बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह कोरोना पॉजिटिव, बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 11460,अब तक 88 मरीजों की मौत

0
34

बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 11 हजार पार कर गई है। अब तक कुल 11,460 लोग संक्रमित हुए हैं। आज स्वास्थ विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट मे 349 नये मरीज मिले है ।

बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनकी पत्नी, बेटा और पीए भी संक्रमित हो गए हैं। सभी को पटना एम्स में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि तीन दिनों से उनकी तबीयत खराब थी। उन्हें खांसी और बुखार की शिकायत थी। इसके बाद पूरे परिवार और संपर्क में आए लोगों की कोरोना जांच कराई गई।

4 दिन पहले 9 एमएलसी को दिलाई थी शपथ, बगल में बैठे थे नीतीश
4 दिन पहले अवधेष नारायण सिंह ने नवनिर्वाचित 9 विधान पार्षदों को शपथ दिलाई थी। इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी, मंत्री श्रवण कुमार उनके बगल में बैठे थे। एक पुलिसकर्मी उनके पीछे था।

आज फिर पहली जांच रिपोर्ट में एकसाथ 349 नए मरीज मिले हैं, एक मरीज की आज सुबह पटना एम्स में मौत हो गई है। कल छह मरीजों की मौत हो गई थी। प्रदेश में महामारी से अब तक 88 लोग मारे गए हैं। शनिवार को 349 नए मरीज मिलने के बाद संक्रमितों की संख्या अब 11460 हो गई है। शुक्रवार को कोरोना से और छह लोगों की मौत भी हुई है।
आज समस्तीपुर जिले के शिक्षा विभाग के निवर्तमान जिला कार्यक्रम पदाधिकारी की मौत पटना एम्स में हो गई। वे कोरोना पॉजिटिव थे। समस्तीपुर में ही कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद पिछले एक महीने से वे पटना में भर्ती थे। उनके मौत की सूचना से शिक्षा विभाग में शाेक की लहर दौड़ गई है। जिला प्रशासन ने उनकी मौत की पुष्टि की है।

यह भी पढ़े  सात दिनों में भाजपा पहुंचेगी साठ लाख सदस्यों के घर

पिछले 24 घंटे में 428 नए मरीजों की पुष्टि हुई है और 217 लोग स्वस्थ हुए हैं। अब तक 88 मरीजों ने कोरोना से दम तोड़ा है। राज्य में लोगों को मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। मास्क नहीं पहनने वाले को पकड़े़ जाने पर ५० रुपए बतौर जुर्माना लगाया जायेगा। साथ ही उन्हें मुफ्त में २ मास्क भी दिये जायेंगे। राज्य सरकार ने यह फैसला कोरोना वायरस के लगातार बढ़रहे प्रभाव को देखते हुए लिया है।

नालंदा मेडि़कल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण से 4 मरीजों की मौत हो गयी। यहां बृहस्पतिवार को एक संदिग्ध मरीज की मौत हुई थी‚ जिसकी जांच रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई। ड़ायबिटीज से ग्रस्त इस मरीज को 1 जुलाई को गंभीर स्थिति में यहां भर्ती कराया गया था। इसी तरह श्रीपुर मोतिहारी के 50 वर्षीय एक व्यक्ति की भी मौत हो गयी। उसे 29 जून को महावीर कैंसर संस्थान से रेफर कर यहां भर्ती कराया गया था। वह गले के कैंसर से ग्रस्त था। इसके अलावा पटना सिटी के आलमगंज थाना क्षेत्र गायघाट के रहने वाले ५५ वर्षीय एक शख्स ने दम तोड़़ दिया। उसे 29 जून को आईजीआईएमएस से रेफर कर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह ह्रदय रोग से ग्रस्त था। वहीं पूर्वी चंपारण के आश्रम रोड़ (रक्सौल) निवासी 42 वर्षीय एक महिला की जान चली गयी। उसे 1 जुलाई को पीएमसीएच से रेफर कर अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

यह भी पढ़े  पैक्स चुनाव : आज प्रकाशित हो जायेगी मतदाता सूची

इस बीच‚ स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारीपहली जांच रिपोर्ट में 428२८ लोग संक्रमण की जद में पाये गये। पटना में 48‚ मुजफ्फरपुर में 32‚ सीवान में 19‚ प. चंपारण में 17‚ भागलपुर में 16‚ सहरसा में 15‚ पूर्वी चंपारण में 14‚ बेगूसराय में 13‚ नालंदा में 9‚ औरंगाबाद में 8‚ पूर्णिया में 7‚ गया और मुंगेर में 6-6 ‚ मधुबनी‚ रोहतास और शिवहर में 3-3‚ जमुई‚ लखीसराय‚ मधेपुरा और सीतामढी में 2-2 तथा कैमूर‚ किशनगंज और शेखपुरा में 1-1 के संक्रमित होने की पुष्टि की गई है। इनमें से एक झारखंड की राजधानी रांची का निवासी है‚ जिसके स्वाब सैंंपल की जांच की गई है।

पटना सिटी की 80% आबादी लॉक
पटना सिटी इलाके में कोरोना का प्रकोप बढ़ने के बाद प्रशासन की सख्ती बढ़ गई है। क्षेत्र की 80 प्रतिशत आबादी लॉकडाउन की स्थिति में है। संक्रमण को रोकने के लिए 18 कंटेनमेंट जोन बना कर इलाके को 12 सेक्टर में बांटा गया है। वहीं आधा दर्जन से अधिक मोहल्लों को बफर जोन में शामिल किया गया है। इन क्षेत्रों को सील कर दिया गया है।

यह भी पढ़े  बिहार में राजग के भीतर ‘कोई दरार’नहीं है : नित्यानंद

पीएमसीएच-आरएमआरआई में जांच बंद
पीएमसीएच में कोरोना की जांच बंद हो गई है। यहां आए करीब 500 सैंपल को आरएमआरआई भेज दिया गया। माइक्रोबायोलॉजी विभाग के हेड समेत दो डॉक्टर, एक टेक्नीशियन के कोरोना संक्रमित होने के कारण विभाग को सैनिटाइज किया जा रहा है। सोमवार से लैब चालू होने पर सभी चिकित्सकों की जांच कराई जाएगी। अब तक आठ विभागों के चिकित्सक, नर्स, टेक्नीशियन और कर्मचारी संक्रमित हो चुके हैं।

वही सूचना एवं जन-संर्पक सचिव अनुपम कुमार ने बताया कि, कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति को लेकर सरकार द्वारा सभी आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं. वर्तमान में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं. इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग एवं संबंधित विभाग इसे लेकर लोगों को सतर्क कर रही है एवं उनके बीच ‘जन जागरुकता अभियान’ चलाकर लोगों को सजग कर रही है.

उन्होंने लोगों से अपील कि, वे मास्क का प्रयोग जरुर करें. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरुर करें और नियमित अंतराल पर हैंडवॉश करते रहें. कोरोना संक्रमण की चपेट में जल्द आने वाले वर्गों (वलनेरेबुल ग्रुप) के प्रति विशेष सतर्कता बरतने के साथ-साथ उन्हें सुरक्षित रखने की आवश्यकता है.

सचिव सूचना ने बताया कि, मास्क पहनना अब अनिवार्य कर दिया गया है. मास्क नहीं पहनने वालों पर 50 रुपए जुर्माने की राशि तय की गई है. साथ ही, उन्हें 2 मास्क मुफ्त में दिए जाएंगे. 2 मॉस्क मुफ्त वितरण का उद्देश्य है कि, मास्क पहनने के लिए सभी लोग प्रेरित हों.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here