महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला उचित : सुशील मोदी

0
38
file photo

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने महाराष्ट्र में उत्पन्न राजनीतिक गतिरोध के बाद वहां राष्ट्रपति शासन लगाने को उचित कदम बताया है.

उन्होंने ट्वीट किया कि महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को सरकार बनाने का स्पष्ट जनादेश मिला था, लेकिन सहयोगी दल की अनुचित मांग और अव्यावहारिक महत्वाकांक्षा के कारण चुनाव बाद जो गतिरोध पैदा हुआ उसमें  राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला एक उचित कदम है. राज्यपाल ने इसकी सिफारिश कर सिद्धांतहीन गठबंधन, खरीद-फरोख्त और  अवसरवाद की राजनीति पर अल्पविराम लगा दिया है. महाराष्ट्र के अप्रिय घटनाक्रम से उन करोड़ों लोगों को निराशा हुई, जिन्होंने सेवा करने वाली सरकार बनाने के लिए वोट दिये थे.

भाजपा का चाल-चरित्र उजागर : कांग्रेस

बिहार कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता  सदानंद सिंह ने कहा कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन अनुचित है. जब राज्यपाल ने एनसीपी को मंगलवार की रात 8.30 बजे तक का समय दिया था तो उससे पहले राष्ट्रपति शासन लगाये जाने को कभी भी उचित नहीं ठहराया जा सकता है. यह भाजपा के चाल – चरित्र को उजागर करता है.

यह भी पढ़े  आईटीआई पास को मिलेगी 10वीं-12वीं की मान्यता

श्री सिंह ने कहा कि अभी एनसीपी का ही समय बचा हुआ था. उसके बाद महाराष्ट्र में संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस को सरकार बनाने का आमंत्रण मिलना  चाहिए था. बीजेपी की केंद्र सरकार ने लोकतंत्र का गला घोंटने वाला कदम उठाया है. यह जनता के जनादेश का अपमान है. इसके लिए वहां की जनता भाजपा को माफ नहीं करेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here