पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज करेंगे अनावरण

0
66

राजधानी के राजेन्द्र नगर स्थित पार्क में मंगलवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय के आदमकद प्रतिमा का अनावरण होगा. सुबह 11 बजे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों होने वाले अनावरण के दौरान उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ बिहार सरकार के कई मंत्री और आम लोग मौजूद रहेगें. हालांकि प्रतिमा के अनावरण से पहले ही इसपर विपक्ष ने राजनीति भी शुरू कर दी है. बिहार सरकार के भवन निर्माण विभाग की तरफ से ज़ारी आमंत्रण पत्र में लिखा हुआ है, “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कर कमलों द्वारा प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा.” इस कार्यक्रम में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव और भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी शामिल होंगे.

पटना के राजेंद्र नगर में आरएसएस का बिहार का हेडक्वार्टर “विजय निकेतन” है और यह शाखा मैदान ठीक बगल में है. इसी शाखा मैदान में आरएसएस शुरू से शाखा लगाती रही है. पंडित दीनदयाल उपाध्याय पर हाल ही में लिखी किताब का विमोचन पटना में हुआ था.

यह भी पढ़े  दावोस में पीएम इमरान खान से मिले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, कहा- कश्मीर के हालातों पर है नजर

कई महान विभूतियों के गुण से संपन्न थे पंडित दीनदयाल
भाजपा विधायक और सत्तारूढ़ दल के मुख्य सचेतक अरूण कुमार सिन्हा ने कहा कि उपाध्याय जी के अंदर कई महान व्यक्ति के गुण मौजूद थे. उन्होंने कहा कि उपाध्याय जी की पुस्तक है एकात्म मानववाद जिसका सार है कि अंतिम सिरे पर खड़ा व्यक्ति जब तक आगे के श्रेणी यामि अग्रणी भूमिका में नही होगा तब तक राष्ट्र आगे नही जाएगा और राष्ट्रीयता और राष्ट्रभक्ति का कोई मतलब नहीं है. उनके अनुसार राष्ट्रनिर्माण का मतलब देश के एक-एक व्यक्ति को चरित्रवान, धनवान, शक्तिवान और विद्यावान बनाना था. उन्होने कहा कि वे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का भी धन्यवाद करते हैं जो ऐसे महान व्यक्ति के पुण्य तिथि पर उन्हे ऐसी श्रद्वांजलि दे रहे हैं.

कांग्रेस ने नीतीश पर साधा निशाना

पंडीत दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा लगाए जाने की खबर पर कांग्रेस का कहना है कि भाजपा और आरएसएस विचारधारा को मानने वाले नीतीश कुमार ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा लगाने में देरी की है. कांग्रेस विधान पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और भाजपा की दोस्ती तीस साल पूरानी है. यही वजह है कि नीतीश कुमार अब पूरी तरह से भाजपा और आरएसएस के रंग में रंग चुके हैं. प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि नीतीश कुमार जब भाजपा से अलग हुए थे तब उन्होंने कहा था कि वे संघ मुक्त भारत बनाना चाहते हैं. लेकिन विडंबना देखिए आज उसी संघ विचारक और जनसंघ के पंडीत दीन दयाल उपाध्याय के प्रतिमा का अनावरण कर रहे हैं. कांग्रेस ने कहा कि जनता सब देख और जान रही है, इसका हिसाब वो चुनाव में लेगी.

यह भी पढ़े  ओडिशा क्रिकेट एसोसिएशन के पूर्व सचिव को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

राजद ने कहा अन्य विभूतियों की भी लगे प्रतिमा
वहीं राजद का कहना है कि देश के महान विभूतियों की प्रतिमा लगाने में कोई हर्ज नहीं है. इससे नई पीढ़ी को इतिहास की जानकारी मिलती है. लेकिन नीतीश कुमार और भाजपा को चाहिए कि वो सिर्फ भाजपा या आरएसएस के व्यक्ति की प्रतिमा न लगाएं. कई समाजवादी और महान विभूति और भी हैं जिन्हे सम्मान दिया जाना चाहिए. राजद नेता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि उनका दल तो नीतीश कुमार को भाजपा की ही बी टीम मानता है और नीतीश कुमार भी भगवा रंग में रंग चुके है यह भी पूरा बिहार जानता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here