सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम के बिच कार्तिक पूर्णिमा स्नान को पहुंचे दस लाख से ज्यादा श्रद्धालु

0
381

 

इस बार 32 दिन चलने वाले विश्व प्रसिद्ध सोनपुर मेला अपने सबाब पर है करीब देर रात तक 5 लाख से ऊपर श्रद्धालु पहुच चुके थे . मेले का आयोजन बिहार सरकार के चार विभागों द्वारा किया गया है जिसमें प्रतेक संध्या सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन अभूत पूर्व है . स्थानीय से लेकर राज्यस्तरीय कलाकारो के साथ साथ देश विदेश में धूम मचाने वाले कालाकार भाग ले रहे है . कल साम आयोजित कार्यक्रमों में कला संस्कृति विभाग के द्वारा कई कार्यक्रमों की प्रस्तुती हुई जो मर्मस्पर्शी के साथ वृहद संदेस और प्रेणना देने वाली थी . मंच का संचालन भी बेहद उच्च कोटि का था जिसमे शैलेश और अर्चना राय भट्ट ने प्रस्तुत किये . गंगा अभियान से जुडी प्रस्तुती हो या मर्म स्प्रसी देहज प्रथा पर संगीत अपने आप में काबिले तारीफ थी ..

हरि और हर की पावन भूमि हरिहरक्षेत्र में पवित्र गंगा स्नान को लेकर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा है। पूरा हरिहरक्षेत्र श्रद्धालुओं की भीड़ से पट गया है। सड़क व नदी मार्ग पर पांव रखने तक की जगह भी नहीं बची है। हाजीपुर से लेकर सोनपुर तक का नजारा देख ऐसा प्रतीत हो रहा है मानो पूरे क्षेत्र ने आस्था व परंपरा की चादर ओढ़ ली हो। शुक्रवार की देर शाम तक हाजीपुर व सोनपुर के विभिन्न घाटों पर दस लाख से ज्यादा श्रद्धालु कार्तिक पूर्णिमा स्नान को यहां पहुंच चुके थे। मठ-मंदिरों एवं घाटों पर साधू-संतों ने डेरा डाल लिया है। भजन-किर्तन से पूरा हरिहरक्षेत्र भक्तिमय हो गया है।

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर गंगा और गंडक नदी के विभिन्न घाटों पर देर रात से ही पवित्र स्नान शुरू हो गया है। पूरा हरिहर क्षेत्र श्रद्धालुओं की भीड़ से पट गया है। घाटों पर जहां शुभ संस्कार हो रहे हैं वहीं शाम से ही भूतखेली भी शुरू हो गई है। जिला प्रशासन ने सुरक्षा को लेकर मोर्चा संभाल लिया है। नदी घाटों पर मजिस्ट्रेट के साथ-साथ पुलिस बल की तैनाती की गई है। साथ ही भीड़ नियंत्रण के लिए स्काउट-गाइड एवं एनसीसी के कैडेटों को भी लगाया गया है।

यह भी पढ़े  Patna Local Photo 07/07/2018

भक्त की पुकार पर यहां पधारे थे प्रभु

हरिहर क्षेत्र का धार्मिक आख्यान है कि यहां कोनहारा घाट के समीप गंगा-गंडक संगम में गज और ग्राह के बीच युद्ध हुआ था। काफी बलवान होने के बावजूद पानी में गज कमजोर पड़ गया, तभी गंगा नदी में उसे एक कमल का फूल दिखाई पड़ा। गज ने अपने सूढ़ में कमल का फूल और गंगाजल लेकर हरि की आराधना की। भक्त की पुकार पर स्वयं हरि पधारें और ग्राह का वध कर गज की प्राणरक्षा की। प्रभु के हाथों मरकर जहां ग्राह को मोक्ष की प्राप्ति हो गयी वहीं गज को नया जीवन मिला। मोक्ष एवं नये जीवन की प्राप्ति की कामना को लेकर हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा पर लाखों की संख्या में लोग हरिहरक्षेत्र हाजीपुर व सोनपुर के तमाम घाटों पर स्नान करते हैं।

घाटों की ओर बढ़ रहा भक्तों का रेला

कार्तिक पूर्णिमा पर पवित्र स्नान को भक्तों का रेला घाटों की ओर बढ़ने लगा है। वैसे तो गुरुवार की दोपहर बाद से ही श्रद्धालुओं का रेला घाटों की ओर बढ़ने लगा था लेकिन शुक्रवार को जैसे-जैसे शाम होती गई, लोगों की तादाद बढ़ती गई। रात तक तो दस लाख से ज्यादा की की संख्या में श्रद्धालु पवित्र स्नान को घाटों तक पहुंच गए। पूरे हरिहर क्षेत्र में विहंगम ²श्य दिख रहा है। महिलाएं, पुरुष, युवा, बच्चे सभी सामानों के साथ घाटों की ओर बढ़ रहे हैं। गांव-देहात से आने वाले लोग तो पूरी तैयारी के साथ आए हैं। ठंड को देखते हुए कई श्रद्धालु पुआल का गट्ठर सिर पर लिए घाटों की ओर जाते देखे गए।

यह भी पढ़े  जल एवं हरियाली के बिना जीवन की कल्पना बेमानी: मुख्यमंत्री

घाटों पर भूत झाड़ने का भी चल रहा खेल

आस्था से जुड़े इस पवित्र मौके पर कई ऐसे ²श्य घाटों पर दिख रहे हैं जो आज के युग में लोगों को अचंभित कर रहे हैं। घाटों पर भूत झाड़ने का खेल चल रहा है। शाम ढलते ही घाटों पर सार्वजनिक रूप से यह खेल शुरू हो गया जो अनवरत जारी है। गांवों से ओझा बड़ी तादाद में यहां पहुंचे हैं और गंगा-गंडक संगम में भूत झाड़ रहे हैं। अधिकतर अशिक्षित महिलाएं अंधविश्वास में पड़कर ओझा-गुणी के चक्कर में देखी जा रही हैं।

देर रात से ही शुरू हो गया पवित्र स्नान

हरिहर क्षेत्र के तमाम घाटों पर शुक्रवार की देर रात से ही पवित्र स्नान शुरू हो गया। लोग स्नान कर पूजा-अर्चना के लिए सोनपुर के प्रसिद्ध हरिहरनाथ मंदिर, हाजीपुर के पतालेश्वरनाथ मंदिर समेत तमाम मठ-मंदिरों की ओर बढ़ने लगे हैं। मंदिरों में भक्तों की अपार भीड़ को लेकर सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं। कार्तिक पूर्णिमा पर पहुंचने वाले श्रद्धालु पवित्र स्नान एवं पूजा-अर्चना के बाद सोनपुर मेला का भ्रमण करते हैं।

यह भी पढ़े  पुलवामा हमले को लेकर बढ़ा लोगों का गुस्सा

घाटों पर शुभ संस्कार को पहुंचे लोग

कार्तिक पूर्णिमा पर हरिहर क्षेत्र की पावन भूमि पर बड़ी तादाद में लोग मन्नत उतारने भी पहुंचे हैं। जगह की महत्ता के अनुरूप लोग मुंडन, पूजन व अन्य शुभ संस्कार कराते हैं। इस मौके पर यहां किन्नरों की टोली ने भी डेरा जमा लिया है। शुभ संस्कार के बाद किन्नर पूरे घाट पर नाचते-गाते हैं और लोगों से बख्शिस मांगते हैं। दरअसल यह भी अपनी संस्कृति का एक अंग हैं।

हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला गाउंड स्थित सूचना एवं जन संपर्क विभाग के मुख्य पंडाल के सांस्कृतिक मंच से शुक्रवार को स्कूली छात्र- छात्रओं ने सर्व शिक्षा अभियान पर आधारित गीत, संगीत, भजन, गजल, भक्ति गीत के अलावा एकांकी की आकर्षक प्रस्तुति की।  सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरूआत पहाड़ीचक कन्या उच्च विद्यालय की छात्र सालोनी के गणोश वंदना से हुई। उसके बाद बिहार की गौरव गाथा पर आधारित ये बिहार की धरती तुझ पर दिल कुर्बान और भ्रूण हत्या पर आधारित देवानंद ठाकुर की प्रस्तुति अगिया दहेज के अईसन तेज हो गईल, बेटी जनमावल परहेज हो गईल को श्रोताओं ने खूब सराहा। संगीत शिक्षक आदर्शअमन और अजय राम, मणुलिका कुमारी, रविशंकर नारायण सिंह, हैप्पी श्रीवास्तव, विनिता पांडेय, ज्योत्सना कुमारी आदि ने सामाजिक बुराईयों के खिलाफ जागरूकता पर आधारित एक से बढ़कर एक प्रस्तुति कर दर्शकों का मन मोह लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here