दूसरे चरण में 60.56% वोट, रघुवर दास समेत 260 उम्मीदवारों की किस्मत इवीएम

0
45

छिटफुट नक्सली घटनाओं के बीच झारखंड विधानसभा के दूसरे चरण का मतदान शांतिपूर्ण रहा. शनिवार को संपन्न मतदान में 60.56 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. इसके साथ ही मुख्यमंत्री रघुवर दास, सरयू राय, विधानसभा के स्पीकर डॉ दिनेश उरांव, ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, जल संसाधन मंत्री रामचंद्र सहिस, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा सहित 260 प्रत्याशियों की किस्मत इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (इवीएम) में लॉक हो गयी.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने बताया कि दूर-दराज के कुछ अन्य इलाकों से मतदान के आंकड़े प्राप्त होने के बाद मतदान प्रतिशत में और बढ़ोतरी हो सकती है. इस चरण में जमशेदपुर पूर्वी सीट पर सबकी नजरें टिकी हैं, जहां राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ उनकी ही सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे सरयू राय चुनाव लड़ रहे हैं.

जिन सात जिलों में मतदान संपन्न हुआ, उनमें गुमला जिला शीर्ष पर रहा. यहां 68.60 फीसदी मतदान हुआ. सबसे कम 46.65 फीसदी मतदान पश्चिम सिंहभूम में हुआ. रांची में 66.40 फीसदी, पश्चिमी सिंहभूम में 64.03 फीसदी, सिमडेगा में 63.99 फीसदी, खूंटी में 63.93 फीसदी और सरायकेला-खरसावां में 60.88 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

विधानसभा क्षेत्रों की बात करें, तो सबसे ज्यादा 74.44 फीसदी लोगों ने बहरागोड़ा में अपना वोट डाला. न्यूनतम मतदान जमशेदपुर पश्चिम में हुआ. यहां सिर्फ 46.65 फीसदी और जमशेदपुर पूर्वी में 49.12 फीसदी मतदान हुआ. घाटशिला में 64.49%, पोटका में 64.30%, जुगसलाई में 63.27%, सरायकेला में 60.05%, चाईबासा में 65.09%, मझगांव में 66.84%, जगन्नाथपुर में 62.57%, मनोहरपुर में 60.03%, चक्रधरपुर में 65.61%, खरसावां में 62.22%, तमाड़ में 68.11%, तोरपा में 64.24%, खूंटी में 63.66%, मांडर में 65.34%, सिसई में 68.60%, सिमडेगा में 62.70% और कोलेबिरा में 65.48% मतदान हुआ.

गुमला जिला के सिसई विधानसभा क्षेत्र के 36 नंबर बूथ पर हुई फायरिंग में एक वोटर की मौत के मामले का निर्वाचन आयोग ने संज्ञान लिया है. स्थानीय प्रशासन से आयोग ने इसकी विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. सिसई के बघनी गांव में मतदान के दौरान पुलिस और पब्लिक के बीच झड़प के बाद पुलिस की ओर से फायरिंग हुई थी, जिसमें एक मतदाता की मृत्यु हो गयी और दो गंभीर रूप से घायल हो गये. दोनों घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है.

यह भी पढ़े  सीट शेयरिंग पर राहुल गांधी से मिले तेजस्वी

अपर पुलिस महानिदेशक एवं झारखंड चुनाव में सुरक्षा मामलों के नोडल अधिकारी मुरारीलाल मीणा ने बताया कि सिसई में सुबह ग्रामीणों और सुरक्षाकर्मियों में किसी बात को लेकर झड़प हो गयी, जिसका लाभ उठाकर कुछ असामाजिक तत्वों ने बूथ नंबर 36 पर आरपीएफ के जवानों से हथियार छीनने की कोशिश की. इसके बाद आरपीएफ की गोलीबारी में एक ग्रामीण की मौत हो गयी और अन्य दो लोग घायल हो गये, जिनका अस्पताल में इलाज जारी है.

अड़की में आइइडी ब्लास्ट, 3 जवान घायल
मतदान संपन्न होने के बाद शाम को खबर आयी कि राजधानी रांची से सटे खूंटी जिला के अड़की क्षेत्र में नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हो गयी. चुनाव कराकर जंगलों से निकल रही टीम को निशाना बनाकर नक्सलियों के आइइडी ब्लास्ट कर दिया, जिसमें तीन जवान घायल हो गये. बाद में यह भी खबर आयी कि यहां सिर्फ फायरिंग हुई है. कोई विस्फोट नहीं हुआ. हालांकि, इसकी आधाकारिक पुष्टि नहीं हुई. एसपी कुछ भी बताने से इन्कार कर रहे हैं.

चाईबासा में नक्सलियों ने वोटर को लाने जा रही बस को जलाया
पश्चिमी सिंहभूम के चाईबासा विधानसभा क्षेत्र में नक्सलियों ने चुनाव कार्य में लगी एक स्कूल बस को फूंक दिया. बताया जाता है कि चाईबासा से 62 किलोमीटर दूर स्थित बरकेला पंचायत के जोजोहातू जंगल में नक्सलियों ने बस को जला दिया. बस शिशु मंदिर स्कूल की थी. मतदाताओं को बूथ तक लाने जा रही बस को नक्सलियों ने रास्‍ते में ही घेर लिया. बस के चालक और सहायक को पीटा और बाद में बस को फूंक दिया.

यह भी पढ़े  Chhapaak: आज रिलीज हो रही है दीपिका की 'छपाक', इन तीन राज्यों ने 'टैक्स फ्री' की फिल्म

झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने कहा कि चाईबासा विधानसभा क्षेत्र के जोजोहातू स्थित बूथ नबंर 84 से वाहन जलाने का मामला सामने आया है. उस बूथ पर 35 लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है. जरूरत पड़ी, तो वहां फिर से मतदान कराया जायेगा. पश्चिम सिंहभूम के ही गोइलकेरा प्रखंड के स्थानांतरित बूथ गम्हरिया पंचायत के चार बूथों के मतदाताओं को लाने गये वाहनों को नक्सलियों ने रोक लिया. इस वजह से मतदाता वोट डालने से वंचित रह गये.

रुपये बांटते पकड़ाये आजसू नेता
घाटशिला विधानसभा क्षेत्र के गुड़ाबांधा प्रखंड के भाखर गांव में आजसू नेता चाईबासा के रहने वाले देवीशंकर दत्ता उर्फ काबू दत्ता को मतदाताओं को प्रभावित करने के उद्देश्य से उनके बीच रुपये बांटते हुए पकड़ लिया गया. दूसरे चरण में मतदाताओं में भारी उत्साह देखा गया. मतदान केंद्रों की निगरानी के लिए काफी संख्या में पोलिंग बूथ पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गयी थी.

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में इन 20 सीटों पर 68.01 फीसदी वोटिंग हुई थी. झारखंड की 81 सदस्यीय विधानसभा के लिए पांच चरणों में 20 दिसंबर तक मतदान होना है. पहले चरण में 13 सीटों पर 30 नवंबर को मतदान हुआ था. सभी 81 सीट पर चुनाव संपन्न होने के बाद 23 दिसंबर को मतगणना होगी.

खूंटी: मुरहू के 252 बूथ संख्या में 7:45 बजे से मतदान शुरू था. ईवीएम ख़राब होने के कारण देर से शुरू हुआ था मतदान. दूसरा ईवीएम लगाया गया.

-खूंटी से भाजपा प्रत्याशी नीलकंठ सिंह मुंडा ने पत्नी संग माहिल स्थित बूथ में मतदान किया.
चाईबासा विधानसभा: मुफस्सिल थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने एक बस में आग लगा दी है. बताया जा रहा है कि यह बस मतदानकर्मियों को पहुंचाने मतदान केंद्र पहुंची थी.

यह भी पढ़े  दलित छात्रों को सस्ती दर पर अनाज :रामविलास पासवान

-जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा के बीपीएम मध्य विद्यालय में मतदान केंद्र संख्या 191 में मतदाताओं की संख्या काफी कम है.

-मांडर विधानसभा: बेड़ो प्रखंड के खुखरा कन्या पाठशाला बूथ नंबर 269 में आधे घंटे देर से शुरू हुआ मतदान.

-सिसई : बूथ नंबर 67 में हंगामा, लाठीचार्ज, पथराव, माहौल गर्म है.

पश्चिम सिंहभूम जिले में सुबह 9 बजे तक 10.33 प्रतिशत मतदान हुआ.
चाईबासा(अ.ज.जा)- 13.31%
मंझगांव(अ.ज.जा)- 14.7%
जगन्नाथपुर(अ.ज.जा)- 12.9%
मनोहरपुर(अ.ज.जा)- 10.12%
चक्रधरपुर(अ.ज.जा)- 11.72%

मतदान प्रतिशत:
सिमडेगा-11.48%
कोलेबिरा-12.04%

जमशेदपुर पूर्वी के कांग्रेस प्रत्याशी गौरव भल्ला टेल्को स्थित विद्या भारती चिन्मया विद्यालय बूथ पर निरीक्षण के दौरान एक मतदाता के मत डालने के दौरान ईवीएम मशीन को देखने पहुंचे. इसको लेकर वहां मौजूद पीठासीन पदाधिकारी व मतदानकर्मियों ने उन्हें रोका. इसको लेकर गौरव भल्ला ने बताया कि वह एक प्रत्याशी के नाते ऐसा कर सकते हैं क्योंकि मतदाता ने अपना वोट डाल दिया था. दरअसल, बटन दबाने के बाद बीप की आवाज नहीं आने पर प्रत्याशी देखने चले गए थे.

-सिमडेगा विधानसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में भी मतदाताओं में मतदान को लेकर खासा उत्साह देखने को मिल रहा है. यहां नक्सल प्रभावित क्षेत्र तामड़ा भेलवाडीह, क्रूस केला, बिलिंगबेरा, जबकाकोना, कुम्हारबन्ध के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी मतदाताओं की कतार सुबह से ही नजर आ रही है. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में भी पुरुष की अपेक्षा महिलाओं में वोटिंग को लेकर ज्यादा उत्साह देखा जा रहा है. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुबह 6:30 बजे से ही मतदाताओं की लंबी लंबी कतारें देखने को मिली. मतदाता घंटों लंबी कतार में खड़े होकर उत्साह पूर्वक वोटिंग कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here