कोरोना महामारी के बीच मैट्रिक परीक्षा 2020 के नतीजे घोषित ,80.59 फीसद परीक्षार्थियों ने उत्तीर्णता हासिल की

0
37
Bihar school examination Board 10th Matric Result celebrates kerte students

देशभर में फैली कोरोना महामारी के बीच बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बीएसईबी) ने मंगलवार को मैट्रिक परीक्षा 2020 के नतीजे घोषित किये। इस साल 80.59 फीसद परीक्षार्थियों ने उत्तीर्णता हासिल की। जनता हाई स्कूल‚ रोहतास के हिमांशु राज ने परीक्षा में कुल 481 अंक (96.20प्रतिशत) प्राप्त कर पूरे बिहार में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। वह रोहतास जिले के नटवर गांव के एक किसान सुभाष सिंह का पुत्र है। इसी तरह एसके हाई स्कूल‚ समस्तीपुर के छात्र दुर्गेश सिंह ने 480 अंक प्राप्त कर सेकेंड़ टॉपर बनने का गौरव प्राप्त किया। थर्ड़ टॉपर में तीन विद्यार्थी शामिल हैं। इनमें श्री एचकेजेजीएस‚ भोजपुर के छात्र शुभम कुमार (478 अंक)‚ पटेल हाई स्कूल द़ाउदनगर‚ औरंगाबाद के छात्र राजवीर (478 अंक) और बालिका हाई स्कूल‚ अरवल की छात्रा जूली कुमारी (478 अंक) शामिल हैं। इस परीक्षा में हासिल अंकों के अनुसार 41 परीक्षार्थियों ने शीर्ष दस में जगह बनायी है जिनमें 10 छात्राएं भी हैं। इससे पहले राज्य के शिक्षा मंत्री कृष्णनंद प्रसाद वर्मा ने परीक्षाफल जारी किया। इस अवसर पर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन और बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर भी मौजूद थे। परीक्षा में कुल 12‚04‚030 (80.59 प्रतिशत ) विद्यार्थियों ने उत्तीर्णता हासिल की है। इनमें 6‚13‚485 छात्र और 5‚90,545 छात्राएं हैं। परीक्षा में 4‚03,392 विद्यार्थियों ने प्रथम श्रेणी में उत्तीर्णता प्राप्त की‚ जबकि 5‚24‚217 विद्यार्थियों ने द्वितीय और 2‚75‚402 परीक्षार्थियों ने तृतीय श्रेणी में सफलता हासिल की। परीक्षा में कुल 14‚94‚071 विद्यार्थी सम्मिलित हुए थे। इनमें 7‚29‚213 छात्र तथा 7‚64‚858 छात्राएं थीं। इस वर्ष मैट्रिक के परीक्षाफल में लंबित मामलों की संख्या मात्र 4 है‚ जो समिति के इतिहास में अबतक का न्यूनतम है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि पूरे देश में कोरोना महामारी लॉकड़ाउन के कारण देश के अन्य परीक्षा बोर्ड़ों द्वारा या तो परीक्षा का आयोजन अबतक पूर्ण नहीं किया जा सका है या जिन बोर्ड़ों द्वारा अब तक परीक्षाओं का आयोजन कर भी लिया गया है‚ उनके द्वारा उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन अब तक पूरा नहीं किया गया है‚ जिसके कारण अब तक देश के किसी भी परीक्षा बोर्ड़ द्वारा मैट्रिक एवं इंटर (बारहवीं) के परीक्षाफल का प्रकाशन नहीं किया गया है‚ जबकि दूसरी ओर परीक्षा समिति ने वार्षिक माध्यमिक परीक्षा का रिजल्ट जारी किया।

यह भी पढ़े  लिपि भाषा का लिबास होती है : जयकांत

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here