सुधा डेयरी समस्तीपुर तीसरी बार मिलन समारोह सह संस्कृति कार्यक्रम का आयोजन

0
113
समस्तीपुर :सुधा मिथिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लि0 ‘‘मिथिलांचल का गौरव‘‘ द्वारा नव वर्ष एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर मिलन समारोह एवं प्रीतिभोज के अवसर पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया । मकसद था कर्मचारियों से लेकर संस्थान से जुड़े सभी लोगो के बीच प्रेम अपन्त्व का आदान प्रदान करना ।
इंसानी प्रविर्ती होती प्यार दो प्यार लो यह सिर्फ इंसान में ही नही हर उस जीव में यह प्रविर्ती होती जिसके अंदर परिस्थितियों के अनुकूल इंद्रियों के संचालन की शक्ति होती है ।
कल इसका उदाहरण देखने को मिला मिथिलांचल का गौरव सुधा मिथिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लि में जहाँ पर अपने कर्मियों के साथ साथ संस्था से जुड़े सभी समितियों से आये प्रतिनिधियों के द्वारा दिए गए वक्तव्य से ।
जब डेयरी अपने शिशु काल मे था उस वक्त से जुड़े लोगों की भावनाएं और उनकी संस्था के प्रति सम्पूर्ण समर्पण वहाँ मौजूद हाजरो लोगों को एक जुट होकर इसको आसमान पर पहुचाने के लिए संकल्पित कर रहे थे ।
मिलन समारोह आयोजन का मकसद संस्था से जुड़े हर व्यक्ति का एक दूसरे के सहयोग से संस्था को शिखर पर पहुचाने के लिए एकजुटता सार्थक पहल था । आयोजन में न सिर्फ मिलन समारोह भर था बल्कि कुछ ऐसे प्रतियोगिताये आयोजित थी जो दुनिया के भीड़ में खो चुकी है । उसे जिंदा रखने की एक महत्वपूर्ण पहल भी थी । खास कर रसाकसी , तीन पैर का दौड़ , दही खाओ इनाम पाओ इसके साथ मोमबत्ती दौड़ तथा बॉल फेक प्रतियोगिता प्रमुख थी ।
मोमबत्ती दौड़ अपने आप मे एक महत्वपूर्ण संदेश के साथ आयोजित था ।  यह प्रतियोगिता प्रकास के माध्यम से हर वक्त प्रकाशमान रखना था । हालात की आंधियों के बावजूद अपने वजूद को अपने संस्थान को प्रकाशमान रखने का संकल्प था ।
इस मौके पर संस्था के प्रबंध निदेशक डीके श्रीवास्तव ने विस्तार पूर्वक बताया कि संस्था तरक्की के मार्ग पर तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है जिसका सारा श्रेय कर्मचारियों और संस्थान से जुड़े समितियों और किसानों को जाता है ।
श्री श्रीवास्तव ने बताया कि पूरे देश सहित बिहार में भी मकरसंक्रांति का पर्व एक उत्सव के रूप में मनाया जाता है । खास कर इस दिन दही और चूड़ा हर घर हर व्यक्ति के थाली में पहुचता है तो इसके लिए दूध और दही की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध कराना डेयरी का फर्ज भी है । इसलिए हर साल पर्व से पहले डेयरी पूरी तैयारी करती है ताकी किसी को वंचित नही रहना पड़े । पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष हम रेकॉर्ड बिक्री किये है । दूध के मामले में 11.5 लाख लीटर और दही 89 हजार किलो की बिक्री हुई है जो अब तक का रिकार्ड है ।
अगले वर्ष हम इससे और अधिक लक्ष्य रखेगे ।
श्री श्रीवास्तव ने बताया कि संघ अपने कर्मचारी, मजदूर के बदौलत दिनों दिन प्रगति के पथ पर है। इसका परिणाम है कि इस वर्ष मकर संक्रांति के अवसर पर संघ ने दूध विपणन के क्षेत्र में दही एवं अन्य उत्पाद की बिक्री में संघ अव्वल रहा है। जिसका श्रेय इन मजदूरों को जाता है जो कि इस वर्ष अत्यधिक ठंढ होने के बावजूद भी अपने सम्मानित उपभोक्ताओं को दूध एवं दही की आपूर्ति की गई। आगे भी पर्व-त्योहार पर संघ हमेशा मांग के अनुरुप दूध एवं दुग्धउत्पाद आपूर्ति करता रहेगा। सभी सम्मानित उपभोक्ताओं को मकर संक्रांति के अवसर पर सुधा के साथ जुड़े रहने के लिए बहुत-बहुत बधाई।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि डा0 राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा के कुलपति  रामचन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव ने संस्थान से जुड़े सभी को शुभकामना देते हुए कहा कि मिथिला का गौरव सुधा डेयरी भरोषा का दूसरा नाम है और इस भरोसे को बनाये रखने के लिए प्रबन्ध निदेशक से लेकर सभी कर्मी बधाई के पात्र है ।कुलपति ने कार्यक्रम का विधिवत दीप जलाकर उद्घाटन किया।
सभा की अध्यक्षता कर रहे दुग्ध संघ के अध्यक्ष श्याम शंकर प्रसाद ठाकुर ने अपने संबोधन में संस्था को सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए संकल्प लिए तथा सभी कर्मचारियों को इस वर्ष की उपलब्धि के लिए धन्यवाद दिए । कार्यक्रम में संस्थान के निदेशक मंडल के सदस्यों ने भी अपना-अपना विचार रखा । इस अवसर पर संघ के पूर्व निदेषक मंडल सदस्यों ने भी अपना विचार रखा। संघ के भूतपूर्व अध्यक्ष अशोक कुमार राय, सुर्य नारायण सिंह एवं संजय प्रसाद कार्यक्रम में उपस्थित होकर अपना विचार रखें।
कार्यक्रम के दौरान प्रबंध निदेशक ने रस्सा खींच प्रतियोगिता, दही चुड़ा खाओ प्रतियोगिता, कैंडल मार्च प्रतियोगिता में अव्वल आनेवाले प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।  इस अवसर पर संघ में विभिन्न शाखाओं के बीच खेदकूद प्रतियोगिता किया गया।
 
सबसे खास रही दही खाने की ढाई मिनट की प्रतियोगिता में 15 सदस्यों ने भाग लिया जिसमें से राम बाबू राय 2 किलो 540 ग्राम, शिवशंकर झा 2 किलो 126 ग्राम, चमन कुमार 2 किलो 079 ग्राम तथा सुधीर कुमार ठाकुर ने 2 किलो 048 ग्राम दही खाया जिन्हें प्रबन्ध निदेशक द्वारा  पारितोषिक दिया गया।
इस अवसर पर संघ के सभी वरीय पदाधिकारी, कर्मचारी एवं विभिन्न समितियों, बैंकर्स, वितरकों ने भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन प्रबन्धक (प्रापण) एच०एन० सिंह और श्री मिश्रा ने किया ।

 

यह भी पढ़े  माप-तौल के नियमों को और अधिक प्रभावी रूप में लागू किया जाएगा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here