शहरी क्षेत्रों के गरीबों में मुफ्त बांटें मास्कः नीतीश

0
31

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ग्रामीण क्षेत्रों की तरह शहरी क्षेत्रों में भी गरीब परिवारों‚ रिक्शा चालकों‚ दिहाडी मजदूरों‚ ठेला वेंडर्स और अन्य जरूरतमंद लोगों के बीच मास्क का निःशुल्क वितरण करने का निर्देश दिया है। कोविड–१९ से बचाव के लिए किये जा रहे कार्यों की मंगलवार को समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कई जरूरी दिशा–निर्देश दिये। उन्होंने एक बार फिर अपील की कि सभी लोग मास्क के प्रयोग के साथ–साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। लोग सरकार द्वारा जारी दिशा–निर्देशों का पूरी तरह पालन करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहर से ज्यादातर श्रमिक यहां आ चुके हैं। इनमें कुछ ऐसे लोग भी हैं‚ जिनका राज्य के अंदर किसी भी बैंक में खाता संधारित नहीं है।
उन्होंने निर्देश दिया कि बाहर के राज्यों से यहां वापस आ चुके ऐसे लोगों के बैंक खाते खुलवाकर उन्हें भी १‚००० रुपये की राशि शीघ्र हस्तांतरित करें। उन्होंने यह भी कहा कि किसी कारणवश जिन श्रमिकों का आधार कार्ड नहीं बन पाया है‚ उनका आधार कार्ड जल्द बनवाया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि होम क्वारेंटाइन में रहने वाले लोगों में कोरोना संक्रमण के तनिक भी लक्षण दिखे‚ तो उनके परिवार या आसपास के लोग प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र या नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान को जरूर सूचित करें। इससे परिवार‚ गांव एवं पूरा समाज सुरक्षित रह सकेगा। उन्होंने कहा कि पल्स पोलियो की तर्ज पर डोर टू डोर स्क्रीनिंग के दूसरे चरण में ६५ वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों‚ अन्य गंभीर रोगों से ग्रसित लोगों‚ गर्भवती महिलाओं तथा १० वर्ष से कम उम्र के बच्चों की स्क्रीनिंग करने पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। साथ ही उनकी टेस्टिंग भी प्राथमिकता के आधार पर करायी जाये‚ क्योंकि उनमें संक्रमण से खतरा अधिक है। मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जनहित में वृहत जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं एवं नगर निकायों के प्रतिनिधियों के सहयोग से जन–जन तक जागरूकता अभियान चलाया जाये। जागरूकता अभियान में चार बिन्दुओं पर विशेष देने ध्यान की आवश्यकता है।
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन‚ मास्क का उपयोग‚ लक्षण दिखने पर बिना छिपाये तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर सूचित करना तथा ६५ वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों‚ अन्य गंभीर रोगों से ग्रसित लोगों‚ गर्भवती महिलाओं तथा १० वर्ष से कम उम्र के बच्चों पर विशेष रूप से ध्यान देकर उन्हें सुरक्षित रखना। मुख्यमंत्री ने संक्रमित लोगों की बढती संख्या को देखते हुए चिकित्सकीय सुविधाओं के साथ–साथ प्रोटोकॉल के अनुरूप आइसोलेशन वार्ड्स एवं बेड्स की संख्या बढाने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जो लोग क्वारेंंटाइन सेंटर पर क्वारेंटाइन की निर्धारित अवधि पूरी कर या अस्पताल से डिस्चार्ज होकर अपने घर जा रहे हैं‚ लोग उनके प्रति सकारात्मक रहें‚ साथ ही उनके स्वास्थ्य संबंधी लक्षणों पर भी ध्यान दें। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि भीडभाड एवं बाजार वाले इलाकों में साफ–सफाई एवं सैनिटाइजेशन पर विशेष ध्यान दें।

यह भी पढ़े  चमकी बुखार से 68 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने लिया हालात का जायजा ,जायजा लेने जाएगी RJD की टीम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here