मकर संक्रांति पर दही-चूड़ा भोज में घुलेगी सियासी मिठास

0
77

मकर संक्रांति के मौके पर यहां प्रतिवर्ष सियासी दही-चूड़ा भोज का आयोजन होता है. इससे कई दलों में मिठास घुलती है तो कई दलों में आलू-दम के स्वाद से तीखापन भी तय कर जाता है.

बिहार भले ही ठंड से ठिठुर रहा है, परंतु राज्य में मकर संक्रांति (Makar Sankranti)  के मौके पर होने वाले भोज को लेकर सियासत गर्म हो गई है. मकर संक्रांति पर ‘सियासी दही-चूड़ा भोज’ की तैयारी प्रारंभ है, परंतु अभी तक कौन नेता किस दल के भोज में शामिल हो रहा है, इसे लेकर संशय बना हुआ है.

मकर संक्रांति के मौके पर यहां प्रतिवर्ष सियासी दही-चूड़ा भोज का आयोजन होता है. इससे कई दलों में मिठास घुलती है तो कई दलों में आलू-दम के स्वाद से तीखापन भी तय कर जाता है.

इस भोज को लेकर कतरनी चूड़ा का स्टॉक जुटाया जा रहा है, तो दही और गया की तिलकुट की व्यवस्था की जाती है. वैसे, कभी इस भोज के लिए चर्चित रहे राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के आवास पर इस साल चूड़ा-दही के भोज का आयोजन नहीं हो रहा है. वहीं लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) भी दही-चूड़ा भोज का आयोजन नहीं कर रही है.

यह भी पढ़े  अब कम्प्यूटर के एक क्लिक से जानें अपराधी का क्राइम रिकॉर्ड : उपमुख्यमंत्री

इस बार जनता दल युनाइटेड (JDU) और कांग्रेस (Congress) के साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधान पार्षद रजनीश कुमार द्वारा बड़े स्तर पर दही-चूड़ा भोज का आयोजन किया गया है.

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर 15 जनवरी को दही-चूड़ा भोज का बड़ा आयोजन है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar), उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) सहित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के सभी दिग्गज इसमें शामिल होंगे.

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का भी आना तय माना जा रहा है. वशिष्ठ नारायण सिंह काफी वर्षों से इस भोज का आयोजन करते रहे हैं.

पटना: बिहार भले ही ठंड से ठिठुर रहा है, परंतु राज्य में मकर संक्रांति (Makar Sankranti)  के मौके पर होने वाले भोज को लेकर सियासत गर्म हो गई है. मकर संक्रांति पर ‘सियासी दही-चूड़ा भोज’ की तैयारी प्रारंभ है, परंतु अभी तक कौन नेता किस दल के भोज में शामिल हो रहा है, इसे लेकर संशय बना हुआ है.

यह भी पढ़े  एससी-एसटी कानून कमजोर नहीं किया जा सकता

मकर संक्रांति के मौके पर यहां प्रतिवर्ष सियासी दही-चूड़ा भोज का आयोजन होता है. इससे कई दलों में मिठास घुलती है तो कई दलों में आलू-दम के स्वाद से तीखापन भी तय कर जाता है.

इस भोज को लेकर कतरनी चूड़ा का स्टॉक जुटाया जा रहा है, तो दही और गया की तिलकुट की व्यवस्था की जाती है. वैसे, कभी इस भोज के लिए चर्चित रहे राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के आवास पर इस साल चूड़ा-दही के भोज का आयोजन नहीं हो रहा है. वहीं लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) भी दही-चूड़ा भोज का आयोजन नहीं कर रही है.

इस बार जनता दल युनाइटेड (JDU) और कांग्रेस (Congress) के साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधान पार्षद रजनीश कुमार द्वारा बड़े स्तर पर दही-चूड़ा भोज का आयोजन किया गया है.

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर 15 जनवरी को दही-चूड़ा भोज का बड़ा आयोजन है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar), उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) सहित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के सभी दिग्गज इसमें शामिल होंगे.

यह भी पढ़े  राजग से अपने संबंध पर मौन साधे हैं उपेन्द्र

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का भी आना तय माना जा रहा है. वशिष्ठ नारायण सिंह काफी वर्षों से इस भोज का आयोजन करते रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here