दिल्ली हिंसा पर अमित शाह ने की अहम बैठक, सुरक्षाबलों को दिए अहम निर्देश

0
22

सूत्रों के मुताबिक गृह मंत्री अमित शाह की बैठक में पुलिस और स्थानीय विधायक के बीच बेहतक समन्वय बनाने की बात भी कही गई. हिंसा के साइट पर इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस और ड्रोन के जरिये कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए. बैठक में फैसला हुआ कि पुलिस बल के सहयोग के लिए और अर्धसैनिक बल बढ़ाए जाएंगे. खुफिया एजेंसी से मिली जानकारी के मुताबिक कुछ लोग भेष बदलकर सांप्रदायिक सदभाव बिगाड़ने के लिए धर्म विशेष के नारे लगा रहे हैं. गृहमंत्रालय ने पुलिस से इन पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए.

गृहमंत्री अमित शाह ने एलजी अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ बैठक के बाद पुलिस कमिश्नर और आईबी चीफ के साथ अलग से बैठक की. सूत्रों के मुताबिक गृहमंत्री अमित शाह की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए. बैठक के बाद निर्देश दिए गए कि पुलिस हिंसा फैलाने वाले लोगो पर कड़ी नज़र रखे. अफवाह फैलाने वाले लोगों और सोशल साइट पर गृह मंत्रालय की कड़ी नज़र रखने के लिए भी कहा गया है.

यह भी पढ़े  स्कूल में 8 साल की बच्ची से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार,

गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी पर हमला बोलते हुए ओवैसी ने कहा- उनकी नाक के नीचे हिंसा हो रही है. हैदराबाद में पड़े हुए हैं, उनसे कहिए कि दिल्ली जाकर अपना काम करें. यहां बैठकर कबतक मेरे नाम की मिठाई खाते रहेंगे. अभी तक सात लोग मर चुके हैं, अभी खबर आ रही है कि एक की और मौत हुई है. गृह राज्य मंत्री यहां बैठकर मिठाई खाने के बजाए दिल्ली जाकर आग बुझाएं.

दिल्ली में हिंसा को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है. ओवैसी ने कहा- दिल्ली चुनाव में अनुराग ठाकुर का बयान हो या अभी कपिल मिश्रा का बयान हो यह उनके अपने बयान नहीं है, यह सब पार्टी ने उनको कहने के लिए कहा. अब इसके एक दो दिन बाद मोदी जी आएंगे और मन की बात करेंगे. मोदी जी कहेंगे कि क्या हो रहा है, लेकिन अभी तक चुप्पी क्यों है इस पर कोई सवाल नहीं उठा रहा. अभी तक सरकार ने इसकी निंदा क्यों नहीं की. बैठक के लिए इतनी देर क्यों की गई, पुलिस को अब तक क्यों नहीं उतारा गया. यह कोई गांव नहीं है देश की राजधानी है.

यह भी पढ़े  मोदीमय हो गया ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष

गौतम गंभीर ने कहा- जब तक शाहीन बाग में शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा था, हम यही कह रहे थे कि यह आपका अधिकार है. हमने यह भी कहा कि अगर आपके पास कोई संदेह है तो उसे सरकार के पास आकर क्लीयर करिए. सरकार की जिम्मेदारी है आपके संदेह दूर करने की. लेकिन अगर आप योजनाबद्ध तरीके से अमेरिकी राष्ट्रपति की मौजूदगी में दुनिया को संदेश भेजना चाहते हैं कि दिल्ली सुरक्षित नहीं है तो यह अस्वीकार्य है.

गंभीर ने कहा- 35 साल के डीएसपी आईसीयू में भर्ती हैं, एसीपी अस्पताल में भर्ती हैं. अगर आप वर्दी में लोगों के साथ ऐसा बर्ताव करेंगे तो फिर यह आम आदमी खुद के कैसे सुरक्षित महसूस करेगा. जिन भी लोगों ने यह किया है उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. कल एक युवक ने आठ राउंड फायर किए और एक कॉन्सटेबल के सामने पिस्टल लेकर खड़ा हो गया. क्या यह शांतिपूर्ण प्रदर्शन है.

यह भी पढ़े  राम मंदिर निर्माण का फैसला सुप्रीम कोर्ट ने दे दिया है, अब राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी आपके कंधों पर है: पीएम मोदी

नेताओं के विवादित बयान पर गंभीर ने कहा- कपिल मिश्रा हों या किसी भी पार्टी का नेता हो, अगर आप उकसावे के लिए भाषण देंगे तो यह अस्वीकार्य है. कोई हो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. मैं यह कभी बर्दास्त नहीं करूंगा कि लोगों को उकसाने के लिए भाषण दिए जाएं. यहा कोई अपना पराया नहीं है, आप किसे उकसा रहे हैं. अभी संतुलित तरीके से स्थिति को संभालना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here