ड के संयोजक संजीव चंदन ने कहा कि ‘‘भारत के राजनेता’ पुस्तक श्रृंखला के तहत देश के विभिन्न हिस्सों से चयनित 30 प्रमुख समाज-राजनीति कर्मियों पर किताबें प्रकाशित की जानी हैं। इसमें ऐसे नेताओं को जगह दी गई है, जिनका न सिर्फ सामजिक परिवर्तन में महत्वपूर्ण योगदान रहा हो, बल्कि जिनकी वैचारिकी मौलिक और भारतीय समाज और राजनीति की गति की दिशा मोड़ने वाली रही हो।

यह भी पढ़े  अमित शाह के औरंगाबाद दौरे पर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कसा तंज,

अली अनवर ने भी लालू को धर्मनिरपेक्ष योद्धा करार दिया और कहा कि नीतीश कुमार ने जनादेश का अपमान कर सांप्रदायिक ताकतों से हाथ मिला लिया। पूर्व सांसद शिवानंद तिवारी ने अटल बिहारी वाजपेयी एवं नरेंद्र मोदी की सरकार की तुलना करते हुए कहा कि अटल सबकी सुनते थे, लेकिन मोदी को मनमानी करने की आदत है। इससे लोकतंत्र को खतरा है।
पुस्तक के प्रकाशक ‘द मार्जिनलाइज्ड’ के संयोजक संजीव चंदन ने कहा कि ‘भारत के राजनेता’ सिरीज के तहत देश के विभिन्न हिस्सों से चयनित 30 प्रमुख सामाजिक योद्धाओं एवं नेताओं पर किताबें प्रकाशित की जानी हैं। इस सिरीज में ऐसी हस्तियों को जगह दी जाएगी जिनका सामाजिक एवं राजनीतिक बदलाव में योगदान रहा है। लालू प्रसाद, रामदास अठावले, डी. राजा एवं सीताराम येचुरी पर भी किताबें शीघ्र प्रकाशित होंगी।

कार्यक्रम में जन संस्कृति से जुड़े लेखक मदन कश्यप, पूर्व सांसद शिवानंद तिवारी ने भी अपने विचार रखे। परिर्चचा का संचालन युवा साहित्यकार अरुण नारायण ने किया।

यह भी पढ़े  शहरी समृद्धि उत्सव से गरीबों तक पहुंचेगी सरकारी योजनाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here