सुखाकर होगी नमी वाले धान की खरीद : उपमुख्यमंत्री

0
83
file pto

सहकारिता व खाद्य,उपभोक्ता संरक्षण विभाग के आला अधिकारियों के साथ 15 नवम्बर से प्रारंभ होने वाले धान अधिप्राप्ति की समीक्षा बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि 18-18 लाख रुपये की लागत से राज्य के 61 क्रय केन्द्रों पर ड्रायर मशीन लगाई गई है। मानक से अधिक नमी की स्थिति में भी धान को सूखा कर किसानों से खरीद की जायेगी। श्री मोदी ने कहा कि पहले जहां चावल प्राप्ति के बाद पैक्सों को भुगतान करने में महीनों लग जाते थे वहीं इस साल एसएफसी को तीन दिन के अंदर व धान खरीद के 48 घंटों में किसानों को भुगतान करने और 30 नवम्बर के पहले धान की कुटाई के लिए चावल मिलों को पैक्सों से सम्बद्ध करने का निर्देश दिया गया। बैठक में सहकारिता मंत्री राणा रणधीर भी मौजूद थे। 2019-20 के खरीफ मौसम में किसानों को पिछली बार से 65 रुपये अधिक की दर से प्रतिंिटल 1,815 रुपये भुगतान किया जायेगा। इस साल 15 नवम्बर से प्रारंभ होने वाले धान खरीद का लक्ष्य 30 लाख मीट्रिक टन है। चावल रखने के लिए 30 हजार गन्नी बेल्स (बोरा) की खरीद का आदेश दिया गया है। मालूम हो कि पिछले साल 14.44 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद की गई थी। 15 नवम्बर से धान की खरीद शुरू होने पर अगर मानक 17 प्रतिशत से ज्यादा नमी रहती है तो किसानों को राहत देने के लिए ज्यादा नमीयुक्त धान की खरीद की अनुमति के लिए भारत सरकार से आग्रह किया जायेगा। चावल अधिप्राप्ति मद में भारत सरकार के पास बकाए 2,637 करोड़ रपए के भुगतान के लिए राज्य खाद्य निगम को अविलम्ब आवश्यक कागजात जमा करने का निर्देश दिया गया। उपमुख्यमंत्री ने केवल नए निबंधित चावल मिलों का ही भौतिक सत्यापन करने व क्रय केन्द्रों पर दिसम्बर तक और 39 ड्रायर मशीन लगाने तथा 5,500 पैक्सों व 500 से अधिक व्यापार मंडलों के जरिये धान की खरीद समय से शुरू करने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़े  पंडालों में उमड़ी भक्तों की भीड़, जिलाधिकारी ने कहा दुर्गापूजा में घूमें बेखौफ, किसी तरह की आशंका हो तो डॉयल करें100

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद के 15 साल के राज में जातीय दंग हुए और नरसंहारों में सौ से ज्यादा दलित मारे गए। अपहरण उद्योग इतना फला-फूला कि सारे उद्योग-धंधे चौपट हो गए। सामाजिक न्याय की चादर ओढ़कर वे बगुला भगत बने रहे और पिछड़ों-अतिपिछडों की हकमारी करते रहे। उनकी सरकार और संगठन में केवल दो समुदायों को मलाई बांटी जाती रही। श्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि बिहार की जनता ने जब से बगुले और हंस की पहचान कर ली है, तब से बगुले सत्ता के सरोवर-पोखरों से भगा दिये गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की युगलबंदी 2020 के विधानसभा चुनाव में एक बार फिर विकास राग को मुखरित करेगी। राहुल गांधी जब भी विदेश जाते हैं, उनकी यात्रा पर रहस्य का पर्दा बना रहता है। उनके लौटने पर भी देश को बताया नहीं जाता कि उन्होंने विदेश प्रवास के दौरान राष्ट्रहित में क्या-क्या किया। प्रधानमंत्री की पारदर्शी और कूटनीतिक महत्व की विदेश यात्रा बता रही है।

यह भी पढ़े  सीआईएमपी में सौ फीसद छात्रों का कैंपस प्लेसमेंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here