हैदराबाद पहुंची NHRC की टीम, कथित मुठभेड़ की जांच शुरू

0
25

वेटनरी महिला डॉक्टर के साथ दरिंदगी के चार आरोपियों के पुलिस ने शुक्रवार को एनकाउंटर में मार गिराया था. इस एनकाउंटर से हीरो बनी पुलिस की मुश्किलें अब बढ़ सकती हैं. एनकाउंटर की जांच के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) की टीम हैदराबाद पहुंची है.

एनएचआरसी ने मुठभेड़ को चिंता का विषय बताया था. एनएचआरसी की जांच टीम पुलिस अधिकारियों से एनकाउंटर पर रिपोर्ट तलब कर सकती है. एनएचआरसी ने इस घटना का स्वतः संज्ञान लिया. आयोग ने शुक्रवार को ही जांच के लिए एक टीम को तत्काल रवाना करने का निर्देश दिया था.

हाईकोर्ट ने डेड बॉडी सुरक्षित रखने को कहा

एक तरफ मानवाधिकार आयोग ने जांच का निर्देश दिया है, तो वहीं दूसरी तरफ हाईकोर्ट ने पुलिस से मारे गए आरोपियों की डेड बॉडी 9 दिसंबर तक सुरक्षित रखने को कहा है. हालात की गंभीरता को पुलिस भी समझ रही है. पुलिस ने एनकाउंटर साइट को घेर रखा है. किसी को भी एनकाउंटर स्थल तक आने- जाने की इजाजत नहीं दी जा रही.

यह भी पढ़े  करतारपुर कॉरिडोर: पाकिस्तान से बातचीत , वाघा बॉर्डर पहुंचे भारतीय अधिकारी, चर्चा में कई मुद्दे उठाएगा भारत

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि दल ने महबूबनगर के सरकारी अस्पताल का भी दौरा किया जहां चारों आरोपियों के शव पोस्टमार्टम के बाद रखे गये हैं. एनएचआरसी ने मामले में मुठभेड़ में चार आरोपियों के मारे जाने पर संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को जांच के आदेश दिये थे. देश में मानवाधिकार की सर्वोच्च संस्था ने कहा था कि मुठभेड़ चिंता का विषय है और इसकी सावधानीपूर्वक जांच किये जाने की जरूरत है. एनएचआरसी ने कहा, आयोग की राय है कि इस मामले की जांच बेहद सावधानीपूर्वक किये जाने की जरूरत है. इसी के अनुरूप, उसने अपने महानिदेशक (अन्वेषण) को तत्काल एक तथ्यान्वेषी दल मामले की जांच के लिए मौके पर भेजने को कहा है.

आयोग के दल के यहां से करीब 50 किलोमीटर दूर चट्टनपल्ली गांव में मुठभेड़ स्थल तथा शहर के बाहरी इलाके में स्थित टोल प्लाजा का दौरा करने की भी उम्मीद है जहां 27 नवंबर की रात महिला के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म हुआ था. चारों आरोपियों का पोस्टमार्टम महबूबनगर जिले के सरकारी जिला अस्पताल में हुआ और इसकी वीडियोग्राफी भी करायी गयी है. तेलंगाना उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को प्रदेश सरकार को निर्देश दिया था कि वह चारों आरोपियों के शव नौ दिसंबर को रात आठ बजे तक सुरक्षित रखे. हैदराबाद के निकट शुक्रवार की सुबह पुलिस के साथ मुठभेड़ में चारों अपराधी मार गिराये गये थे. इन चारों को 25 वर्षीय महिला से कथित तौर पर दुष्कर्म और हत्या के आरोप में 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था.

यह भी पढ़े  कांग्रेस को इकट्ठा करके ममता को बनाओ अध्यक्ष, BJP अकेली पार्टी बची रही तो लोकतंत्र होगा कमजोर: सुब्रमण्यम स्वामी

एनकाउंटर पर उठ रहे सवाल

आरोपियों का एनकाउंटर करने के बाद जनता ने पुलिस की तारीफ की. पीड़िता के पिता ने कहा कि मेरी बेटी की आत्मा को शांति मिल गई, लोगों ने पुलिस पर फूलों की वर्षा की, लड़कियों ने पुलिस को धन्यवाद कहा, भारतीय जनता पार्टी ने भी इसे सराहा. इन सबके बीच एनकाउंटर को लेकर सवाल भी उठे.

असदुद्दीन ओवैसी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला दिया कि प्रत्येक एनकाउंटर की जांच होनी चाहिए. वहीं भाजपा सांसद मेनका गांधी ने भी इसे भयानक बताया. राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा था कि हम फांसी की सजा चाहते थे, लेकिन कानूनी प्रक्रिया के तहत. वहीं वृंदा ग्रोवर ने इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने का ऐलान किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here