प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोतिहारी से नेपाल तक पेट्रोलियम पाइपलाइन का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से किया उद्घाटन

0
188

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मोतिहारी-अमलेखगंज (नेपाल) पेट्रोलियम उत्पाद पाइपलाइन का उद्घाटन किया. यह दक्षिण एशिया की पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम उत्पादों की पाइपलाइन है. पीएम मोदी ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस पाइपलाइन को उद्घाटन किया.

इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद जब नेपाल ने पुनर्निर्माण का बीड़ा उठाया, तो भारत ने पड़ोसी और निकटतम मित्र के नाते अपना हाथ सहयोग के लिए आगे बढ़ाया. मुझे बहुत खुशी है कि नेपाल के गोरखा और नुवाकोट जिलों में हमारे आपसी सहयोग से फिर से घर बसे हैं. आम लोगों के सिर पर फिर से छत आई है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह बहुत संतोष का विषय है कि दक्षिण एशिया की यह पहली क्रॉस-बॉर्डर पेट्रोलियम पाइपलाइन रिकॉर्ड समय में पूरी हुई है. जितनी अपेक्षा थी, उससे आधे समय में यह बन कर तैयार हुई है. इसका श्रेय आपके नेतृत्व को, नेपाल सरकार के सहयोग को और हमारे संयुक्त प्रयासों को जाता है.

यह भी पढ़े  नके पास कोई मिशन नहीं है. सिर्फ पीएम मोदी को हटाने के लिए एकजुट हुए हैं:योगी आदित्यनाथ

नेपाल पेट्रोलियम पदार्थों के लिए पूरी तरह भारत पर निर्भर है. भारत से होकर ही नेपाल तक पेट्रोल-डीजल से लेकर घरेलू गैस पहुंचता है. नेपाल तक पहुंचने वाला पेट्रोलियम पदार्थों का 80 फीसदी बिहार होकर जाता है. सड़क मार्ग से परिवहन में लगातार समस्या आती रही है और इसके कारण नेपाल अक्सर पेट्रोलियम संकट से जूझता रहा है. पिछले साल नरेंद्र मोदी सरकार ने नेपाल तक पाइपलाइन के जरिये पेट्रोलियम पदार्थ पहुंचाने का एलान किया था. इस साल भारत के मोतिहारी से लेकर नेपाल के अमलेखगंज कर पाइपलाइन बनकर तैयार है.

पश्चिम चंपारण के सांसद डॉ संजय जायसवाल ने बताया कि 2011 में जब जयपुर में पेट्रोल डिपो में भयानक आग लगी थी तब उन्हें भी लग गया था कि रक्सौल से डिपो का स्थानांतरण हो जाए। तब उन्होंने स्टीमेट कमेटी के सदस्य के रूप में जब 2011 में अगली पंचवर्षीय योजना में इस कार्य को शामिल कराया था। इससे बहुत सारे टैंकरों का आवागमन बॉर्डर पर कम हो जाएगा। उन्होंने बताया कि अगले साल इंडियन ऑयल का डिपो छपरा बहास में ट्रांसफर हो जाने से और 24000 सिलेंडर प्रतिदिन की सिलेंडर फैक्ट्री खुल जाने से मोतिहारी, सुगौली, रक्सौल के चारों तरफ का इलाका औद्योगिक क्रांति के रूप में दिखेगा। उन्होंने बताया कि रक्सौल शहर जो हमेशा एक डर के मुहाने पर रहता है कि डिपो में आग लग जाने से पूरा शहर नष्ट हो सकता है उससे मुक्ति मिल जाएगी।

यह भी पढ़े  जीत की संजीवनी से कांग्रेस चुनावी फसल काटने को आतुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here