AI-415 फ्लाइट से पटना लौटे यात्रियों के लिए अलर्ट जारी, विमान में कोरोना पॉजिटिव यात्री ने किया था सफर

0
57
प्र्तिकात्मक छवि

बिहार के यात्रियों के लिए एयर इंडिया ने अलर्ट जारी किया है। 23 मार्च को एयर इंडिया की फ्लाइट AI-415 से दिल्ली से पटना लौटे यात्रियों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। एयर इंडिया प्रबंधन की तरफ से बताया गया है कि इस फ्लाइट में कोरोना पॉजिटिव यात्री मौजूद थे। इस विमान से पटना लौटे यात्रियों को आइसोलेशन की सलाह दी गई है।

इसके अलावा मुंबई-दिल्ली AI-101 के लिए भी अलर्ट किया गया है। 22 मार्च को इस विमान में कोरोना पॉजिटिव यात्री ने सफर किया था। बता दें कि 23 मार्च के बाद घरेलू विमानों के उड़ान पर रोक लगा दी गई है।

बिहार में अब तक कोरोना के 32 केस
बिहार में अब तक कोरोनावायरस के 32 केस सामने आए हैं। इसमें सबसे ज्यादा केस मुंगेर का है जहां 7 मरीजों में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। पटना में 5, सीवान में 5, गया में पांच, गोपालगंज के तीन, नालंदा के तीन, सारण-लखीसराय-बेगूसराय-भागलपुर के एक-एक मरीजों की पुष्टि हुई है।

 

बिहार में शुरू हुआ कोरोना का चेन ब्रेक, थर्ड स्टेज का खतरा भी कमा

बिहार में सख्ती से किए गए लॉकडाउन (Lockdown) का नतीजा अब सामने आने लगा है और जानलेवा बीमारी बन चुकी कोरोना (Corona) का चेन ब्रेक शुरू हो गया है. पिछले 4 दिनों से कोरोना मरीजों में बहुत तेजी से इजाफा नहीं देखा जा रहा है तो बिहार के पहले मरीज जो कि मुंगेर से था द्वारा फैल रही इस बीमारी का संपर्क भी टूटता दिख रहा है.

यह भी पढ़े  कर्नाटक संकट: बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई

मुंगेर के मरीज से फैला था संक्रमण

राज्य में मुंगेर के एक मात्र जिस मरीज की मौत कोरोना की वजह से हुई थी उसके संपर्क में अब तक 14 लोग संक्रमित होकर पॉजिटिव पाए गए थे लेकिन अच्छी बात ये है कि अब तक संपर्क में आये 4 लोग ठीक भी हो गए तो बाकि की हालत में भी तेजी से सुधार देखी जा रही है. पटना के सरनाम अस्पताल के संपर्क में आये 3 मरीजों में एक नर्स और एक वार्ड ब्वाय को तीसरी बार रिपोर्ट नेगेटिव आने पर जहां एनएमसीएच से छुट्टी मिल चुकी है वहीं 1 मरीज अब भी इलाजरत है जबकि अन्य मरीजों की बात करें तो एक ही परिवार के सीवान से आये 4 पॉजिटिव मरीजों की हालत में भी सुधार है और अब तीसरी बार सैम्पल लिया जाएगा जिसमें नेगेटिव आने पर एनएमसीएच से छुट्टी मिल जाएगी.

किस जिला से कितना मरीज
एनएमसीएच के अधीक्षक डॉ निर्मल कुमार सिन्हा की मानें तो अब मुंगेर के मृतक मरीज के संक्रमण का असर नहीं रहा बाकि जो भी पॉजिटिव आ रहे हैं उनकी अपनी ट्रेवल हिस्ट्री है. राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 32 पर है जिसमें सबसे ज्यादा मुंगेर, गया, पटना, सीवान के मरीज शामिल हैं. यानि गया में 5, सीवान में 6, मुंगेर में 7, पटना में 5, गोपालगंज में 3, लखीसराय में 1, सारण में 1, भागलपुर में 1, बेगूसराय में 1 और नालंदा में 2 मरीज पॉजिटिव मिले हैं.

15 अप्रैल से घटेगा कोरोना का प्रभाव

यह भी पढ़े  कांग्रेस ने बदला MLC उम्मीदवार, तारिक अनवर की जगह समीर सिंह का बनाया प्रत्याशी

कोरोना सैम्पल की बात करें तो राज्य में अब तक 2653 सैम्पल लिए गए हैं जिसमें 2517 सैम्पल निगेटिव पाए गए हैं. इस बाबत आईजीआईएमएस के डीन और माइक्रोबायोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ एसके साही भी दावा कर रहे हैं कि 15 अप्रैल के बाद से बिहार में वायरस निष्क्रिय होने लगेगा और मरीजों की संख्या में वृद्धि नहीं होगी.

सीवान.  कोरोना संकट को लेकर जिला प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है, बावजूद कहीं न कहीं कोई न  कोई नया मामला सामने आ  जा रहा है। शनिवार को कोरोना पॉजेटिव के केस में एक नया मामला और  जुड़ गया। जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 06 हो गई।  वह 19 मार्च को ओमान से बहरिन और बहरिन से 20 मार्च को मुंबई एयरपोर्ट आया था, एक दिन रूककर 21 मार्च  हवाई मार्ग से ही पटना और पटना से बस से सीवान शाम करीब 4 बजे पहुंचा था। अब पूरे इलाके को सैनिटाइज्ड किया जाएगा ताकि संक्रमण नहीं फैले।

उसके साथ में दरौली का एक युवक और दूसरा मुज्जफरपुर का एक युवक भी साथ में था। सीवान  बबुनिया रोड बस स्टैंड से पैदल चलकर रात्रि में करीब 8 बजे घर पहुंचा था। उधर मामला संज्ञान में आने के बाद जिलाधिकारी अमित कुमार पांडेय के निर्देश पर चिकित्सकों की  टीम के साथ एसडीओ सीवान सदर संजीव कुमार, बीडीओ रघुनाथपुर और रघुनाथपुर थानाप्रभारी ने दल बल के साथ गांव का  दौरा किया और पूरे गांव में निगरानी  बढ़ा दी।

पांच भाइयों में सबसे बड़ा है। इसके दो भाई अाैर विदेश में हैं, जबकि एक भाई गुजरात में है। परिवार में पिता, माता के अलावा इसके दो संतान, व पत्नी है।  वह ओमान में काम करता था। 19 मार्च को घर वापसी को लेकर बीजा मिला था। 22 मार्च को लॉकडाउन की घोषना हो जाने के कारण युवक के खून जांच के लिए 24 मार्च को मेडिकल टीम ने सेम्पल लिया था । खून जांच के क्रम में संक्रमण का मामला सामने आने के बाद से मेडिकल टीम शुक्रवार की रात करीब 11 बजे उसे घर से लेकर चली गई। रघुनाथपुर रेफलर अस्पताल प्रभारी चिकित्साधिकारी डाॅ० विजय साह ने बताया कि पीड़ित के परिवार में कुल छः सदस्य है ।

यह भी पढ़े  32 हजार फीट की ऊंचाई पर हार्ट अटैक, इमरजेंसी लैंडिंग के बाद पटना में ऐसे बची जान

आइसोलेशन सेंटर में 83 लोग हुए भर्ती
14 दिन के लिए प्रखंड क्षेत्र के सभी पंचायतो में कोरेनटाईन सेंटर में रहने की व्यवस्था की गईं है। इन लोगों को आइसोलेशन सेंटर में रखा जा रहा है। रखे जा रहे लोगो को चिकित्सा सुविधा के साथ साथ खाना आदि की सुविधा भी दी जा रही है, जिसे लेकर प्रखंड क्षेत्र के सभी आइसोलेशन सेंटर मे रह रहे लोगो की भोजन तैयार कर भेजे जाने की व्यवस्था नौतन मुखिया कृष्णा प्रसाद को दी गई है। इस संबंध में मुखिया कृष्णा प्रसाद ने कहा कि बडी जिम्मेवारी के साथ सुबह आठ बजे के पहले भोजन तैयार कर प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों के आइसोलेशन सेंटर में भेजा जा रहा है। प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों में अभी तक 83 लोग आ चुके है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here