अगले 48 घंटे बिहार पर पड़ेंगे भारी, इन जिलों में आकाशीय बिजली गिरने का खतरा

0
42

बिहार के लिए अगले 48 घंटे भारी गुजरने वाले हैं, अगले दो दिनों तक आंधी के साथ  तेज बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी किया गया है। इस दौरान लोगों से अपील की जा रही है कि  बारिश के दौरान घर से बाहर ना निकलें और एहतियात बरतें। बता दें कि वज्रपात से पिछले दो दिनों  में काफी संख्या में लोगों की मौत हो गई है। बता दें कि राज्य में मानसून जोर-शोर से सक्रिय है। वर्तमान में प्रदेश से दो ट्रफ लाइन (कम दबाव का क्षेत्र) गुजर रही है। इस कारण उत्तरी बिहार में भारी बारिश हो रही है। इस तरह की स्थिति अगले दो दिनों तक रहने की उम्मीद है।

बिहार के कई जिलों में तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हो सकती है. 18 जिलों में खास तौर पर एहतियात बरतने की सलाह दी गई है. पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीवान, शिवहर, सीतामढ़ी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, सारण, मधुबनी, सुपौल, अररिया, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, किशनगंज और कटिहार के लिए चेतावनी जारी की गई है. इसके अलावा नालंदा और पटना के लिए भी अलर्ट किया गया है. निवार को भारी बारिश के साथ बिजली कड़कने के भी आसार हैं. मौसम विभाग ने लोगों से अपील की है कि वे घरों से बाहर न निकलें.

यह भी पढ़े  बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी

इस कारण हो रही बारिश
मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार वर्तमान में प्रदेश से दो ट्रफ लाइन (कम दबाव का क्षेत्र) गुजर रही है. राज्य से एक ट्रफ लाइन पूर्वी बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश होते हुए पंजाब एवं हरियाणा तक और दूसरी बिहार से विदर्भ एवं छत्तीसगढ़ तक जा रही है. इससे राज्य में झमाझम बारिश हो रही है. खास तौर पर गंगा के तटीय इलाके से लेकर के हिमालय के तराई के इलाके तक फिलहाल भारी बारिश हो रही है. सी

29 जून से बदलेगा मौसम

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विवेक सिन्हा के अनुसार रविवार तक प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश होती रहेगी. शनिवार को कुछ अधिक और रविवार को इसकी तीव्रता में कमी आएगी, लेकिन कई जगहों पर बारिश होती रहेगी. 29 जून से मानसून की तीव्रता में कुछ कमी आ सकती है. उन्होंने कहा कि इस बार समय पर आया है. इससे बेहतर बारिश की उम्मीद की जा रही है. मानसून के दौरान होने वाली यह सामान्य बारिश है, पर एहतियात बरतना जरूरी है.

यह भी पढ़े  NDA में सीट बंटवारे पर कुशवाहा का तंज, कहा- 56 इंच सीने वाले नतमस्तक हो गए

रविवार तक बना रहेगा खतरा
मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार जिस तरीके से बिहार से लेकर राजस्थान तक ट्रफ लाइन बना हुआ है वैसे में राज्य में कंवर्जेंस जोन बन गया है. इस जोन मे गर्म और ठंडी हवाएं आपस में टकराती हैं. इन हवाओं के टकराने से ही बिजली कड़कती है, जिसे वज्रपात ठनका कहा जाता है. पटना मौसम केंद्र के अनुसार अभी उत्तर बिहार के सीमावर्ती इलाकों में लगभग 3.5 किलोमीटर की ऊंचाई पर बंगाल की खाड़ी से आने वाली नमीयुक्त एवं राजस्थान से आने वाली शुष्क हवाएं टकरा रही हैं. इस कारण बिजली कड़क रही है, वज्रपात की घटना भी घटित हो रही है. कमोबेश ये स्थिति 28 जून तक रहेगी.

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विवेक सिन्हा का कहना है कि शनिवार तक प्रदेश में भारी बारिश होगी। उसके बाद मानसून की तीव्रता में कुछ कमी आ सकती है। मानसून के दौरान होने वाली यह सामान्य बारिश है। इस वर्ष मानसून समय पर आया है। इससे बेहतर बारिश की उम्मीद की जा रही है। शुक्रवार को दिनभर सुबह से रात तक दिनभर रुक-रुककर बारिश होती रही।

यह भी पढ़े  बिहार में चमकी व तेज बुखार का कहर जारी, अब तक 38 बच्चों की मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here