पटना उच्च न्यायालय का बड़ा फैसला ,20 संस्कृत कॉलेजों के प्राचार्य बर्खास्त

0
64

पटना हाईकोर्ट ने आखिरकार कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विविद्यालय के 20 अंगीभूत कॉलेजों के प्राचायरे की नियुक्ति रद्द कर दी है। न्यायमूर्ति अनिल कुमार उपाध्याय की एकल पीठ ने इन प्राचायरे की सेवा से बर्खास्तगी का आदेश भी दे दिया है। साथ ही अगले तीन माह के दौरान फिर से नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करने का आदेश जारी किया गया है। हालांकि अदालत ने नई नियुक्ति प्रक्रिया में प्रभावित प्राचायरे को भी आवेदक बनने की अनुमति दे दी है। गौरतलब है कि कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विविद्यालय में 23 कॉलेजों के प्राचायरे की नियुक्ति में धांधली किये जाने का मामला पटना हाईकोर्ट में दायर हुआ था। लम्बी सुनवाई के बाद मंगलवार को ये बड़ा फैसला आया है। डॉ. रमेश झा समेत अन्य द्वारा इस नियुक्ति को लेकर पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। उसी मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह फैसला दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, वर्ष 2008 में विविद्यालय के तत्कालीन कुलपति डॉ. नंदकिशोर शर्मा ने 23 कॉलेजों में प्राचायरे की नियुक्ति की अधिसूचना निकाली थी। इसके आधार पर वर्ष 2009 में नियुक्तियां हुई थीं। इन 23 प्राचायरे में से एक का निधन हो चुका है, जबकि दो रिटायर हो चुके हैं। दो अन्य प्राचायरे का तबादला अन्य विश्ववियालयों में हो चुका है। शेष 18 प्राचार्य अब भी कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विविद्यालय के कॉलेजों में कार्यरत हैं। विविद्यालय के जनसम्पर्क अधिकारी निशिकांत प्रसाद ने बताया कि अदालत के आदेश की प्रति मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े  छह माह में भरें आयुष डॉक्टरों के सभी पद:हाईकोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here