आज 24 सितम्बर का इतिहास

0
390

24 सितम्बर 1805 ईसवी को फ़्रांस के तानशाह नेपोलियन बोनापार्ट की सैनिक कार्रवाई समाप्त हुई। यह कार्रवाई ऑस्ट्रिया के आक्रमण का सामना करने के लिए की गयी थी। फ़्रांस के 2 लाख सैनिकों ने ऑस्ट्रिया की सेना को भारी पराजय का सामना करवाया। ऑस्ट्रिया हालॉकि स्वयं को फ्रांस का मित्र बताता था किंतु वह रुस और ब्रिटेन से गुप्त वार्ताएं करके नेपोलियन को हराने का इरादा रखता था।

24 सितम्बर सन 1939 ईसवी को जर्मनी के बमबार विमानों ने पोलैन्ड की राजधानी वारिसा पर आक्रमण आरंभ किया। द्वितीय विश्व युद्ध के आरंभ में होने वाली यह बमबारी तीन दिनों तक जारी रही। इस बमबारी के बाद वारिसा की जनता ने 11 दिनों तक कड़ा संघर्ष किया किंतु अंतत: उसे जर्मनी की सेना के सामने हथियार डालना पड़ा। हिटलर ने नाज़ी सेना के कमांडरों को आदेश दिया था कि जिस प्रकार से भी संभव हो, इस शहर पर क़ब्ज़ा करें। वारिसा नगर पर बमबारी में कम से कम 15 हज़ार लोग मारे गये थे।

यह भी पढ़े  आज 5 सितंबर 2018 का इतिहास

24 सितम्बर सन 1974 ईसवी को अफ्रीकी देश गिनी बीसाओ ने पुर्तग़ाल से अपनी स्वाधीनता की घोषणा की। वर्ष 1446 ईसवी में पुर्तग़ाल के युवराज प्रिंस हेनरी और उनके साथियों ने इस देश की खोज की जिसके बाद यह देश पुर्तग़ाल का उपनिवेश बन गया। 17वीं और 18वीं शताब्दी में पुर्तग़ाल का भाग हो चुका यह देश योरोप वालों के दास व्यापार के केंद्रों में था। 1960 के दशक के आरंभ से इस देश की जनता ने पुर्तग़ाल के विरुद्ध अपना संघर्ष तेज़ कर दिया। यहॉ तक कि सन 1970 ईसवी में इस देश का दो तिहाई भाग स्वतंत्रता प्रेमियों के अधिकार में आ गया। पुर्तगाल ने अंतत: वर्ष 1974 में इस देश को स्वाधीन कर दिया। यह देश उत्तर पश्चिमी अफ़्रीक़ा महाद्वीप में अटलॉटिक महासागर के तट पर स्थित है। इसके पड़ोसा में सेनेगाल और गिनी जैसे देश हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here