मैं नहीं चाहता कि कानून व्यवस्था खराब हो, इसलिए ईडी दफ्तर नहीं जाने का फैसला किया है:शरद पवार

0
180

25 हजार करोड़ रुपये के महाराष्ट्र स्टेट कॉओपॉरेटिव बैंक घोटाले में आज एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार की प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) दफ्तर में पेशी थी । दोपहर 2 बजे शरद पवार ईडी के सामने पेश होंने वाले थे । एनसीपी कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन को देखते हुए ईडी दफ्तर के बाहर धारा 144 लागू कर दी गई थी । लेकिन मुंबई पुलिस कमिश्नर से मिलने के बाद उन्होंने ईडी जाने के अपने फैसले को रद्द कर दिया है. इससे पहले ईडी ने कहा कि अभी शरद पवार से पूछताछ की जरूरत नहीं है.  

बैंक घोटाले में केस के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने आज (शुक्रवार) प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर जाने का फैसला किया था. हालांकि ईडी की ओर से उन्हें पेशी का नोटिस नहीं दिया गया. शरद पवार का कहना है कि वह बैंक घोटाले में एफआईआर के खिलाफ ईडी दफ्तर जाएंगे और अपना पक्ष रखेंगे. वहीं ईडी ने कहा कि उन्हें दफ्तर में आने की इजाजत नहीं होगी. प्रवर्तन निदेशालय ने शरद पवार को ई-मेल भेजा, जिसमें कहा गया है कि वो आज ईडी के दफ्तर ना आएं लेकिन पवार ईडी दफ्तर जाने पर अड़े रहे.

यह भी पढ़े  इंदौर टी-20 में टीम इंडिया ने मारी बाजी, 7 विकेट से श्रीलंका को दी मात

शरद पवार ने कहा है, ”मैं ईडी दफ्तर नहीं जाऊंगा. मेरे वहां जाने से कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है.” उन्होंने कहा कि मेरा बैंक घोटाले से कुछ लेना-देना नहीं है. इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने शरद पवार को ईमेल के जरिए कहा है कि उनसे अभी पूछताछ की जरूरत नहीं है. खत में ये भी कहा गया है कि शायद आगे भी पूछताछ की जरूरत नहीं पड़े. आगे जैसा होगा बताया जाएगा.

इस बीच मुंबई पुलिस कमिश्नर संजय बार्वे ने शरद पवार से उनके घर जाकर मुलाकात की और उनसे ईडी दफ्तर ना जाने की अपील की. शरद पवार ने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियां उनके साथ हैं और बैंक घोटाले से उनका कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने कहा, मैं नहीं चाहता कि कानून व्यवस्था खराब हो, इसलिए ईडी दफ्तर नहीं जाने का फैसला किया है.

बता दें कि महाराष्ट्र सहकारी बैंक घोटाला मामले में एनसीपी प्रमुख शरद पवार , उनके भतीजे और पूर्व उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार और अन्य के खिलाफ धन शोधन का आपराधिक मामला दर्ज किया गया है. यह घोटाला करीब 25 हजार करोड़ रुपयों का बताया जा रहा है.

यह भी पढ़े  NDA भोज' के बाद अब सुशील मोदी की इफ्तार पार्टी से भी कुशवाहा ने किया किनारा !

शरद पवार ने कहा था कि वो इसका स्वागत करते हैं
दो दिन पहले (बुधवार) शरद पवार ने मीडिया से कहा था कि अगर उन्होंने मेरे खिलाफ भी मामला दर्ज किया है, तो वो इसका स्वागत करते हैं. उन्हें तब आश्चर्य होगा जब राज्य के विभिन्न जिलों में अपनी यात्राओं के दौरान उन्हें मिली प्रतिक्रिया के बाद भी उनके खिलाफ ऐसी कार्रवाई न की जाती.

विधानसभा चुनाव से पहले दर्ज किया गया मामला
यह मामला ऐसे समय पर दर्ज किया गया है जब महाराष्ट्र की सभी 288 सीटों पर 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं. माना जा रहा है कि आरोपियों को जल्द ही उनके बयान दर्ज करने के लिए एजेंसी द्वारा समन किया जाएगा. ईडी मामले में आरोपियों में दिलीपराव देशमुख, इशरलाल जैन, जयंत पाटिल, शिवाजी राव, आनंद राव अदसुल, राजेंद्र शिंगाने और मदन पाटिल शामिल हैं. राज्य की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) द्वारा दर्ज शिकायत के आधार पर इस साल अगस्त में मुंबई पुलिस ने एक एफआईआर दर्ज की थी. मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर के आधार पर ईडी ने धन शोधन के मामले में आपराधिक आरोप लगाए हैं.

यह भी पढ़े  चुनावों में हार के बाद RJD में बगावत के सुर, विधायक ने मांगा तेजस्वी का इस्तीफा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here