लालू यादव के 15 साल के शासन के दौरान हुई गलती के लिए तेजस्वी ने मांगी माफी

0
31

बिहार में विधानसभा का चुनाव होने वाला है। एनडीए ने इस चुनाव में लालू यादव के शासन काल के 15 साल बनाम नीतीश कुमार के 15 साल को मुख्य मुद्दा बनाया है। राजद इस मुद्दे की काट की तलाश में है। इसी कोशिश में गुरुवार को तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में राजद 15 साल तक सरकार में रहा। इस दौरान जो भी भूल या गलती हुई इसके लिए हम माफी मांगते हैं। इसके साथ ही तेजस्वी ने नीतीश कुमार से पूछा कि वह भी तो 15 साल से मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने जनता से किए अपने वादों को पूरा क्यों नहीं किया?

तेजस्वी यादव ने पार्टी के एक कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि 15 साल के आरजेडी शासनकाल के दौरान अगर किसी प्रकार की गलतियां हुई हैं, तो वह उसके लिए माफी मांगते हैं. उन्होंने कहा कि ठीक है 15 साल हम लोग सत्ता में रहे, पर हम तब सरकार नहीं थे हम तो छोटे थे. इससे कोई इनकार नहीं कर सकता कि लालू जी ने सामाजिक न्याय नहीं किया. उन 15 सालों में हमसे कोई भूल हुई हो तो हम उसके लिए भी माफी मांगते हैं.

यह भी पढ़े  63वीं बीपीएससी परीक्षा का परिणाम जारी,श्रीयांश तिवारी बने बीपीएससी टॉपर

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए तेजस्वी ने यह भी कहा कि लालू यादव ने पिछड़े और गरीब वर्ग से आए लोगों को प्रतिनिधित्व का मौका दिया. हमारी पार्टी सबके लिए है. हम सबको सम्मान देंगे और जात-पात से ऊपर उठकर काम करेंगे. तेजस्वी ने कहा कि अगर बिहार की जनता उन्हें एक मौका देगी तो वे राज्य में विकास की गंगा बहा देंगे. हम सभी को रोजगार देंगे और हर घर में खुशहाली लाने की कोशिश करेंगे.

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की चचेरी साली डॉ. करिश्मा राय गुरुवार को राजद में शामिल हो गईं। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पार्टी कार्यालय में उन्हें राजद की सदस्यता दिलायी। इस कार्यक्रम में तेजस्वी ने कहा कि बिहार आज बेरोजगारी का केंद्र बन गया है। कोरोना काल में देश में सबसे अधिक पलायन बिहार के लोगों का हुआ। यहां रोजगार नहीं है। काम की तलाश में बाहर गए लोगों को लॉकडाउन के दौरान अपने घर लौटना पड़ा।

यह भी पढ़े  चुनाव का ‘‘महाभारत’ जैसे-जैसे जोर पकड़ता जा रहा है भाजपा अपने चुनाव प्रचार की धार तेज करती जा रही

तेजस्वी ने कहा कि ठीक है 15 साल हमलोग सत्ता में रहे। इससे कोई इनकार नहीं कर सकता कि लालू ने सामाजिक न्याय नहीं किया। लालू ने सामाजिक न्याय किया। वह दौर अलग था। ठीक है 15 साल में हमसे कोई कमी या भूल हुई तो उसके लिए हम माफी भी मांगते हैं। लेकिन नीतीश कुमार भी तो 15 साल से मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने कहा था कि पलायन रोक दूंगा, रोजगार देंगे, किसानों की स्थिति ठीक करेंगे। बिहार में चौतरफा विकास होगा। उन्होंने अपना वादा क्यों पूरा नहीं किया? लालू के राज में जन प्रतिनिधियों, गरीबों और पार्टी कार्यकर्ताओं का सम्मान होता था। कोई भी ब्लॉक ऑफिस चला जाता था तो काम होता था। आज तो मंत्रियों की इज्जत नहीं है।

विधान सभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि कोरोना काल में जब बिहार के लोग बेहाल और परेशान हो कर मर रहे थे‚ उस समय भाजपा गरीबों का मजाक उडाते हुए करोडों करोड खर्च कर वर्चुअल रैली कर रही थी। ऐसे कठिन समय मे भाजपा को मात्र सत्ता और कुर्सी का लोभ सता रहा था। कोरोना काल में बिहार के लाखों मजदूरों और मेहनतकशों का रोजगार छीन गया ।उन्हें मजबूरन अपने घरों को लौटना पडा। मुख्यमंत्री उन्हें घर वापस लौटने नहीं देना चाह रहे थे। हमने और हमारे दल ने मजदूरों के हक की आवाज उठाई। सरकार की गलत नीति के कारण मजदूरों को हजारों किलोमीटर पैदल चलकर अपने घर आना पडा। श्री यादव बृहस्पतिवार को राजद प्रदेश कार्यालय मे आयोजित मिलन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

यह भी पढ़े  पुलिसकर्मी दिखावे की नहीं, प्रभावकारी गश्ती करें : गरिमा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here