फ्लॉप रही मानव श्रृखंलाः विपक्ष

0
118
Patna: Peoples make a long human chain in support of 'Jal Jivan Hariyali Movement' against climate crisis, prohibition and social ills including dowry and child marriage, in Patna on Sunday January 19, 2020

बिहार प्रदेश कमिटी के अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा ने मानव श्रृंखला को फ्लाप बताया। उन्होंने कहा कि इस श्रृंखला में छोटे–छोटे बच्चे को भयानक कष्ट से गुजरना पडा। श्रृंखला में कतार पूरा करने के लिए कई जगह बच्चों को ट्रकों और अन्य गाडियों में जानवरों की तरह एक जगह से दूसरी जगह ढोया गया जो अमानवीय है। आज पूरे राज्य में ठंड अपनों चरम पर है फिर भी अभिभावकों ने अपनें कलेजे पर पत्थर रख कर बच्चों को मानव श्रृंखला में भेजा। क्या मुख्यमंत्री को यह लगता है कि कल से राज्य गायब हो जायेगा। प्रदूषण दूर करनें के लिये व्यापक योजना बनाकर काम करनें की जरूरत है न कि दिखावे की। जिस राज्य में भूख और गरीबी अपनों चरम पर हो‚ बेरोजगारों की संख्या रोज बढ रही हो‚ किसानों को सुविधा के नाम पर बस वादे हों वहाँ जल जीवन हरियाली के नाम करोडों का खर्घ्च एक बेईमानी रौ प्रासनिक भ्रष्टाचार नहीं तो और क्या है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वी के ठाकुर ने कहा है कि जनसमर्थन नहीं मिलने के कारण बहुप्रचारित मानव श्रृंखला का आयोजन फ्लॉप हो गया। बिहार प्रदेश कांग्रेस के पूर्व सचिव सिद्धार्थ क्षत्रिय ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने राजधानी के हड़़ताली मोड‚ बोरिंग रोड़ चौराहा‚ राजापुर पुल‚ अशोक राजपथ समेत कई इलाके में मानव श्रृंखला के विरोध में जागते रहो बिहार लिखकर पोस्टर चस्पा किया। पोस्टर में पुराने वादे याद दिलाकर नीतीश सरकार से हिसाब मांगा,

यह भी पढ़े  मजदूरों के लिए 13 योजनाएं क्रियान्वित :मोदी

जल जीवन हरियाली के तहत बनी मानव श्रृंखला असफल’
जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद पप्पू यादव ने जल जीवन हरियाली अभियान के तहत बनने वाली मानव श्रृंखला को असफल बताते हुए कहा कि यह सरकारी पैसों और संसाधनों की पूरी तरह से बर्बादी है। एक तरफ जहां सरकार से पटना में बाढ पीडितों के लिए हेलीकप्टर की व्यवस्था नहीं हो सकी थी‚ आम जनता त्राहिमाम करती रही। बिहार की गौरव शारदा सिन्हा बाढ में फसी रहीं‚ वहीं दूसरी ओर इस फिजूलखर्ची वाले आयोजन के फोटोग्राफी के लिए १८ हेलीकॉप्टरों की व्यवस्था की गई है जो शर्मनाक है। नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए पप्पू यादव ने कहा कि सरकार के करोडों रुपये खर्च करने और तमाम इंतजामात के बाद भी यह आयोजन असफल रहा हैं। यह पूरी तरह से जनता के पैसों की बर्बादी है। बिहार की जनता ने इसका बहिष्कार किया है। पूरे बिहार में हर जिले से हमने जानकारी ली है लेकिन कहीं भी इस अभियान को जनता का सहयोग और समर्थन नहीं मिला है। ॥

यह भी पढ़े  एके-47 की बरामदगी मामले में विधायक अनंत सिंह की हुई पेशी

‘मानव श्रृंखला के लिए सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग’
आम आदमी पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष शत्रुघ्न साहू ने कहा कि मानव श्रृंखला के लिए सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया गया। उन्होंने कहा कि जल जीवन हरियाली अभियान के साथ नशा मुक्ति‚ बाल विवाह रोकथाम एवं दहेज प्रथा उन्मूलन को लेकर बिहार सरकार द्वारा आहूत मानव श्रृंखला के लिए समय तथा धन की बर्बादी की गई। श्री साहू ने कहा कि सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए सरकार ने गंभीर मुद्दे को गर्त में धकेल दिया। उन्होंने कहा कि सुशासन का नारा देकर सत्ता में आने वाली नीतीश सरकार जनादेश के साथ न्याय नहीं कर रही है। श्री साहू ने यह भी कहा कि आने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार और सुशील मोदी की ड़बल इंजन की सरकार को जनता जवाब देगी।

क्या मानव श्रृंखला के माध्यम से संदेश देकर प्राकृतिक संतुलन को बचाया जा सकता हैः लोजपा (से.)
लोक जनशक्ति पार्टी (सेक्युलर) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर पूछा है कि क्या सिर्फ मानव श्रृंखला के माध्यम से संदेश देकर प्राकृतिक संतुलन को बचाया जा सकता है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सत्यानन्द शर्मा‚ कार्यकारी अध्यक्ष सह मुख्य प्रवक्ता विष्णु पासवान‚ युवा लोजपा (से.) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल कुमार पासवान के हस्ताक्षर से लिखे गये पत्र में कहा गया है कि जल जीवन हरियाली के लिए जो मानव श्रृंखला का कार्यक्रम किया गया जिसमें बिहार सरकार की ४५० करोड रुपये से ज्यादा की राशि खर्च की गयी। इसकी उपयोगिता जल संरक्षण मानव जीवन और बंद संरक्षण के लिए कितनी होगी। मानव श्रृंखला तो बनी फिर सब लोग अपने–अपने घर जायेंगेऔर सब भूल जायेंगे।आगे इन नेताओं ने पत्र में लिखा है कि नीतीश कुमार की सरकार एक तरफ जल जीवन हरियाली का नारा दे रहे हैं दूसरी ओर बडे पैमाने पर पहाड तोडे जा रहे हैं। जंगल की कटाई हो रही है। जंगल विनष्ट हो रहे हैं‚ नदियां विलुप्त हो रही हैं‚ नदियों के तल की सफाई आजतक नहीं करायी गयी जिसके कारण लगातार बाढ़ जैसी विभीषिका का सामना प्रत्येक वर्ष बिहार की चार करोड की आबादी को करना पडता है। इस आशय कि जानकारी पार्टी के राज्य मुख्यालय से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में पार्टी के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष सह मुख्य प्रवक्ता विष्णु पासवान ने दी।

यह भी पढ़े  आईटीआई माफिया के विरुद्ध गठित होगी एसआईटी : मंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here