पटना में लगा सियासी पोस्टर, नए साल में प्यार दो-प्यार लो के बीच दिखा ‘हिसाब दो-हिसाब लो

0
73

पूरा बिहार जहां नए साल के मौके पर प्यार लो-प्यार दो की थीम पर थिरक रहा था वहीं सियासी महकमे में विधानसभा चुनाव की थिरकन अब साफ नजर आने लगी है। पटना के इन्कम टैक्स चौराहे पर फिर से एक बड़ा पोस्टर लगा हुआ है जिसपर लिखा है हिसाब दो-हिसाब दो। इस पोस्टर पर सबकी निगाहें बरबस टिक जा रही हैं। हालांकि पोस्टर किसने लगाया या लगवाया है, इसका अभीतक पता नहीं चल सका है। क्योंकि इस पोस्टर में किसी पार्टी, संगठन या व्यक्ति का नाम नहीं लिखा है।

पटना के इन्कम टैक्स पर लगे सियासी पोस्टर में हिसाब दो-हिसाब लो के साथ ही 15 साल बनाम 15 साल लिखा है। जिसमे साफ दिख रहा है कि राजद के 15 साल के शासन काल और जदयू के शासन काल की तुलना की गई है। पोस्टर में लालू-राबड़ी दिख रहे हैं और पीछे खून के धब्बे, आग और अपराध को दर्शाया गया है तो वहीं पोस्टर के दूसरी तरफ हाथ जोड़े सीएम नीतीश कुमार खड़े हैं और पीछे बिहार में हुए विकास को दिखाया गया है।

यह भी पढ़े  ओल्गा टोकारजुक और पीटर हैंडके साहित्य का नोबेल पुरस्कार

आनेवाले विधानसभा चुनाव से पहले इस पोस्टर ने सूबे की सियासी सरगर्मी को बढ़ा दिया है। ये साफ इंगित कर रहा है कि पोस्टर के माध्यम से सत्तापक्ष की तरफ से राजद के शासनकाल पर हमला बोला गया है।

बता दें कि इससे पहले राजद ने जदयू को 15 साल बनाम 15 साल पर बहस की खुली चुनौती दी थी। राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने जदयू के राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह के बयान पर पलटवार कर कहा है कि 15 साल बनाम 15 साल पर बहस के लिए जदयू नेता जगह और समय तय करें। एेसे में लगता है कि जदयू की तरफ से राजद को जवाब दिया गया हे कि हिसाब दो-हिसाब लो।

इससे पहले जदयू ने 15 साल बनाम 15 साल के शासन को दिखाते हुए राजद की तुलना गिद्ध से की थी और खुद को कबूतर दिखाते हुए शांति का प्रतीक बताया था। इस पोस्टर में जदयू ने राजद के 15 साल के शासन को भाई का शासन बताया था जबकि नीतीश कुमार के 15 साल के शासन को भरोसे का प्रतीक बताया था।

यह भी पढ़े  बिहार से मजदूरों ने शुरू की वापसी

इस पोस्टर के जारी होने के बाद राजद ने इसपर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी और कहा था कि इस मुद्दे पर बहस होनी चाहिए, जिससे कि जनता को सही स्थिति की जानकारी मिल सके। जगदानंद सिंह ने कहा कि राजद के 15 साल के शासनकाल में गरीबों का राज था। वहीं, जदयू के 15 साल के शासनकाल में अत्याचारियों का राज है।इस समय मूल मुद्दा देश बचाना है।

पिछले दिनों नीतीश लापता का लगा था पोस्टर

जदयू के पोस्टर जारी होने से पहले पिछले दिन नीतीश के लापता होने का पोस्टर पटना में लगाया गया था जिसे जदयू ने राजद की करतूत बताई थी। इस पोस्टर में दिखाया गया था बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लापता हैं और उसे खोजने वाले को इनाम दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here