बिहार में राज्यसभा की 5 सीटों पर 26 मार्च को होंगे चुनाव

0
18
file photo

अप्रैल में राज्यसभा सांसदों के रिटायरमेंट के बाद संसद के उच्च सदन में 55 सीटें खाली होंगी. इसके लिए 26 मार्च को चुनाव कराए जाएंगें. बता दें कि 17 राज्यों की 55 सीटें खाली हो रही हैं. इनमें बिहार की पांच सीटें भी शामिल हैं. जनता दल युनाइटेड की कहकशां परवीन, रामनाथ ठाकुर और हरिवंश. साथ ही बीजेपी के सीपी ठाकुर और आरके सिन्हा का कार्यकाल खत्म हो रहा है. हालांकि आरजेडी के राम जेठमलानी की मौत के बाद खाली हुई सीट को लेकर कोई सूचना नहीं है.

बिहार में आंकड़ों के लिहाज से देखें तो इस बार जेडीयू-बीजेपी के खाते से दो सीटें छिन सकती हैं क्योंकि आरजेडी-कांग्रेस की संयुक्त ताकत और विपक्ष के समर्थन से उनके इनमें से तीन सीटें जीतने की क्षमता नजर आ रही है.

दरअसल राज्य की कुल 243 विधानसभा सीटों में से जेडीयू के पास 70, बीजेपी के पास 54 और एलजेपी के पास दो विधायक हैं. वहीं विपक्षी खेमे के आरजेडी और कांग्रेस के पास क्रमश: 80 और 26 विधायक हैं. जबकि सीपीआई (एमएल) के पास तीन, जीतन राम मांझी की पार्टी हम के पास एक और AIMIM के पास एक विधायक है. जबकि पांच निर्दलीय विधायक हैं. वहीं महिषी विधानसभा सीट रिक्त है.

यह भी पढ़े  कन्या उत्थान योजना पर साल में खर्च होंगे 2,221 करोड़ : मोदी

NDA गठबंधन को हो सकता है दो सीटों का नुकसान

सीटों के गणित के लिहाज से देखें तो एक राज्यसभा सीट के लिए 35 सीटें चाहिए. ऐसे में दो सीटों का नुकसान एनडीए को हो सकता है, वहीं सयुक्त विपक्ष तीन सीटें जीत सकता है. ऐसे में कहा जा रहा है कि कांग्रेस और आरजेडी में एक तरह से समझौता हो चुका है कि दो सीटें आरजेडी के खाते में जाएंगी और एक कांग्रेस के पाले में.

बता दें कि कांग्रेस के कैंडिडेट की जीत तभी संभव होगी जब आरजेडी अपने सरप्लस वोट कांग्रेस को दे और उसे संयुक्त विपक्ष का समर्थन हासिल हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here