टॉस जीत जाते कोहली तो भी क्या होता…न्यूजीलैंड में ये फॉर्मूला भी रहा है फेल

0
27

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को लगता है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में टॉस की भूमिका अहम रही, लेकिन अब तक के रिकॉर्ड कुछ और ही कहानी बयां करते हैं. दरअसल, भारत ने कीवी सरजमीं पर केवल एक बार टॉस और मैच दोनों जीते हैं. भारत को वेलिंग्टन में पहले टेस्ट मैच में 10 विकेट से करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी. भारत टॉस हार गया और पहले बल्लेबाजी करते हुए उसकी टीम 165 रनों पर सिमट गई. इसके जवाब में न्यूजीलैंड ने 348 रन बनाकर 183 रन की बढ़त ली. भारतीय बल्लेबाज दूसरी पारी में भी नहीं चले और केवल 191 रन ही बना पाए.

कोहली ने मैच के बाद कहा था, ‘टॉस महत्वपूर्ण साबित हुआ. इसके साथ ही हम बल्लेबाजी इकाई के रूप में प्रतिस्पर्धी होने पर गर्व करते हैं, लेकिन यहां हमने पर्याप्त प्रतिस्पर्धा नहीं दिखाई.’ रिकॉर्डों की बात करें तो भारत ने अब तक न्यूजीलैंड में कुल 24 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें से पांच में जीत दर्ज की, जबकि नौ मैच उसने गंवाए हैं. बाकी दस मैच ड्रॉ समाप्त हुए.

यह भी पढ़े  क्रिकेट की पिच पर फिटनेस का खूंटा गाड़ने वाले विराट कोहली मना रहे हैं 31वां जन्मदिन

न्यूजीलैंड में भारत का ये रहा टॉस रिकॉर्ड

भारत ने न्यूजीलैंड में जो पांच मैच जीते हैं उनमें से चार मैचों में उसने टॉस गंवाया था. न्यूजीलैंड में टास गंवाने पर भारतीय रिकॉर्ड 11 मैचों में चार जीत और चार हार का है, जबकि इसके विपरीत टॉस जीतने पर उसका रिकॉर्ड 13 मैचों में एक जीत और पांच हार का है.

भारत ने पिछले 44 वर्षों में यानी पांच फरवरी 1976 से लेकर अब तक न्यूजीलैंड में 19 टेस्ट मैचों में केवल एक मैच जीता है, जबकि आठ मैच उसने गंवाए हैं. इन 19 मैचों में से 12 मैच में भारत ने टॉस जीता था, लेकिन उसे केवल एक मैच में जीत मिली. यह मैच भारत ने हैमिल्टन में 2009 में जीता था, जिसमें मौजूदा टीम के सदस्य ईशांत शर्मा भी खेले थे.

टॉस को अहम बताया था कोहली ने

कोहली ने टॉस को महत्वपूर्ण करार दिया. इसका मतलब, वह भी टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करना पसंद करते. भारतीय रिकॉर्ड भी कहता है कि उसके लिए न्यूजीलैंड में बाद में बल्लेबाजी करना अच्छा रहा है. भारत ने कीवी धरती पर 13 मैचों में पहले फील्डिंग की और इनमें से चार मैच में उसे जीत और इतने ही मैचों में हार मिली.

यह भी पढ़े  'भारत में होने जा रहा है NBA मैच, सावधान! मैं आ सकता हूं' :डोनाल्ड ट्रंप

पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम केवल एक मैच जीत पाई और वह भी मार्च 1968 में. कोहली अगर इन परिस्थितियों पर गौर करते हैं तो फिर वह क्राइस्टचर्च में 29 फरवरी से शुरू होने वाले दूसरे और अंतिम टेस्ट मैच में टॉस जीतने पर पहले फील्डिंग का फैसला कर सकते हैं.

क्राइस्टचर्च के हेगले ओवल में ये है रिकॉर्ड

क्राइस्टचर्च के हेगले ओवल की बात करें, तो इस स्टेडियम में अब तक भारत ने एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला है. हेगले ओवल में 2014 से टेस्ट मैच खेले जा रहे हैं. न्यूजीलैंड ने यहां खेले गए 6 मैचों में से 4 में जीत हासिल की है और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक मैच गंवाया है. जबकि एक ड्रॉ रहा. दिलचस्प यह है कि हेगले ओवल में हर बार टॉस जीतने वाली टीम ने पहले फील्डिंग की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here