Match Fixing: बुकी संजीव चावला को लंदन से भारत लाया गया, खुल सकते हैं कई राज

0
26

मैच फिक्सिंग के सरगना संजीव चावला को गुरुवार को लंदन से भारत लाया गया. कोर्ट के फैसले के बाद इंग्लैंड ने चावला को बुधवार को प्रत्यर्पित किया था. संजीव चावला कथित तौर पर मैच फिक्सिंग रैकेट में शामिल था. अब दिल्ली की क्राइम ब्रांच उससे पूछताछ करेगी. मैच फिक्सिंग मामले में कई क्रिकेटरों के भी नाम आए थे. संजीव चावला से ऐसे कई चेहरे बेनकाब हो सकते हैं.

दिल्ली पुलिस गुरुवार सुबह 10.30 बजे संजीव चावला को भारत लेकर आई. अब उसे आरकेपुरम में क्राइम ब्रांच ऑफिस ले जाया जाएगा. इसके बाद उसे अदालत में पेश कर रिमांड लेने की कोशिश की जाएगी. संजीव चावला साल 2000 में खेल जगत को हिला देने वाले मैच फिक्सिंग कांड का मुख्य आरोपी है. उसे भारत लाने के लिए डीसीपी राम गोपाल नाइक की टीम इंग्लैंड गई थी.

बता दें कि संजीव चावला 1996 में ही लंदन पहुच गया था. सूत्रों के मुताबिक चावला ने मुंबई के उद्योगपतियों और डी-कंपनी के संचालकों के संरक्षण में 90 के दशक में सट्टेबाजी गिरोह का संचालन किया था. आरोप है कि उसने दक्षिण अफ्रीका, भारत, पाकिस्तान और अन्य देशों के शीर्ष क्रिकेटरों के माध्यम से मैच फिक्स किए. साल 2000 में उसका भारतीय पासपोर्ट रद्द हो चुका है. 2005 में उसे यूके का पासपोर्ट मिल गया था.

यह भी पढ़े  तीसरे टेस्ट में टीम इंडिया ने दर्ज की धमाकेदार जीत, 37 साल बाद किया मेलबर्न फतह, सीरीज में बनाई 2-1 की बढ़त

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने साल 2000 में भारत-दक्षिण अफ्रीका मैच को फिक्स करने के लिए मेहमान टीम के तत्कालीन कप्तान हैंसी क्रोन्ये और पांच अन्य के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी. बाद में सबूतों के अभाव में इनमें से हर्शल गिब्स और निकी बोए के नाम बाद में हटा दिए गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here