एजाज लकड़वाला गिरफ्तारी मामले में मुंबई पुलिस को था सब पता‚ पटना पुलिस थी अनजान

0
102

महाराष्ट्र में मुंबई का मोस्टवांटेड और कुख्यात दाऊद इब्राहिम का सहयोगी गैंगस्टर एजाज लकड़वाला को राजधानी पटना के जक्कनपुर थाना क्षेत्र के मीठापुर फ्लाइओवर के निकट से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि सटीक इनपुट के बाद पुलिस उपाधीक्षक के नेतृत्व में मुंबई से आयी अपराध शाखा की टीम ने स्थानीय पुलिस के सहयोग से एजाज लकड़वाला को बुधवार की देर शाम गिरफ्तार कर लिया। वह पटना के रास्ते नेपाल भागने की कोशिश कर रहा था। लकड़वाला दाऊद इब्राहिम का सहयोगी रहा था और वह इलाज के दौरान वर्ष 2003 में अस्पताल से फरार हो गया था। उस पर 25 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं। अपराध शाखा की टीम आरोपी को यहां पेशी के बाद अपने साथ मुंबई ले गयी। मुंबई के संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) संतोष रस्तोगी ने बताया कि लकड़ावाला को 21 जनवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। उसे बुधवार रात गिरफ्तार किया गया।

कुख्यात दाऊद इब्राहीम के खास रहे गैंगस्टर एजाज लकड़़वाला को दबोचने की रणनीत को मुंबई पुलिस ने काफी गोपनीय रखा था। पटना पुलिस और उसकी विशेष टीम को इसकी भनक भी नहीं लग सकी थी कि दाऊद का गुर्गा पटना आ रहा है और मुंबई पुलिस उसके पीछे लगी है। जक्कनपुर पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि एजाज मीठापुर में किसी होटल में ठहरा था। पुलिस ने इस बात की तस्दीक की है कि उसे बुधवार को दस बजे दिन में उत्तर बिहार से आने वाली बस से उतरते मुंबई पुलिस ने दबोचा। जक्कनपुर पुलिस को सहयोग के लिए मौके पर बुलाया गया था। पटना पुलिस को उस वक्त सहयोग के लिए बुलाया गया जब मंबई पुलिस को पक्की खबर हाथ लग गयी कि एजाज लकडवाला अमुक बस से मीठापुर बस स्टैंड़ उतरने वाला है। मुंबई पुलिस को एजाज के बारे में लिंक 28 दिसम्बर को मुंबई में पकड़़ी गयी उसकी बेटी शिपा सईद से मिली थी। उसे दबोचने के दो घंटे के अंदर ही मुंबई पुलिस तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उसे लेकर मुंबई उड गयी।
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक‚ एजाज लकड़़वाला की बेटी शिपा सईद को मुंबई एयरपोर्ट पर उस वक्त पुलिस ने दबोचा था जब वह सोनिया नाम से फर्जी पासपोर्ट के आधार पर अपनी बेटी के साथ विदेश फरार होने वाली थी। दाऊद के लिए गैंगस्टर एजाज काम करता था। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक‚ एजाज की बेटी से पुलिस को लिंक मिला था कि वह उत्तर बिहार में नेपाल सीमा पर छुपा है। जनवरी के प्रथम सप्ताह में वह पटना होकर पड़़ोसी राज्य जाने वाला है। पुलिस को यह नहीं पता लग सका कि एजाज किस मकसद को अंजाम देने के लिए नेपाल‚ दरभंगा और फिर पटना के रास्ते पड़़ोसी राज्य़ जाने वाला था।

यह भी पढ़े  छोटे कारोबारियों को लाभ मिलेगा : उपमुख्यमंत्री

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मुंबई पुलिस का खबरी उत्तर बिहार में पिछले एक सप्ताह से उसके पीछे लगा था। जब वह मंगलवार की शाम पटना जाने वाली बस में बैठा तो उसकी खबर मुंबई पुलिस की स्पेशल टीम को दी गयी। सूत्र बताते हैं कि मुंबई पुलिस की स्पेशल सेल के अधिकारी एजाज को किसी भी कीमत पर हाथ से निकलने नहीं देने चाहते थे। यही कारण था कि मुंबई पुलिस की विशेष टीम मंगलवार को देर शाम पटना पहुंच गयी थी। बुधवार को स्पेशल टीम मीठापुर बस स्टैंड़ व आसपास के स्थानों की रेकी कर शांत बैठ गयी थी।
पुलिस सूत्र तो यह भी बताते हैं कि मुंबई पुलिस का खबरी लगातार एजाज को फॉलो कर रहा था। वह रास्ते में कहीं न उतर जाए इस पर भी मुस्तैदी से कड़़ी नजर रखी जा रही थी।

सत्रह वर्ष से फरार था एजाजः दाऊद के लिए काम करने वाला एजाज बाद में छोटा राजन गिरोह के साथ हो गया था। बाद में वह स्वतंत्र रूप से काम करने लगा था। वह 2003 में अस्पताल से भाग निकला था। करीब सत्रह वर्षों तक वह पुलिस के साथ आंख मिचौनी खेलता आ रहा था। दो दर्जन से अधिक गैंगस्टर मामले में पुलिस को उसकी तलाश थी ।

यह भी पढ़े  कोरोना संकट में केंद्र ने शुरू कीं कई योजनाएंःमुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here