CAA के समर्थन में उतरे राज ठाकरे, बोले- PAK और बांग्लादेश के घुसपैठियों को फेंको बाहर

0
38

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे अपने पुराने रंग में लौट आए हैं. अपने बेबाक बोल के लिए जाने जाने वाले राज ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि भगवा मेरे डीएनए में है. साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का समर्थन किया और कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को बाहर फेंक देना चाहिए. बाला साहेब ठाकरे की जयंती पर पार्टी के झंडे के रंग को भगवा में बदलने वाले राज ठाकरे ने मुंबई में कहा कि भगवा झंडा साल 2006 से मेरे दिल में था. हमारे डीएनए में भगवा है. मैं मराठी हूं और एक हिंदू हूं. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मुसलमान भी अपने हैं. उन्होंने इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया. MNS प्रमुख ने कहा कि मैं हमेशा कहते रहा हूं कि पाकिस्तान और बांग्लादेश के घुसपैठियों को देश से बाहर फेंक देना चाहिए. राज ठाकरे कई बार पीएम मोदी की आलोचना भी कर चुके हैं. इसपर उन्होंने कहा कि मुझे जब लगता है कि जो उन्होंने कहा कि वो सही नहीं तो मैं उनकी आलोचना करता हूं, लेकिन जब वो अच्छा काम किए तो मैं तारीफ भी किया. वहीं महाराष्ट्र सरकार पर उन्होंने कहा कि मैं रंग बदलने वाली सरकारों के साथ नहीं जाता.

यह भी पढ़े  सुनिश्चित करना होगा कि बच्चे स्वस्थ होकर शिक्षा प्राप्त करें:बिल गेट्स

वहीं उन्होंने कहा कि अगर किसी ने मुझे मराठी समझकर या हिंदू समझकर नाखून भी लगाया तो मैं छोड़ूंगा नहीं। मैं मराठी भी हूं और हिंदू भी हूं। मैंने धर्मांतरण नहीं किया हैं। पार्टी के झंडे पर उन्होंने कहा-‘ पिछले साल भर से मैं सोच रहा था की राजमुद्रा वाला यह झंडा लाऊ.. ये सिर्फ संयोग हैं की यह झंडा अभी आया है। उन्होंने कहा कि हमने दो झंडा लाया है। राजमुद्रा वाला झंडा चुनाव के दौरान इस्तमाल नहीं करेंगे। जनसंघ ने भी अपना झंडा बदला था.. हम पहले नहीं हैं।’

राज ठाकरे ने कहा-जब मैने पार्टी की स्थापना की थी तब कई लोग आए बोले की आपकी पार्टी के झंडे में हरा रंग हो..ये रंग हो वो रंग हो। तब उन लोगों ने कहा की सोशल इंजीनियरिंग हैं। इस अधिवेशन के बहाने यह झंडा आपके सामने लाया। ये महाराज की राजमुद्रा हैं.. इसलिए जब भी इसे हाथ में लो तो वह टेढ़ा-मेढ़ा नहीं हो सकता।

यह भी पढ़े  डीएसएस ने लालू परिवार पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here